religious

बाबा बर्फानी की वार्षिक यात्रा शुरू होने में अब जहां मात्र 6 दिन ही शेष बचे हैं, वहीं इस बीच पवित्र गुफा के आसपास बर्फबारी हुई है। रविवार शाम से बालटाल और पहलगाम आधार शिविर के पास भी बारिश का सिलसिला जारी है, जिससे तापमान में भारी गिरावट आ गई है।

:तिथि पंचमी – 21:28:56 तक पक्ष कृष्ण, करण कौलव – 08:17:57 तक, तैतिल – 21:28:56 तक नक्षत्र धनिष्ठा – 21:07:52 तक,सूर्योदय 05:23:56 ,सूर्यास्त 19:22:02  प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। लेन-देन में सावधानी र विवाह प्रस्ताव भेजना चाहते हैं तो रुक जाएं, जल्दबाजी करना भी ठीक नहीं है।

वार गुरूवार, माह ज्येष्ठ, तिथि एकादशी – 16:50:45 तक पक्ष शुक्ल, करण वणिज – 05:37:28 तक, विष्टि – 16:50:45 तक नक्षत्र चित्रा – 10:55:33 तक, सूर्योदय 05:22:43  सूर्यास्त 19:19:29 

हस्तरेखा के अनुसार अगर हाथ के अंगूठे के नीचे जीवन रेखा होती है। इससे घिरा क्षेत्र शुक्र पर्वत होता है। हाथ में अगर इस स्थान से कोई रेखा निकलकर शनि पर्वत पर जा कर मिलती है तो ऐसे व्यक्ति का विवाह के बाद भाग्योदय होता है।

जयपुर: घर का वास्तु कहीं न कहीं पति-पत्नी के रिश्तों पर भी प्रभाव डालता है। अगर घर में सब कुछ उचित है और सभी चीजें वास्तु के अनुसार है तो पति-पत्नी का रिश्ता मधुर रहता है। लेकिन यदि पति-पत्नी का रिश्ता ठीक नहीं है और आए दिन लड़ाइयां होती रहती है, बात-बात पर विवाद होने लगा है …

व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। रुका हुआ धन मिल सकता है। व्यापार-व्यवसाय में उन्नति होगी। स्वास्थ्य अच्‍छा रहेगा। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा।

अशुभ फलों से बचने के लिए और अपनी सेहत को अच्छा बनाये रखने के लिये धार्मिक कार्यों में अपना सहयोग देते रहें। इससे आपको किसी तरह के अशुभ फल का सामना नहीं करना पड़ेगा और आपकी सेहत अच्छी बनी रहेगी।

Ganga Saptami 2019: हिंदू धर्म शास्त्र की पौराणिक मान्यता के अनुसार, भगवान विष्णु के पैर में पैदा हुई पसीने की बूंद से मां गंगा का जन्म हुआ था। जानिए कहानी...

यदि पर्वत अधिक उभार वाला हो और रेखा कटी या टूटी हो तो व्यक्ति अभिमानी, स्वार्थी, क्रूर, कंजूस और अविवेकी होता है। यदि हथेली में सूर्य पर्वत शनि की ओर झुका हो तो व्यक्ति जज एवं सफल अधिवक्ता होता है

शनिदेव की ढैय्या हो या फिर साढ़ेसाती या फिर उनका वक्री होना। सितारों की बदली चाल को लेकर अक्सर हम सभी परेशान हो जाते हैं क्योंकि इसका विभिन्न राशियों पर शुभ-अशुभ प्रभाव जो पड़ता है।