आदित्य हत्याकांड: सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष के बाद एक और शख्स हुआ गिरफ्तार

रायबरेली आदित्य हत्याकांड के मामले में आरोपी सोमू यादव उर्फ अर्कित यादव को मंगलवार देर रात पुलिस ने दिल्ली बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि सोमवार रात ही सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आरपी यादव को इसी मामले में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

Published by Vidushi Mishra Published: November 6, 2019 | 9:22 am
Modified: November 6, 2019 | 4:57 pm

रायबरेली : रायबरेली आदित्य हत्याकांड के मामले में आरोपी सोमू यादव उर्फ अर्कित यादव को मंगलवार देर रात पुलिस ने दिल्ली बॉर्डर से गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि सोमवार रात ही सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आरपी यादव को इसी मामले में पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था।

पूर्व जिलाधयक्ष की गिरफ्तारी को लेकर मंगलवार को समाजवादी पार्टी का प्रतिनिधि मंडल जिलाध्यक्ष राम बहादुर यादव की अगुवाई में पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंचा। पुलिस की इस कार्रवाई का सपाईयों ने विरोध किया। और कहा कि बेकसूर लोगों को पुलिस परेशान कर रही है। इसके साथ ये भी बताया जा रहा है कि उन्हीं की निशानदेही पर आरोपित की गिरफ्तारी हुई है।

आदित्य हत्या मामले में पुलिस ने पूर्व सपा जिलाध्यक्ष आरपी यादव को गिरफ्तार किया है। पुलिस लाइन में आक्रोशित सपाइयों सरकार के विरोध में जमकर नारेबाजी भी हो रही है।

यह भी देखें… चिन्मयानंद केस: दोनोें केसों की सच्चाई आई सामने, मिल गए सारे सबूत

पूरा मामला

बीती 9 अक्टूबर को प्रयागराज-लखनऊ राजमार्ग के किनारे रतापुर चौराहे पर स्थित सोमू ढाबा में डी फार्मा के छात्र आदित्य सिंह से मारपीट हो गई थी। जिसके बाद उसकी लाश 10 अक्टूबर की सुबह हरचंदपुर थाना क्षेत्र के गढ़ी खास गांव के पास खून से लथपथ मिली।

इस मामले में हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया और सोमू ढाबा के मालिक सुरेश यादव सहित स्टाफ को नामजद किया गया। पुलिस ने फुटेज व अन्य साक्ष्य संकलित करके सुरेश समेत 12 लोगों को जेल भेज दिया।

यह भी देखें… तूफान से सतर्क: तेजी से फैला रहा अपना खौफ, खाली कराए गए सहमे इलाके

इस वारदात में 15 लोगों के शामिल होने की बात कही गई। इसी प्रकरण में एसपी ने सुरेश के बेटे सोमू यादव को इनामी घोषित किया था। जिसके बाद मंगलवार देर रात उसकी गिरफ्तारी हो गई।

सपा के पूर्व जिलाध्यक्ष आरपी यादव भी उस वक्त पुलिस के साथ थे। ऐसा बताया जा रहा है कि उनकी कॉल डिटेल रिपोर्ट के आधार पर पुलिस ने उन्हें हिरासत में लिया। फिर उन्हीं की निशानदेही पर गिरफ्तारी हुई है।

यह भी देखें… तीस हजारी कोर्ट केस: पुलिसकर्मियों का धरना समाप्त