अपर मुख्य सचिव व डीजीपी का अयोध्या दौरा, जानिए क्या है वजह

स बार अयोध्या के 16 घाटों पर दीयों के माध्यम से पूरी अयोध्या के दर्शन हो जाएंगें। पिछली बार विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक साथ सर्वाधिक दीप जलाकर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान बनाया था। विश्व हिंदू परिषद ने भी इस बार रामलला के दरबार में दीपोत्सव के दौरान 51000 दीपक जलाने की योजना बनाई है।

लखनऊ: योगी सरकार आने के बाद अयोध्या में दीपावली पर हर वर्ष होने वाले दीपोत्सव समारोह के लिए तैयारियां तेज हो गयी है। इस सिलसिले में अपर मुख्य सचिव अवनीश अवस्थी और डीजीपी ओपी सिंह 15 अक्टूबर को तैयारियों का जायजा लेने अयोध्या जाएगें।

ये भी देखें : छात्र को बंधक बनाकर बुरी तरह पीटने वालों को मिली ये बड़ी सजा

सुरक्षा तैयारियों का जायजा लेंगे

इस दौरान दोनों अधिकारी सुरक्षा तैयारियों का जायजा लेने के साथ ही तीसरे दीपोत्सव का जायजा लेगें। इस दौरान प्रमुख अधिकारियों के साथ बैठक कर राम की पैडी और रामकथा पार्क के साथ अन्य स्थलों का भी निरीक्षण करेंगे। वहीं दूसरी तरफ माना जा रहा है कि अयोध्या विवाद को लेकर आ रहे सुप्रीम कोर्ट के फैसले को लेकर सुरक्षा व्यवस्था कडी करने की भी समीक्षा करेंगें।

इस बार अयोध्या के 16 घाटों पर दीयों के माध्यम से पूरी अयोध्या के दर्शन हो जाएंगें। पिछली बार विश्वविद्यालय प्रशासन ने एक साथ सर्वाधिक दीप जलाकर गिनीज बुक ऑफ रिकॉर्ड में स्थान बनाया था। विश्व हिंदू परिषद ने भी इस बार रामलला के दरबार में दीपोत्सव के दौरान 51000 दीपक जलाने की योजना बनाई है।

ये भी देखें : जल्द आ सकता है राम मंदिर पर फैसला, सुनवाई के अंतिम दौर में सुप्रीम कोर्ट

रामलीला मंडलियां अपनी-अपनी शैली में रामलीला का मंचन करेंगी

पिछले बार थाईलैण्ड के रामलीला कलाकारों ने यहां रामलीला का मंचन किया था लेकिन इस बार अयोध्या के दीपोत्सव में पांच देशों मॉरिशस, थाईलैंड, इंडोनेशिया, सूरीनाम और नेपाल की रामलीला मंडलियों को बुलाया गया है।  इन देशों की रामलीला मंडलियां अपनी-अपनी शैली में रामलीला का मंचन करेंगी। पिछली दो दीपावली की तरह ही इस बार भी भव्य दीपोत्सव के दौरान सरयू नदी पर लेजर शो का आयोजन किया जाएगा। जिसका सीधा प्रसारण सभी टीवी चैनलों और एलइडी स्क्रीनों के माध्यम से नगरवासियों को देखने को मिलेगा।

ये भी देखें : संकट में AirIndia! हो रहे धड़ाधड़ इस्तीफे, जाने क्या है पूरा मामला

इसके अलावा देश के विभिन्न कोनों से करीब 32 सांस्कृतिक दलों का कार्यक्रम होगा। यहीं  श्रीलंका से भी विभिन्न प्रकार के कलाकार आकर अपने कला का प्रदर्शन करेंगे। चित्रकला का भी  प्रदर्शन किया जाएगा।