Top

वैभव कृष्ण बहाल होंः नूतन ठाकुर ने उठाई आवाज, बताया UPP का व्हिसिल्ब्लोअर

नूतन ठाकुर ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में कहा है कि वैभव कृष्ण ने ही तमाम सबूतों के साथ 05 आईपीएस, कई पीसीएस तथा अन्य अफसरों के संबंध में शासन को रिपोर्ट दी थी

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 23 Sep 2020 8:10 AM GMT

वैभव कृष्ण बहाल होंः नूतन ठाकुर ने उठाई आवाज, बताया UPP का व्हिसिल्ब्लोअर
X
एक्टिविस्ट ने वैभव कृष्ण को बताया यूपी पुलिस का मुखबिर (social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी में सतर्कता अधिष्ठान द्वारा अजयपाल शर्मा तथा हिमांशु कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने के बाद एक्टिविस्ट डा. नूतन ठाकुर ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिख कर नोएडा के पूर्व एसएसपी रहे निलंबित आईपीएस अफसर वैभव कृष्ण को व्हिसलब्लोअर बताते हुए बहाल किये जाने की मांग की है।

ये भी पढ़ें:सुशांत डेथ केस में रिया चक्रवर्ती का अब तक का सबसे बड़ा खुलासा, हिल उठा बॉलीवुड

नूतन ठाकुर ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में कहा

नूतन ठाकुर ने बुधवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में कहा है कि वैभव कृष्ण ने ही तमाम सबूतों के साथ 05 आईपीएस, कई पीसीएस तथा अन्य अफसरों के संबंध में शासन को रिपोर्ट दी थी। पहले किसी भी अधिकारी ने इन शिकायतों को गंभीरता से नहीं लिया था तथा वैभव कृष्ण के पत्रों के लीक होने के पहले तक ये महीनों तक ठंडे बस्ते में पड़े रहे थे। नूतन ने कहा कि अब सतर्कता अधिष्ठान द्वारा अजयपाल शर्मा तथा हिमांशु कुमार के खिलाफ एफआईआर दर्ज होने पर यह साबित हो गया है कि वैभव कृष्ण की बातों में बहुत दम था और उन्ही के व्यक्तिगत प्रयासों से यह कार्यवाही संभव हो सकी है। इस प्रकार वे पुलिस विभाग के व्हिसलब्लोवर हैं।

उन्होंने कहा कि वैभव कृष्ण ने भी गलती की, जिसके लिए उन्हें निलंबित किया गया, लेकिन अब उनके निलंबन के बहुत समय बीत गया है और अब उनकी द्वारा दी गई रिपोर्ट भी काफी हद तक सही साबित हो चुकी है। इसलिए वैभव कृष्ण को शीघ्र बहाल करते हुए महत्वपूर्ण तैनाती दी जानी चाहिए।

बता दे कि बीती 09 जनवरी को योगी सरकार ने सर्विस रूल का उल्लंघन करने के आरोप में नोएडा के तत्कालीन एसएसपी वैभव कृष्ण को निलंबित कर दिया था। उनके ऊपर आरोप था कि उन्होंने गोपनीय जांच को लीक किया था। इससे संबंधित वायरल चैट के फोरेंसिक जांच हुई थी, जिसमें सही पाए जाने पर उन्हे निलंबित किया गया था।

ये भी पढ़ें:अब लड्डू नहीं संडीला की रिवाल्वरः यूपी में वेबले स्काट का नया अवतार

इसी दौरान वैभव ने बताया था

इसी दौरान वैभव ने बताया था कि उन्होंने एसएसपी (गाजियाबाद) सुधीर कुमार सिंह, एसपी (सुलतानपुर) हिमांशु कुमार, एसएसपी (एसटीएफ) राजीव नारायण मिश्र, एसपी (बांदा) गणेश साहा और एसपी (रामपुर) डा. अजय पाल शर्मा के खिलाफ जांच रिपोर्ट भेजी थी। उन्होंने आरोप लगाया था कि इन्हीं अफसरों ने उनके खिलाफ साजिश की थी। इससे पहले नोएडा एएसपी पद का चार्ज लेते ही वैभव कृष्ण ने अग्निशमन-होमगार्ड विभाग के बड़े अफसरों, पुलिस और पत्रकारों के खिलाफ कार्रवाई की थी और इसके बाद उनका विरोध शुरू हो गया था।

मनीष श्रीवास्तव

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story