सीएम योगी नहीं जानते कि यूपी को नीचे से नबंर वन बनाना है या ऊपर से: अखिलेश

सपा अध्यक्ष ने सोमवार को प्रेसवार्ता में कहा कि भाजपा ने किसानों को भरोसा दिलाया कि उनकी आय दोगुनी कर देंगे। किसान ने भरोसा कर लिया और उनको सत्ता में पहुंचा दिया, यूपी में ही नहीं केंद्र में भी दोबारा सत्ता सौंप दी।

लखनऊ: समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर बड़ा हमला करते हुए कहा है कि मुख्यमंत्री नहीं जानते है कि प्रदेश को नीचे से नंबर वन बनाना है या ऊपर से।

उन्होंने कहा कि आज यूपी साइबर क्राइम, महिला अपराध, बाल अपराध, खराब शिक्षा व्यवस्था, खराब मिड डे मील व्यवस्था, बीमार स्वास्थ्य सेवा, बेरोजगारी, किसान आत्महत्या और युवाओं की आत्महत्या में नंबर वन है।

सपा अध्यक्ष ने सोमवार को प्रेसवार्ता में कहा कि भाजपा ने किसानों को भरोसा दिलाया कि उनकी आय दोगुनी कर देंगे।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि किसान ने भरोसा कर लिया और उनको सत्ता में पहुंचा दिया, यूपी में ही नहीं केंद्र में भी दोबारा सत्ता सौंप दी। लेकिन नतीजा किसान तो बर्बाद हो गया।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अगर किसान की आया दोगुनी नहीं कर सकते तो वहीं काम कर ले जो वह करते रहे है।

अखिलेश ने कहा कि मुख्यमंत्री बहुत अच्छे है वह केवल नाम बदलना जानते है।

केवल नाम बदलना जानते है यूपी के मुख्यमंत्री 

सपा मुखिया ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का नाम लिए बिना कहा कि जो लोग अपने नेता का सम्मान नहीं कर सकते वह किसी को कुछ नहीं दे सकते।

उन्होंने कहा कि उनके जन्मस्थान पर कुछ नहीं बनाया, वहां के लोग रास्ता देख रहे है कि शायद सरकार कुछ करेगी।

उन्होंने कहा कि कम से कम वहां एक अच्छी और बेहतर विश्वस्तरीय यूनिवर्सिटी ही बनवा देते।

अखिलेश ने कहा कि भाजपा की यूपी सरकार नया कुछ कर नही पा रही है और हमारे ही कामों का श्रेय ले रही है और अब तो समाजवादियों का सिद्धांत सबका विकास भी चोरी कर लिया। आखिर मुख्यमंत्री यूपी को कहा ले जा रहे है।

ये भी पढ़ें—Muzaffarpur shelter Home Case: कोर्ट ने सुनाया ऐसा फैसला, कांप उठेंगे आरोपी

भाजपा अंग्रेजों की बांटो और राज करो की नीति पर चलती है

अखिलेश ने कहा कि भाजपा अंग्रेजों की बांटो और राज करो की नीति पर चलती है। कही जाति की तो कही धर्म की लड़ाई करा दी।

अखिलेश ने कहा पहले नोटबंदी करके अमीरों और गरीबों के बीच झगड़ा करा दिया, लाइन में लगा दिया और अब सीएए और एनआरसी के जरिए कागज के लिए लाइन में लगाने की तैयारी कर दी।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के समय सपना दिखाया था कि इससे भ्रष्टाचार और आतंकवाद खत्म हो जायेगा। एनआरसी की शुरूआत असम से हुई थी। वहां जब भाजपा को पता चल गया कि एनआरसी की सूची में हिंदूओं के नाम ज्यादा है और मुस्लिम कम है तो संविधान ही बदल दिया।

ये भी पढ़ें—ट्रक से टकराई फॉर्च्यूनर: हवा में उड़े सवारियों के टुकड़े, 7 की मौत

सपा मुखिया ने कहा कि बाबा साहब आम्बेडकर के बनाये गये हमारे संविधान में धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं था लेकिन भाजपा ने वह भी कर दिया।

उन्होंने कहा कि भाजपा ने देश को उलझा दिया है, गरीब कहा से अपने पिता की जन्मतिथि लायेगा, गांव में किसके पास घरों के कागज होते है।

सपा अध्यक्ष ने कहा कि सीएए व एनआरसी जहां मुसलमानों के साथ भेदभाव है तो वहीं गरीबों के खिलाफ है।

उन्होंने कहा कि हमने इससे पूर्व हुई जनगणना में जातीय आधार पर जनगणना की मांग की थी लेकिन कांग्रेस ने नहीं होने दी। जिस दिन जातीय आधार पर जनगणना हो जायेगी उस दिन हिंदू-मुसलमान या जातीय झगड़े खत्म हो जायेंगे।