मजदूरों की मौत पर पर अखिलेश ने जताया दुख, कहा- ऐसे हादसे मृत्यु नहीं हत्या हैं

औरैया हादसे में मजदूरों की मौत पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दुख जताया है। इसके साथ ही उन्होंने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि यह हादसा में मृत्यु नहीं बल्कि हत्या है।

लखनऊ: औरैया हादसे में मजदूरों की मौत पर समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने दुख जताया है। इसके साथ ही उन्होंने सरकार पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा है कि यह हादसा में मृत्यु नहीं बल्कि हत्या है।

उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने ट्टीट कर कहा कि उप्र के औरैया में सड़क हादसे में 24 से भी अधिक ग़रीब प्रवासी मज़दूरों की मौत पर अवर्णनीय दुख। घायलों के लिए दुआएं।

यह भी पढ़ें…UP में बिछी लाशें ही लाशें: दर्दनाक हादसे में 24 मजदूरों की मौत, हर तरफ हाहाकार

सब कुछ जानकर… सब कुछ देखकर भी… मौन धारण करनेवाले हृदयहीन लोग और उनके समर्थक देखें कब तक इस उपेक्षा को उचित ठहराते हैं। ऐसे हादसे मृत्यु नहीं हत्या हैं।

घर लौट रहे प्रवासी मज़दूरों के मारे जाने की ख़बरें दिल दहलाने वाली हैं। मूलत: ये वो लोग हैं जो घर चलाते थे। इसलिए समाजवादी पार्टी प्रदेश के प्रत्येक मृतक के परिवार को 1 लाख रु की मदद पहुंचाएगी। नैतिक ज़िम्मेदारी लेते हुए निष्ठुर भाजपा सरकार भी प्रति मृतक 10 लाख रु की राशि दे।

यह भी पढ़ें…फिर गई मजदूरों की जान: 36 घटों में दूसरा बड़ा हादसा, इतनी मौतों से MP में हड़कंप

लगातार मजदूरों की आवाज उठा रहे अखिलेश

बता दें कि अखिलेश यादव लगातार मजदूरों के पैदल, साइकिल और कठिनाइयों का सामना करते हुए घऱ वापसी पर लगातार सरकार पर निशाना साध रहे हैं। उन्होंने पंजाब से बिहार लौट रहे मजदूरों के साथ यूपी में हुए हादसे पर भी दुख जताया था। साथ ही उन्होंने सरकार पर सवाल उठाए थे। अखिलेश ने पूछा था कि गरीब मजदूरों की जिंदगी इतनी सस्ती क्यों है, उन्हें वंदे भारत मिशन से क्यों नहीं लाया जा सकता?

इसके पहले उन्होंने लिखा कि पहले 15 लाख का झूठा वादा और अब 20 लाख करोड़ का दावा…अबकी बार लगभग 133 करोड़ लोगों को 133 गुना बड़े जुमले की मार…ऐ बाबू कोई भला कैसे करे एतबार…अब लोग यह नहीं पूछ रहे हैं कि 20 लाख करोड़ में कितने ज़ीरो होते हैं बल्कि यह पूछ रहे हैं उसमें कितनी गोल-गोल गोली होती हैं।