इस जिले में भी कोविड-19 जांच के लिए नई लैब होगी शुरू, CM योगी ने दिए निर्देश

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वस्थ्य विभाग के अधिकारियों से नियमित मोनेटरिंग करने को कहा है। उन्होंने कि सभी जनपदों में तैनात स्वास्थ्य विभाग…

श्रीधर अग्निहोत्री

लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वस्थ्य विभाग के अधिकारियों से नियमित मोनेटरिंग करने को कहा है। उन्होंने कि सभी जनपदों में तैनात स्वास्थ्य विभाग के अपर निदेशक व संयुक्त निदेशक स्तर के नोडल अधिकारी कोविड-19 अस्पतालों की सभी व्यवस्थाओं की नियमित माॅनीटरिंग करें।

ये भी पढ़ें: UP के CM कार्यालय परिसर में पहुंचा कोरोना, दो कर्मी मिले संक्रमित

उन्होंने कहा है कि अस्पतालों में चिकित्सकों तथा नर्सिंग स्टाफ द्वारा नियमित राउण्ड लिया जाए। पैरामेडिक्स द्वारा रोगियों की माॅनिटरिंग की जाए। कोविड तथा नाॅन कोविड अस्पतालों सहित समस्त चिकित्सालयों, मेडिकल काॅलेज एवं चिकित्सा संस्थानों में ऑक्सीजन की सुचारु व्यवस्था उपलब्ध रहनी चाहिए।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रत्येक शनिवार तथा रविवार को पूरे प्रदेश में स्वच्छता एवं सेनिटाइजेशन के विशेष अभियान को प्रभावी ढंग से संचालित किया जाए। स्वच्छता तथा सेनिटाइजेशन के कार्य को सफल बनाने के लिए आवश्यक है कि प्लास्टिक के प्रयोग को हतोत्साहित किया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा है कि निर्धारित मानक से कम के प्लास्टिक पर लगाये गये प्रतिबंध का कड़ाई से पालन सुनिश्चित कराया जाये।

ये भी पढ़ें: अलोकतांत्रिक तरीके से कांग्रेस नेताओं का उत्पीड़न कर रही सरकार: अजय कुमार लल्लू

उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि सभी जिलाधिकारी अपने जनपद में मुख्य सचिव द्वारा जारी शासनादेश के अनुसार सोमवार से शुक्रवार से प्रातः 09 बजे से रात्रि 09 बजे तक बाजार का खोला जाना सुनिश्चित करें।

मृत्यु दर अन्य प्रदेशों की अपेक्षा काफी कम

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रदेश में कोरोना टेस्टिंग की क्षमता को बढ़ाकर 50,000 प्रतिदिन किये जाने के निर्देश दिये है। उन्होंने बताया कि वर्तमान में प्रदेश देश में कोरोना जांच करने वाले प्रदेशों में तीसरे स्थान पर है। प्रदेश की जनसंख्या के आधार पर प्रदेश में कोरोना पाजिटिव मरीजों की संख्या एवं मृत्यु दर अन्य प्रदेशों की अपेक्षा काफी कम है। उन्होंने बताया कि कोरोना जांच के लिए प्रदेश की सभी लैब्स में माइक्रोबायोलाॅजिस्ट एवं अन्य पदों पर नियुक्तियां की गयी है। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री ने निर्देश दिये है कि प्रत्येक जनपद में कोविड-19 की व्यवस्था की जाये।

उन्होंने बताया कि शीघ्र ही गाजियाबाद में भी कोविड-19 जांच के लिए नयी लैब शुरू हो जायेगी। कोविड-19 की जांच करने वाले अग्रणी प्रदेशो में तमिलनाडु द्वारा 17,00,000, महाराष्ट्र द्वारा 13,00,000, उत्तर प्रदेश द्वारा 12,77,241, आंध्र प्रदेश द्वारा 12,00,000, राजस्थान द्वारा 11,00,000, कर्नाटक द्वारा 8,56,100, दिल्ली 6,92,800, पश्चिम बंगाल द्वारा 6,27,400, गुजरात द्वारा 4,70,300 तथा तेलगांना द्वारा 1,81,800 लोगों की जांच अभी तक की गयी है।

ये भी पढ़ें: पायलट के लिए आसान नहीं होगी बीजेपी की डगर, कदम-कदम पर बिछे हैं कांटे

आकाशीय बिजली से होने वाली जनहानि को रोकने के लिए तकनीक का प्रयोग

मुख्यमंत्री ने लखनऊ, कानपुर नगर, अमरोहा तथा झांसी में कोविड-19 के दृष्टिगत विशेष सतर्कता बरतने के निर्देश दिये। उन्होंने पुलिस कर्मियों को संक्रमण से सुरक्षित रखे जाने पर बल देते हुए कहा है कि प्रवर्तन की कार्यवाही में जाने वाले पुलिसकर्मी ग्लव्स, मास्क व सेनिटाइजर का उपयोग करें। इसके साथ ही बैरक में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी प्रोटोकाॅल का अनुपालन सुनिश्चित किया जाये। उन्होंने यह भी कहा कि आकाशीय बिजली से होने वाली जनहानि को रोकने के लिए तकनीक का प्रयोग किया जाए। यह तकनीक ऐसी हो, जिससे न्याय पंचायत स्तर पर एलर्ट जारी कर लोगों की जान को बचाया जा सके।

ये भी पढ़ें: शुभम सोती फाउंडेशन के दसवें स्थापना दिवस पर ट्रैफिक वॉरियर वीक की हुई शुरुआत

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App