मुख्यमंत्री योगी को दूर के ढोल सुहावने लगते हैं: अखिलेश यादव

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रूस यात्रा पर कटाक्ष करते हुये कहा है कि मुख्यमंत्री को दूर के ढोल सुहावने लगते हैं।

फाइल फोटो

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की रूस यात्रा पर कटाक्ष करते हुये कहा है कि मुख्यमंत्री को दूर के ढोल सुहावने लगते हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री रूस के सुदूर पूर्वी क्षेत्रों में जाकर कृषि एवं खाद्य प्रसंस्करण के क्षेत्र में परस्पर सहयोग की बात कर आए पर अच्छा होता उनकी नजर प्रदेश में विकास की तमाम संभावनाओं पर भी पड़ जाती है। उनकी सरकार का अब ढाई साल से भी कम समय रह गया है इसमें मुख्यमंत्री जनहित की अपनी एक भी योजना कार्यान्वित नहीं कर सके हैं।

यह भी पढ़ें…कश्मीर का खौफ: नेता जी भाग रहे थे छोड़कर देश, धरे गए एयरपोर्ट पर

सपा अध्यक्ष ने बुधवार को कहा कि रूस के सहयोग से आलू से अन्य उत्पाद बनाने का प्लांट लगाने की बात होती तो अच्छा होता। यात्रा सार्थक होती अगर मुख्यमंत्री मंडियों को विकसित करने में रूस का सहयोग लेते। रूस की किसी कम्पनी को यह काम देने से एक्सप्रेस-वे के पास के स्थलों का विकास और सौंदर्यीकरण दोनों हो जाता। यहां तो उल्टा काम यह हुआ है कि एक्सप्रेस-वे टोल टैक्स का काम महाराष्ट्र के लोगों को दे दिया गया है। उनकी रूचि टोल टैक्स वसूली में ज्यादा है, यात्रा की सुरक्षा एवं सुविधा विस्तार में नही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने सोवियत रूस में नदी के किनारे कहीं भ्रमण किया होगा तो वहां से कुछ सीख लेकर गोमती नदी की सफाई और उसके तटों के सौंदर्यीकरण का काम बेहतर हो सकता है।

यह भी पढ़ें…कांपे पाक पीएम इमरान, पीओके पर मोदी सरकार लेगी ये बड़ा फैसला

अखिलेश ने कहा कि इसमें दो राय नहीं कि उत्तर प्रदेश संसाधनों के मामले में बहुत आगे है। भारत-सोवियत के बीच सहयोग से विकास के नई संभावनाओं के द्वार खुल सकते हैं। पर, भाजपा की तो विकास में रूचि ही नहीं है। इसीलिए उसके कार्यकाल में विकास का एक नया पत्थर भी नहीं रखा जा सका। उन्होंने कहा कि एमओयू तो बहुत हो जाते हैं उनकोे जमीनी स्तर पर उतारा जाना ज्यादा महत्व रखता है। रूस से तुलना की सम्भावना से काम नहीं चल सकता। व्यवहारिक दृृष्टि से ठोस परिणाम कैसे आएगा,इसकी रूपरेखा घोषित किए बगैर इन बातो का कोई मतलब नहीं।