यहां अब तक 5 लाख 44 हजार लाभार्थियों को मिला किसान सम्मान निधि का लाभ

केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद से न केवल किसानों की दशा बदली है बल्कि उनके विकास की दिशा भी निर्धारित हुई है। सरकार ने किसानों के हितों को देखते हुए कई महत्वपूर्ण योजनाए शुरु की।

Published by Aditya Mishra Published: May 26, 2020 | 3:21 pm
Modified: May 26, 2020 | 3:22 pm

लखनऊ: केंद्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनने के बाद से न केवल किसानों की दशा बदली है बल्कि उनके विकास की दिशा भी निर्धारित हुई है। सरकार ने किसानों के हितों को देखते हुए कई महत्वपूर्ण योजनाए शुरु की।

प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि इन्हीं में से एक है। उतर प्रदेश में में कोरोना महामारी लाकडाउन के दौरान केंद्र सरकार ने किसानों को प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि का पैसा उनके खातों में हर महीने भेजकर उनकी आर्थिक स्थिति सुधारने का काम किया है। इससे किसानों को बहुत राहत मिली है।

किसान सम्मान निधि की राशि से जहां एक ओर किसान अपनी खेती की जरूरतों को पूरा कर रहे है वहीं दूसरी ओर आत्मनिर्भर भारत अभियान को भी बढावा दे रहे है। बात अगर प्रयागराज की करें तो जिले में अब तक 5 लाख 44 हजार किसानो को किसान सम्मान निधि से लाभान्वित किया जा चुका हैं। प्रत्येक किसान को 6 हजार रुपये 3 माह के अंतराल पर भेज जा रहा है।

सिसक रही किसानी: भूमि सुधार में करोड़ों की बाजीगरी, मजदूरी को मजबूर किसान   

किसानों के खाते में पैसे भेजें जा रहे

उप निदेशक कृषि विनोद कुमार शर्मा ने बताया कि इस वैश्विक महामारी के संकट काल में किसानों के खाते में सम्मान निधि के तहत पैसे भेजे जा रहे हैं ताकि किसानों को किसी भी तरह के आर्थिक संकट का सामना न करना पड़े।

किसान, चन्दमा प्रसाद, सुषमा देवी, रविन्द्र प्रसाद गुप्ता, राम प्रसाद, अशोक कुमार, राम सजीवन, रमेश चन्द्र, अशोक कुमार और राम दुलारे ने कहा कि जबसे मोदी सरकार आई है, उन्होंने किसानों के कल्याण के लिए तमाम योजनाएं चलाई हैं।

प्रधानमंत्री ने उनके खाते में जो रुपये भेजे हैं, उससे इस संकट की घड़ी में बड़ा सहारा मिला है। रामप्रसाद ने कहा कि आजकल खेती की लागत बढ़ गयी है इसलिए प्रधानमंत्री सम्मान निधि के तहत खाते में आए पैसे से वह अपनी खेती से जुड़े तमाम काम पूरे कर सके हैं।गांव के अन्य भी किसान सम्मान निधि के तहत आर्थिक सहायता पाकर काफी प्रसन्न है ।

किसानों पर टूटा गमों का पहाड़, लॉकडाउन के बाद अब फसलों को इन्होंने किया बर्बाद