Top

GST अधिकारियों को तंबाकू व्यापारी के घर से करोड़ों की सम्पत्ति के दस्तावेज मिले

जीएसटी के अधिकारियों ने तम्बाकू व्यापारी के आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर छापामारी करने के बाद आवास में तलाशी ली। 48 घंटे से अधिक देर तक चली छापेमारी और पूछताछ में जीएसटी विभाग के अधिकारियों को व्यापारी के घर से साढ़े आठ करोड की नगदी समेत करोड़ों की संपत्ति के दस्तावेज मिले।

Aditya Mishra

Aditya MishraBy Aditya Mishra

Published on 5 April 2019 6:46 AM GMT

GST अधिकारियों को तंबाकू व्यापारी के घर से करोड़ों की सम्पत्ति के दस्तावेज मिले
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

इटावा: यूपी के इटावा जनपद के भरथना इलाके में उस समय हडकंप मच गया जब जीएसटी विभाग के अधिकारियों ने तम्बाकू व्यापारी के घर पर अचानक छापा मार दिया। विभागीय अधिकारियों ने स्थानीय थाना पुलिस के साथ पहले व्यापारी के आवास की चारो तरफ से घेराबंदी की उसके बाद अधिकारियों ने व्यापारी के घर में घुसकर पूछताछ शुरू कर दी।

अधिकारियों ने तम्बाकू व्यापारी के आधा दर्जन से अधिक ठिकानों पर छापामारी करने के बाद आवास में तलाशी ली। 48 घंटे से अधिक देर तक चली छापेमारी और पूछताछ में जीएसटी विभाग के अधिकारियों को व्यापारी के घर से साढ़े आठ करोड की नगदी समेत करोड़ों की संपत्ति के दस्तावेज मिले। जिन्हें अधिकारियों ने अपने कब्जे में लेकर आगे की कार्यवाही शुरू की।

ये भी पढ़ें...रुपे कार्ड और भीम ऐप से पेमेंट पर जीएसटी में छूट का पायलट प्रॉजेक्ट होगा शुरू: पीयूष गोयल

जीएसटी विभाग के डिप्टी डायरेक्टर कमलेश कुमार ने बताया कि हम लोग डायेरक्टर जनरल जीएसटी इंटेलिजेंस की लखनऊ यूनिट से आये है। सूत्रों की जानकारी के आधार पर प्रदेश के अलग-अलग जनपद तकरीबन दस जनपदों में छापेमारी की गयी है। छापेमारी के दौरान कुछ दस्तावेज मिले है जिन्हें कब्जे में लेकर छानबीन की जायेगी इस व्यापारी श्यामसुंदर चौरसिया के यहाँ पर ढाई से तीन करोड जीएसटी टैक्स चोरी का केस था जिसके बाद यह छापेमारी की गयी है।

इस दौरान इस घर से साढ़े आठ करोड करोड रूपये नगद मिला जिसमे डेढ़ करोड रूपये जीएसटी टैक्स का बेंक में जमा करवा दिया गया है। और बाकी सात करोड की नगदी का यह हिसाब किताब नहीं दे पाए है जिससे यह साबित हो रहा है कि रकम नम्बर दो के तरीके से कमाई गयी थी। छापेमारी में प्रापर्टी के द्स्तावेज भी मिले है जिन्हें भी कब्जे में लेकर छानबीन की जा रही है।

ये भी पढ़ें...पेट्रोल-डीजल को जल्द जीएसटी के दायरे में लाया जाए: चिदंबरम

Aditya Mishra

Aditya Mishra

Next Story