kedarnath

साल 2013 में केदारनाथ में आई प्राकृतिक आपदा के चलते पूरी केदारनाथ घाटी तहस-नहस हो गई थी। करीब 5000 लोग मारे गए थे। हजारों लोग विस्थापित हो गए थे।

उत्तराखंड में 2013 में आई आपदा से केदारघाटी पूरी से तबाह हो गई थी। इसके बाद सरकार ने केदारघाटी में पु:निर्माण कार्य शुरू किया, लेकिन अब 6 साल बाद एक बार फिर केदारनाथ पर संकट के बादल मंडरा रहे हैं।

केदारनाथ में श्रद्धालुओं के भारी विरोध के चलते विशेष दर्शन पर रोक लगा दी गई है। अब विशेष दर्शनों के लिए बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति (बीकेटीसी) की ओर से मंदिर में 2100 रुपयों की विशेष पर्ची भी नहीं कटेगी।

कहते है बालक के भेष में आए भगवान विष्णु को इसी मौके का इंतजार था। उन्होंने तुरंत घर का दरवाजा अदंर से बंद कर लिया। जब भगवान शिव और माता पार्वती वापस लौटे तो उन्हें घर का दरवाजा अंदर से बंद मिला।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ मंदिर में पूजा अर्चना और साधना की। केदारनाथ के दर्शन के बाद मोदी कहा कि भगवान केदारनाथ का आशीर्वाद भारत और संपूर्ण मानव जाति पर बना रहे। इसके बाद उन्होंने भगवान बदरीनाथ भी रविवार को दर्शन किया। अब पीएम मोदी की केदारनाथ यात्रा पर विवाद शुरू हो गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केदारनाथ के बाद रविवार को बद्रीनाथ मंदिर में भगवान बदरी विशाल के दर्शन किये और पूजा अर्चना की। सुबह केदारनाथ के दर्शन करने के बाद प्रधानमंत्री बद्रीनाथ पहुंचे। मंदिर परिसर में प्रवेश करने पर मंदिर के तीर्थ पुरोहितों ने उनका स्वागत किया।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को केदारनाथ मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद कहा कि भगवान केदारनाथ का आशीर्वाद भारत और संपूर्ण मानव जाति पर बना रहे। मंदिर में पूजा अर्चना करने के बाद प्रधानमंत्री ने वहां मौजूद मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, ‘‘मैं कुछ नहीं मांगता।

केदारनाथ धाम में स्थित एक गुफा में करीब 17 घंटे ध्यान-साधना करने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार सुबह एक बार फिर केदारनाथ मंदिर में पूजा अर्चना की। इससे पहले मोदी कल शनिवार अपराह्न दो बजे गुफा में ध्यान-साधना के लिये गये थे जहां उन्होंने रात्रि विश्राम भी किया।

लोकसभा चुनाव के अंतिम चरण के प्रचार खत्म होने और मतदान से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी उत्तराखंड के केदारनाथ धाम में भगवान भोले नाथ का आशीर्वाद लेने पहुंचे हैं। पीएम दर्शन करने बाद रुद्राभिषेक और पूजा अर्चना करेंगे।

बाबा केदारनाथ के दर्शन के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं को हेली सेवा का इंतजार समाप्त हो गया है। डीजीसीए की अनुमति के बाद आज सुबह से ही श्रद्धालु हेली सेवा के जरिए केदारनाथ पहुंचने लगे हैं। आपको बता दें, गुरुवार सुबह से 5 कंपनियों ने सेवाएं शुरू कर दी हैं।