अखिलेश यादव ने पीएम मोदी और सीएम योगी को लेकर कह दी बड़ी बात

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज मोदी सरकार के साथ ही योगी सरकार के बारे में ऐसी बात कह दी जिसकी उम्मीद न थी। मोदी सरकार के स्वच्छ भारत अभियान का माखौल उड़ाते हुए कहा कि नालों और सीवर की गंदगी बहती रहती है। गंगा-गोमती-यमुना सब गंदे नालों से प्रदूषित हैं।

लखनऊ: पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज मोदी सरकार के साथ ही योगी सरकार के बारे में ऐसी बात कह दी जिसकी उम्मीद न थी। मोदी सरकार के स्वच्छ भारत अभियान का माखौल उड़ाते हुए कहा कि नालों और सीवर की गंदगी बहती रहती है। गंगा-गोमती-यमुना सब गंदे नालों से प्रदूषित हैं, उनका जल पीने योग्य नहीं। उनको स्वच्छ बनाने का अभियान अभियान ही रह गया। उनका स्वच्छता अभियान नारों-भाषणों और विज्ञापनों तक ही सीमित है।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा जनता को बहकाने वाली योजनाएं बनाने और उन्हें प्रचारित करने में बेमिसाल है। जमीनी हकीकत में भले ही वे सफल न हों, किन्तु कागजी आंकड़ों और बयानों में उनका जवाब नहीं। सच्चाई यही है कि भाजपा की तमाम योजनाएं सिर्फ कुछ दिनों के प्रचार के बाद ही दम तोड़ देती है।

यह भी पढ़ें…फीस रेग्युलेशन एक्ट 2018 को चुनौती देने वाली याचिका खारिज

उन्होंने कहा है कि सत्ता में पहली बार आते ही भाजपा सरकार में स्वच्छ भारत अभियान शुरू हुआ था। इसके होहल्ले में कई नामी गिरामी लोग झाड़ू लगाते दिखे और कई तो इसके एम्बेस्डर भी बन गए थे। कुछ दिन जोरदार विज्ञापन छपे फिर यह अभियान स्मार्टसिटी बनाओ और घर-घर (शौचालय) ‘इज्जतघर’ बनाओं के नारों में सिमट गया। स्मार्ट सिटी की लिस्ट सामने नहीं आई। शौचालयों में पानी न होने से वे बेकार हो गए।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि स्वच्छता के अभाव में प्रदूषण के वातावरण में रहते हुए देश-प्रदेश में बीमारियों का प्रकोप है। उत्तर प्रदेश में जापानी बुखार में हजारों बच्चों की जानें गईं। बिहार में चमकी बुखार से सैकड़ों बच्चों की अकाल मृत्यु हो गई। देश के कई अन्य भागों में भी बीमारियों से मौतों का सिलसिला जारी हैं। भारत में तमाम रोगों के रोगी पाए जाते हैं। भारत वास्तव में बीमारियों का घर बन गया है।

यह भी पढ़ें…पासपोर्ट अप्लाई करने में नहीं चलेगी मनमानी, एक गलती पर 2 साल की जेल

उन्होंने कहा कि अब वाराणसी में पौधारोपण करते हुए प्रदूषण से मुक्ति, पर्यावरण संरक्षण और घर-घर में नल से जल की नई योजनाओं का एलान किया हैं। इन योजनाओं का हश्र भी पुरानी योजनाओं जैसा होना है। भाजपा सरकार के राज में भारत प्रदूषण की श्रेणी में उच्चतम स्तर पर है। आंकड़ो के नया भारत में स्वच्छता के कहीं दर्शन नहीं हो रहे है।