Top

प्रियंका गांधी ने लिखी मुख्यमंत्री को चिट्ठी, अधिकारी के मौत की हो पारदर्शी जांच

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय की मौत के मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 12 July 2020 9:58 AM GMT

प्रियंका गांधी ने लिखी मुख्यमंत्री को चिट्ठी, अधिकारी के मौत की हो पारदर्शी जांच
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बलिया: कांग्रेस महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने मनियर नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय के मौत मामले की पारदर्शी व मजबूत जांच की मांग की है। उन्होंने इसको लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। मनियर नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय की मौत का मामला अब गरमाने लगा है।

मामले की उच्च स्तरीय जांच के लिए प्रियंका ने लिखा सीएस योगी को पत्र

कांग्रेस महासचिव व उत्तर प्रदेश की प्रभारी प्रियंका गांधी ने अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय की मौत के मामले को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखा है। उन्होंने गत 9 जुलाई को लिखे गए अपने पत्र में लिखा है कि मुख्यमंत्री जी के संज्ञान में बलिया में घटी एक दुखद घटना जरूर आयी होगी। एक युवा पीसीएस अधिकारी को हमने खो दिया। खबरों के अनुसार मणि मंजरी राय ने अपने विभाग व पूरी व्यवस्था की कार्यप्रणाली पर गम्भीर प्रश्न उठाए हैं।

ये भी पढ़ें- विकास दुबे केस: गठित जांच आयोग 2 जुलाई और 10 जुलाई की घटनाओं की करेगा जांच

सामने आए हुए तथ्यों से व्यवस्था में काफी गहरे तक फैले भ्रष्ट तंत्र की तरफ इशारा मिलता है इस मामले की पारदर्शी व पूरी मजबूती से जांच मणि मंजरी के परिवार और ईमानदारी से काम करने वाले सभी अधिकारियों को न्याय दिलाने के लिए अति आवश्यक है। कोई कितना भी रसूखदार व्यक्ति हो, किसी के कहीं भी सम्बंध हों, अगर इस मामले में दोषी है तो उसको सजा जरूर होनी चाहिए। कांग्रेस महासचिव ने आज फेसबुक पर इस पत्र की जानकारी दी है। उन्होंने पोस्ट किया है कि उनको आशा है कि मंजरी के परिजनों को न्याय मिलेगा।

मंत्री अनिल राजभर ने कहा मामले के हर बिंदु की होगी जांच

उल्लेखनीय है कि अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय के भाई विजया नन्द राय ने मांग की है कि उनकी बहन के मौत के मामले की उच्च स्तरीय जांच हो। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा दर्ज कराए गए प्राथमिकी में बनाये गए आरोपी रसूखदार लोग हैं। ऐसे में उन्हें शक है कि आरोपियों द्वारा जिला प्रशासन पर अपने प्रभाव का उपयोग कर जांच को प्रभावित किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि उच्च स्तरीय जांच होने से इस जांच में जिला प्रशासन से जुड़े लोगों की कोई भूमिका नही रह जाएगी। ऐसे में जांच को प्रभावित करने की संभावना समाप्त हो जाएगी।

ये भी पढ़ें- लखनऊ में नई गाइडलाईन: सोमवार से रहेगा ऐसा हाल, इतने बजे तक खुलेंगी दुकानें

मृतिका के भाई के इस मांग पर दिव्यांग जन सशक्तिकरण मंत्री अनिल राजभर ने कहा है कि मृतिका के भाई का आरोप गम्भीर है। उन्होंने कहा कि वह मृतिका के परिजनों से बातचीत करेंगे तथा परिजनों की भावनाओं के अनुसार जांच कराने के लिये तैयार हैं। उन्होंने कहा कि परिजनों को संतुष्ट करना उनकी प्राथमिकता होगी। उन्होंने कहा कि अधिशासी अधिकारी राय से जुड़े हर मसले की जानकारी उन्हें व सरकार को है। इस मामले से जुड़े हर बिंदु की जांच होगी। इस मामले में जिम्मेदार जो कोई भी हो, बख्शा नहीं जएगा। मंत्री श्री राजभर बलिया के प्रभारी मंत्री हैं।

भाजपा सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने भी की उच्च स्तरीय जांच की मांग

उधर भाजपा किसान मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद वीरेंद्र सिंह मस्त ने भी मनियर नगर पंचायत की अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय के मौत मामले की उच्च स्तरीय जांच की मांग की है। उन्होंने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कल पत्र लिखकर कहा है कि मणि मंजरी तेज तर्रार अधिकारी थी। उन्होंने अपने पत्र में मृतिका के पिता की मांग का हवाला भी दिया है। पिता जय ठाकुर राय ने आत्महत्या के पीछे बड़े षड्यंत्र का आरोप लगाया है। उन्होंने उच्च स्तरीय कमेटी का गठन कर जांच कराकर दोषियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई की मांग की है।

ये भी पढ़ें- हुआ जोरदार धमाका: अचानक फटा सिलेंडर और लगी आग, महिला की दर्दनाक मौत

इस बीच अधिशासी अधिकारी मणि मंजरी राय की मौत के मामले में आरोपी मनियर नगर पंचायत के पूर्व अधिशासी अधिकारी संजय राव आज मीडिया के सामने आये। तथा सफाई देते हुए कहा कि दिवंगत ईओ मेरे परिवार के सदस्य की तरह थी। जरूरत पड़ने पर हमेशा वो सलाह लेती थीं। उन्होंने मणि मंजरी राय के परिजनों द्वारा खुद के उपर नामजद तहरीर देकर मुकदमा दर्ज कराने की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया। उन्होंने इसके साथ ही कहा कि उनको रणनीति के तहत फसाया गया है। उन्होंने अपनी और मणि मंजरी राय के बीच हुई बातचीत का कुछ कॉल रिकार्डिंग भी मीडिया को सुनाया। इस ऑडियो में दिवंगत ईओ समय-समय पर उनसे कार्यालय से संबंधित सलाह ले रही हैं।

रिपोर्ट- अनूप कुमार हेमकर

Newstrack

Newstrack

Next Story