×

बुनकरों का हक छीनने का मुद्दाः सपा ने निकाला मार्च, राज्यपाल से की गुहार

सपा द्वारा भाजपा सरकार द्वारा फ्लैट रेट समाप्त कर दिया गया तथा मीटर यूनिट के हिसाब से बिजली का बिल जमा करने का प्रावधान किया गया।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 4 July 2020 12:18 PM GMT

बुनकरों का हक छीनने का मुद्दाः सपा ने निकाला मार्च, राज्यपाल से की गुहार
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

अम्बेडकरनगर: प्रदेश सरकार द्वारा बुनकरों का बिजली का फ्लैट रेट समाप्त किये जाने के विरोध में समाजवादी पार्टी ने मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मो एबाद के नेतृत्व में टाण्डा से अकबरपुर जिला मुख्यालय तक पद मार्च किया। जिला मुख्यालय पंहुचने पर एबाद अहमद ने राज्यपाल को सम्बोधित सात सूत्रीय मांग पत्र जिलाधिकारी को सौंपा।

सपा ने जिला को सौंपा मांग पत्र

जिलाधिकारी को सौंपे गए मांग पत्र में कहा गया है कि टाण्डा नगर बुनकर बाहुल्य क्षेत्र है। यहां पर लाखों बुनकर मजदूर पावर लूम चलाकर अपने परिवार का भरण-पोषण करते हैं। 2006 में मुलायम सिंह यादव सरकार ने बुनकरों के लिए बिजली के फ्लैट रेट का निर्धारण किया था। जिसके बाद पूरे प्रदेश में बुनकरों को प्रति हार्स पावर 143 रूपये में बिजली प्राप्त होती थी। भाजपा सरकार द्वारा फ्लैट रेट समाप्त कर दिया गया तथा मीटर यूनिट के हिसाब से बिजली का बिल जमा करने का प्रावधान किया गया।

ये भी पढ़ें- महंगाई के विरोध में बिफरे कांग्रेसी, कानपुर से चीन तक बताया नाकाम

जिसके बाद प्रति हार्स पावर के लिए बुनकरों को लगभग तीन हजार रूपये बिजली बिल देना पड़ रहा है। ऐसे में यदि फ्लैट रेट व्यवस्था को किनारे किया गया तो बुनकर भुखमरी के कगार पर पंहुच जायेंगे। गौरतलब है कि प्रदेश सरकार द्वारा फ्लैट रेट व्यवस्था समाप्त किये जाने के बाद से बुनकर हड़ताल पर हैं।

मांग पत्र में की गईं ये मांगें

सपा नेता एबाद अहमद ने ज्ञापन के माध्यम से मांग की है कि चार दिसम्बर 2019 को जारी शासनादेश को वापस लेकर 14 जून 2006 को लागू की गई व्यवस्था पुनः अमल में लायी जाए। कैम्प लगाकर बुनकरों की पासबुक से भुगतान बिल का हिसाब कर फर्जी बकाया समाप्त कर अद्वेय प्रमाण पत्र जारी किया जाए। लॉकडाउन के समय में विद्युत बिल मार्च 2020 से दिसम्बर 2020 तक माफ किया जाय।

ये भी पढ़ें- शाबाश पुलिसः तीन साल पहले अपहृत हुए बच्चे को सकुशल किया बरामद

छोटे व कामदार बुनकरों को स्वरोजगार के लिए एक हार्सपावर से चार हार्स पावर तक तीन फेज कनेक्शन देने पर लगी रोक को हटाया जाए। पिछले 12 वर्षों से बुनकरों के यहां मीटर रीडिंग नही की गई है। इसलिए मीटर रीडिंग को शून्य कर नया लेजर बनाया जाय। इस दौरान सपा नेता अंकुश पटेल, मो0 शाद सिद्दीकी, आदर्श यादव, मो0 अशरफ, राजकुमार वर्मा, नितिन चैधरी, मो0 लारिब आदि मौजूद रहे।

रिपोर्ट- मनीष मिश्रा

Newstrack

Newstrack

Next Story