Top

वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे: कोरोना काल का पड़ा असर, कुछ इस तरह मनाया गया

आम तौर पर उम्र के बढ़ने के साथ साथ और सेकंड इनिंग्स की तरफ पहुंचते हुए लोगो का मनोबल कुछ टूटने सा लगता है खासकर जब लोग उन्हें बुजुर्ग समझ कर बहुत से मौकों पर इग्नोर करने लगते हैं।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 23 Aug 2020 8:42 AM GMT

वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे: कोरोना काल का पड़ा असर, कुछ इस तरह मनाया गया
X
वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे: कोरोना काल का पड़ा असर, कुछ इस तरह मनाया गया
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: आम तौर पर उम्र के बढ़ने के साथ साथ और सेकंड इनिंग्स की तरफ पहुंचते हुए लोगो का मनोबल कुछ टूटने सा लगता है खासकर जब लोग उन्हें बुजुर्ग समझ कर बहुत से मौकों पर इग्नोर करने लगते हैं। महफिलों में शामिल होना कुछ मुश्किल सा लगता है। इसी मुश्किल को दूर करने के उद्देश्य से 2017 के शुरू हुआ था मोटिवेजर्स क्लब और इसके फाउंडर गौरव छाबड़ा पिछ्ले तीन सालों में अपनी टीम के साथ लगभग 40 से ज्यादा इवेंट्स सीनियर्स के लिए कर चुके हैं।

ये भी पढ़ें:पाकिस्तान से आजादी: सालों तक बंद रखा इस गद्दार देश ने, आज लौटा ये अपने घर

वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे: कोरोना काल का पड़ा असर, कुछ इस तरह मनाया गया

ऑनलाइन कॉलिंग के माध्यम से मिलकर हालचाल लेते सीनियर्स

जहा कॉरोना काल में मिलना जुलना मुश्किल हो चुका है वहीं इस बार सीनियर्स से ये क्लब के सदस्य ऑनलाइन कॉलिंग के माध्यम से मिलकर हालचाल लेते हैं और वीडियो कॉल से एक दूसरे का मनोरंजन करते हैं। बात हो आनलाइन गेम खेलने की या शायरी कविता साझा करने की , कोशिश रही है कि जो दूरियां कारोना के चलते आ रही है उसे कम करके मेल जोल बनाए रखा जाए और तनाव को दूर रखा जाए।

क्लब के फाउंडर गौरव छाबड़ा कहते हैं

क्लब के फाउंडर गौरव छाबड़ा कहते हैं, बुजुर्गो में इस उम्र के पड़ाव में खास कर रिटायरमेंट के बाद अकेलापन आने लगता है। एंटरटेनमेंट का कोई जरिया नहीं रहता। पैसा, गाड़ी सब है, लेकिन उनके साथ समय बिताने वाले नहीं हैं कोई के बच्चे नौकरी के सिलसिले में बाहर हैं तो कोई अकेला रह रहा है। ऐसे में सीनियर सिटीजन का अकेलापन महसूस करना वाजिब है। हमारी जिम्मेदारी है कि हम उन्हें अपने साथ जोड़ कर रखे और खुश रखने का प्रयास करे और जो भी समय निकाल के जरूर उनके साथ कुछ पल बिताए। युवाओं को उनके साथ समय बिताने पर खुशी के साथ बहुत सी जानकारी भी मिलेगी जो आज के समय में बहुत उपयोगी है खासकर तब जब लोग इतना व्यस्त रहने लगे हैं ।

वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे: कोरोना काल का पड़ा असर, कुछ इस तरह मनाया गया

ये भी पढ़ें:मोदी की मॉर्निंग वॉक का साथी है ये मोर, प्रधानमंत्री रोज इसके साथ करते हैं ऐसा काम

शहर के कई सीनियर सिटीजन जिंदगी के इस पल को एंजॉय भी कर रहे हैं। उनकी जिंदादिली को बरकरार रखने की जिम्मेदारी को मोटिवागर्स क्लब के वोलंटियर्स संभाले रहे हैं। शुक्रवार को वर्ल्ड सीनियर सिटीजन डे के मौके पर बुजुर्गो के चेहरे पर मुस्कुराहटें लौटाने वाले युवाओ ने ऑनलाइन वीडियो कॉलिंग के जरिए इस मौके पर सबसे बात करके खुशी के पल बिताए। कोई बुज़ुर्ग गाना गाते हुए खुश हो रहे थे तो कुछ अपनी लॉकडाउन के दौरान लिखी कविता पढ़ने में मस्त रहे। सभी ने एक दूसरे को मोटिवेट किया और ऐसे ही खुशी बाटने के भरोसे के साथ आज के कार्यक्रम को संपन्न किया।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story