×

6 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए 7500 श्रमिकों को जिले में लाया गया

लाकडाउन के दौरान अपने घरों की ओर कूच कर रहे श्रमिकों की मदद के लिए सरकार ने विशेष रेलगाडियां चलायी है।इन रेलगाड़ियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पंजीकरण के आधार पर मजदूरों को जगह दी जाती है।

Vidushi Mishra

Vidushi MishraBy Vidushi Mishra

Published on 15 May 2020 1:36 PM GMT

6 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए 7500 श्रमिकों को जिले में लाया गया
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

लखनऊ। लाकडाउन के दौरान अपने घरों की ओर कूच कर रहे श्रमिकों की मदद के लिए सरकार ने विशेष रेलगाडियां चलायी है।इन रेलगाड़ियों में सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए पंजीकरण के आधार पर मजदूरों को जगह दी जाती है। यात्रा करने वाले मजदूरों को भोजन तथा पानी जैसी मदद भी सरकार की ओर से पहुंचायी जाती है।

ये भी पढ़ें…खतरे में लाखों लोग: अब सबसे बड़े रिफ्यूजी कैंप में आई महामारी, अलर्ट जारी

चंडीगढ़ और लुधियाना में फंसे 7500 श्रमिक

इसी कड़ी में आज हरदोई पहुची 2 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों को मिलाकर अब तक हरदोई में छह 6 श्रमिक स्पेशल ट्रेनों के जरिए पंजाब के चंडीगढ़ और लुधियाना में फॅसे 7500 श्रमिको को जिले में लाया गया ।

आज सुबह एक ट्रेन चंडीगढ़ और दूसरी ट्रेन लुधियाना से क्रमशः 1200 और 1300 श्रमिकों को लेकर हरदोई पहुंची। इन सभी श्रमिकों के पहुंचने के बाद डॉक्टरों की टीम द्वारा थर्मल स्कैनिंग जांच की गई और उनको जिला प्रशासन द्वारा भोजन तथा पानी उपलब्ध कराया गया।

प्रदेश रोडवेज की 120 बसों से उनको गंतव्य स्थान के नजदीक बने क्वारनटीन सेंटरों पर भेजा गया। श्रमिक ऐसी विषम परिस्थितियों में सरकार की इस मदद के लिए उसका आभार व्यक्त कर रहे है।

काफी राहत मिली

हमने जब जिले के इस्लाम और रेहान से बात की तो उन्होंने बताया कि वे कामकाज के सिलसिले में लुधियान में रह रहे थे लेकिन लाकडाउन के कारण उनकी कंपनी बंद हो गयी थी और उनके पास आय का कोई साधन नहीं रह गया था एसे में वे अपने घर वापस आना चाह रहे थे। सरकार की इस व्यवस्था से उन्हें काफी राहत मिली ।

इसी तरह हरदोई के ही नजीम हैदर ने भी व्यवस्था के प्रति संतोष व्यकत किया । अभी तक स्पेशल श्रमिक स्पेशल ट्रेनों से पहुंचे श्रमिकों में से मेडिकल जांच के बाद लगभग 42 मजदूर संदिग्ध पाए गए। जिनकी जांच लखनऊ मेडिकल कॉलेज को भेजी गई है इनमें से अधिकांश की मेडिकल रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है

ये भी पढ़ें…चीन की बर्बादी शुरू: भारत-अमेरिका मिलकर करने जा रहे ये काम, होगा इसका सफाया

Vidushi Mishra

Vidushi Mishra

Next Story