कोविड-19: जिले में सभी को उपलब्ध कराई जा रहीं सुविधाएं, DM ने दी जानकारी

डीएम सुशील कुमार ने कोरोना के तहत जिले में उपलब्ध करायी जा रही सुविधाओं के बारे में जानकारी दी। DM ने कहा लाकडाउन में कोई भी नहीं सोएगा भूखा।

मिर्जापुर: डीएम सुशील कुमार पटेल ने कोरोना महामारी के तहत जिले में उपलब्ध करायी गयी सुविधाओं के बारे में जानकारी देते हुये बताया कि लाकडाउन के तहत कोई भी ऐसा व्यक्ति भूखा नहीं सोयेगा। उन्होंने जानकारी देते हुये बताया कि कोटेदार के द्वारा राशन वितरण के मामले में जिला प्रदेश में दूसरे स्थान पर है।

कोटेदार द्वारा 4,52, 629 कार्डधारकों को दिया गया राशन

ये भी पढ़ें-  अलीगढ़ में भी मिला कोरोना पॉजिटिव मरीज, ये भी है जमाती, प्रशासन में मचा हड़कंप

डीएम सुशील पटेल ने कोटेदार द्वारा कार्डधारकों को उपलब्ध कराये गये खाद्यान की विस्तृत जानकारी देते हुये बताया कि जिले में कोटेदार द्वारा 4,52, 629 कार्डधारकों को खाद्यान दिया जा रहा है। जिसमें 403421 कार्डधारकों को खाद्यान दिया जा चुका है। जिसमें अन्त्योदय, श्रम विभाग में पंजीकृत कार्डधारक, मनरेगा के मजदूर कुल 137993 कार्डधारकों को मुफ्त में राशन प्रदान किया गया है। इसके अलावा 474 नये कार्ड बने हैं जो किसी भी योजना से आच्छादित नहीं है। ठेले, खुमचे, पटरी दुकानदार इत्यादि शामिल हैं।

इन योजनाओं का मिला लाभार्थियों को लाभ

ये भी पढ़ें- शाही परिवार के 150 सदस्य कोरोना के शिकार, आइसोलेशन में किंग और क्राउन प्रिंस

 

बता दे कि उज्जवाल योजना के अन्तर्गत 2,25,579 लाभार्थियों को उनके खाते में अब 812 रूपये प्रति लाभार्थियों के एकाउंट में स्थानान्तरित किया जा रहा है। इसी प्रकार मनरेगा के अन्तर्गत् श्रमिकों को उपलब्ध करायी गयी धनराशि के बारे में जानकारी देते हुये डीएम सुशील पटेल ने बताया कि जिले में मनरेगा के अन्तर्गत श्रमिकों को 16.74 करोड की धनराशि उपलब्ध करायी गई। इसके अलावावा उन्होंने बताया कि वृद्धावस्था पेंशन योजना में जिले में 92553 पेंशनरों को वृद्धावस्था पेंशन की धनराशि अप्रैल एवं मई माह की उपलब्ध करायी गयी।

ये भी पढ़ें-  कोरोना से डॉक्टर की मौत पर रोया पूरा इंदौर, वजह जानकर आप भी रो देंगे

साथ ही निराश्रित महिला पेंशन विधवा पेंशन के तहत भी जिले में 39354 निराश्रित महिलाओं को अप्रैल एवं मई महीने की धनराशि उपलब्ध कराई तथा 13154 दिव्यांग पेंशनरों कों अप्रैल एवं मई महीने की पेंशन उपलब्ध करा दी गई है। इसके अलावा मनरेगा के अन्तर्गत श्रमिकों को 16.74 करोड की धनरशि उपलब्ध करायी गई।

डीएम ने दी पूरी जानकारी

श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिकों के बारे में जानकारी देते हुए जिलाधिकारी ने बताया कि जिले में 29423 पंजीकृत श्रमीकों को 1000 प्रति श्रमिक की दर से धनराशि उपलब्ध करायी गई। इसके अलावा जिले में ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में ऐसे व्यक्ति जिनके पास भरण-पोशण की कोई सुविधा उपलब्ध नहीं है। ऐसे 5649 व्यक्तियों को 1000 प्रति व्यक्ति की दर से धनराशि उनके बैंक एकाउंट में स्थानान्तरित करा दी गई है।

डीएम सुशील कुमार पटेल ने यह भी बताया कोरोना संक्रमण से बचाव के लिये गरीब, एवं मलिन बस्तियों व जरूरतमंद लोगों में 20,000 मास्क बांटे गये है। जिनमें से 13000 मास्क जिला जेल के बनाये गये हैं। जिले में कोई भूखा न सोये इसके लिये प्रतिदिन लगभग 10000 लोगों को भेजन कराया जा रहा है। इसको सामुदायिक किचन, जिला प्रशासन एनजीओ समाज सेवी संस्थओं के माध्यम से संचालित किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें- कोरोना वायरस: SAARC में पाकिस्‍तान के पैंतरे पर भारत ने दिया करारा जवाब

डीएम सुशील कुमार ने बताया कि लगभग 1000 जरूरतमंद लोगों को फूड किट में आटा, चावल,दाल,तेल,नमक इत्यादि प्रतिदिन दिया जा रहा है। डीएम ने आश्वासन दिया कि लाकडाउन के दौरान किसी भी व्यक्ति को किसी भी प्रकार से परेशानी नहीं होने दी जायेगी। लोग अपने घरों में रहें लाकडाउन को सफल बनाये ताकि कोरोना जैसी महामारी पर जीत हासिल किया जा सके।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App