Top

कम हुआ जहरीली हवा का प्रकोप, हवा में आयी नमी से मिल रही ये राहत

रविवार को हुई बारिश पूरे उत्तर प्रदेश के लिए प्रकृति का वरदान साबित हुई। इस बारिश और हवा में आयी नमी से पूरे प्रदेश में बीते करीब एक माह से लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण में काफी कमी आ गई है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 17 Nov 2020 5:24 AM GMT

कम हुआ जहरीली हवा का प्रकोप, हवा में आयी नमी से मिल रही ये राहत
X
कम हुआ जहरीली हवा का प्रकोप, हवा में आयी नमी से मिल रही ये राहत
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

मनीष श्रीवास्तव

लखनऊ: रविवार को हुई बारिश पूरे उत्तर प्रदेश के लिए प्रकृति का वरदान साबित हुई। इस बारिश और हवा में आयी नमी से पूरे प्रदेश में बीते करीब एक माह से लगातार बढ़ रहे वायु प्रदूषण में काफी कमी आ गई है। राज्य के जिन जिलों में प्रदूषण के कारण वायु गुणवत्ता सूचकांक खतरनाक स्तर पर पहुंच गया था, वहां भी अब यह संतोषजनक स्थिति में है। इसमे राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के वह जिलें भी शामिल है जो प्रदूषण की सबसे ज्यादा चपेट में थे।

ये भी पढ़ें: कोरोना पर WHO की बड़ी चेतावनी, इस बात से डरी पूरी दुनिया

दीपावली पर हुई आतिशबाजी के बाद बढ़ गया था प्रदुषण

राजधानी लखनऊ में एनजीटी की रोक के बावजूद दीपावली पर हुई आतिशबाजी के बाद अगली सुबह रविवार को वायु गुणवत्ता सूचकांक, रिहाइशी इलाकों अलीगंज में 317 और गोमती नगर में 297, व्यवसायिक इलाकों लालबाग और हजरतगंज में 390 तथा औद्योगिक इलाके तालकटोरा में 393 दर्ज किया गया था।

जबकि रविवार रात में हुई बारिश के बाद वायु गुणवत्ता सूचकांक, सोमवार सुबह 9ः00 बजे रिहाइशी इलाकों अलीगंज में 224 और गोमती नगर में 210, व्यवसायिक इलाकों लालबाग और हजरतगंज में 328 तथा औद्योगिक इलाके तालकटोरा में 326 पर पहुंच गया था। बारिश के बाद हवा में आयी नमी के कारण अब एक्यूआई में लगातार गिरावट देखी जा रही है। मंगलवार को सुबह 9ः00 बजे रिहाइशी इलाकों अलीगंज में 102 और गोमती नगर में 63, व्यवसायिक इलाकों लालबाग और हजरतगंज में 149 तथा औद्योगिक इलाके तालकटोरा में 150 पर पहुंच गया है।

बारिश और हवा में नमी का असर पूरे राज्य में दिख रहा है। यूपी में जहरीली हवा कि मामलें में टाप पर रहने वाले आगरा के संजय प्लेस में सोमवार को सुबह 9ः00 बजे 205 दर्ज वायु गुणवत्ता सूचकांक मंगलवार को 109 पर आ गया तो गाजियाबाद के लोनी व संजयनगर में सोमवार को दर्ज 326 से नीचे खिसक कर 154 और 130 पर पहुंच गया। जबकि यहां के वसुंधरा में सोमवार के 224 के मुकाबले मंगलवार सुबह 9ः00 बजे एक्यूआई 170 दर्ज किया गया। इस दौरान ग्रेटर नोएडा के नालेज पार्क-3 में सोमवार सुबह 298 पहुंचा एक्यूआई मंगलवार सुबह 9ः00 बजे 166 तथा नालेज पार्क-5 में 306 से गिर कर 174 पर पहुंच गया।

ये भी पढ़ें: पुण्यतिथि विशेष: मुंबई के शेर कहे जाते थे बाला साहेब, हिंदुत्व के थे प्रतीक

नोएडा की स्थिति

नोएडा में सोमवार सुबह 9ः00 बजे सेक्टर 125 में एक्यूआई 297 था तो मंगलवार को इसी समय यह 194 दर्ज किया गया, सेक्टर 62 में सोमवार के 315 के मुकाबले मंगलवार को 159, सेक्टर-1 में सोमवार के 317 के मुकाबले मंगलवार को 159 तथा सेक्टर-116 में सोमवार के 320 के मुकाबले मंगलवार को 189 दर्ज किया गया। मेरठ में सोमवार सुबह एक्यूआई लेवल गंगा नगर में 154 के मुकाबले मंगलवार सुबह 82 रहा।

इसी तरह कानपुर में नेहरू नगर में सोमवार सुबह 9ः00 बजे दर्ज वायु गुणवत्ता सूचकांक 246 के मुकाबले मंगलवार सुबह 83 रहा। इसी तरह बागपत के न्यू कलेक्ट्रेट में सोमवार के 211 के मुकाबले मंगलवार को 98, बुलंदशहर के यमुनापुरम में सोमवार के 299 के मुकाबले मंगलवार को 169, हापुड़ में सोमवार के 221 के मुकाबले मंगलवार को 95, मुरादाबाद के लाजपत नगर में सोमवार के 295 के मुकाबले मंगलवार को 95, मुजफ्फर नगर की नई मंडी में सोमवार के 168 के मुकाबले मंगलवार को 91 तथा वाराणसी के अर्दली बाजार में सोमवार के 242 के मुकाबले मंगलवार को 150 एक्यूआई दर्ज किया गया।

बता दें कि यूपी में राजधानी लखनऊ समेत कई जिलों में एयर क्वालिटी इंडेक्स लगातार खराब और खतरनाक स्तर पर पहुंचता जा रहा था। हवा में पीएम 2.5 और पीएम 10 की मात्रा लगातार बढ़ती जा रही थी। हालात यह हो गए थे कि हवा में बढ़ रहे प्रदूषण और स्माग के कारण लोगों को सांस लेने में तकलीफ और आंखों में जलन की शिकायत होने लगी थी।

ये भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने फूलों से बनी गुरु गोरक्षनाथ अगरबत्ती को सराहा, इसलिए बताया बड़ा कदम

Newstrack

Newstrack

Next Story