ranjan gogoi

भारत के पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने गुरुवार को विपक्ष के हंगामे के बीच राज्यसभा के सदस्य के रूप में शपथ ली। जैसे ही चीफ जस्टिस शपथ लेने के लिए निर्धारित स्थान पर पहुंचे, विपक्षी सांसदों ने नारे लगाने शुरू कर दिए। इस दौरान विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया और सदन से वॉक आउट कर गये।

प्राइवेसी यानी निजता के अधिकार को लेकर कांग्रेस नेता मनीष तिवारी का कहना है कि भारत के उच्चतम न्यायालय ने निजता को मूलभूत अधिकार ठहराया है.

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित किया गया है।केंद्र सरकार की ओर से सोमवार देर शाम जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई को राज्यसभा के लिए नामित किया है।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अब राज्यसभा जाएंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें राज्यसभा के लिए नामित किया है। यहां बता दें कि राज्यसभा में 12 सदस्य राष्ट्रपति की ओर से मनोनीत किये जाते हैं। ये सदस्य अलग-अलग क्षेत्रों की जानी मानी हस्तियां होती हैं। रंजन गोगोई 17 नवंबर 2019 को सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस पद से रिटायर हुए थे।

सुप्रीम कोर्ट के पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अब राज्यसभा जाएंगे। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने उन्हें राज्यसभा के लिए नामित किया है। यहां बता दें कि राज्यसभा में 12 सदस्य राष्ट्रपति की ओर से मनोनीत किये जाते हैं।

न्यायमूर्ति शरद अरविंद बोबड़े भारत के अगले चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया (सीजेआई) होंगे। वह वर्तमान मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की जगह 18 नवम्बर को पद ग्रहण करेंगे।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सादगीपूर्ण विदाई समारोह में सबका शुक्रिया अदा करने के बाद प्रेस को इंटरव्यू ना देकर लिखित बयान जारी किया। साथ ही साथी जजों को मीडिया से दूरी बनाए रखने को कहा है।  सीजे रंजन गोगोई ने कहा है कि बेंच और जजों को अपनी आजादी का प्रयोग चुप्पी बनाकर करना चाहिए।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई 17 नवंबर को रिटायर हो रहे हैं। शुक्रवार 15 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन ने चीफ जस्टिस गोगोई को फेयरवेल पार्टी दी। इस फेयरवेल पार्टी में चीफ जस्टिस रंजन गोगोई पहुंचे, लेकिन मीडिया से दूर रहें। उन्होंने अपने विदाई समारोह में परंपरा से हटकर किसी तरह का कोई भाषण भी नहीं दिया।