कांवड़ यात्रा: अब यूपी में बजेगा ‘बम बम भोले’, डीजे पर हटा प्रतिबंध

16 जुलाई से निकलने वाली कांवड़ यात्रा के दौरान डीजे और माइक पर किसी तरह का प्रतिबंध नहीं रहेगा लेकिन फिल्मी गानों और अश्लील गानों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। बुधवार को CM योगी ने कांवड़ यात्रा को लेकर प्रदेश के अधिकारियों के साथ लोकभवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहे थे।

Published by Roshni Khan Published: July 4, 2019 | 11:00 am
Modified: July 4, 2019 | 12:42 pm
yogi

yogi

लखनऊ: हिंदू धर्म में होली,दिवाली,शिवरात्रि और जन्माष्टमी जैसे बड़े पर्वों के साथ ही कांवड़ यात्रा का भी विशेष महत्व है सदियों से भक्त पुरे मनोयोग से कांवड़ यात्रा करते आ रहे है। पहले जहां बैल गाड़ी या पैदल चल कर यात्रा पूरी की जाती थी वहीँ वर्तमान में उनका स्थान गाड़ियों ने ले लिया। भजन अब गायब हो चुके हैं। उनके स्थान पर फ़िल्मी गाने डीजे के साथ कानफोडू आवाज में बजने लगे हैं इसे देखते हुए यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार ने नया आदेश जारी किया है।

क्या हैं नया दिशा निर्देश

16 जुलाई से निकलने वाली कांवड़ यात्रा के दौरान डीजे और माइक पर किसी तरह का प्रतिबंध नहीं रहेगा लेकिन फिल्मी गानों और अश्लील गानों पर पूरी तरह से प्रतिबंध रहेगा। बुधवार को CM योगी ने कांवड़ यात्रा को लेकर प्रदेश के अधिकारियों के साथ लोकभवन में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर रहे थे।

CM योगी ने  अश्लील गानों पर लगाए प्रतिबंध

CM ने कहा कि डीजे और माइक पर कांवड़ यात्रियों को केवल भजन ही बजाने की अनुमति होगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ लोग माहौल बिगाड़ने की लगातार साजिश रच रहे हैं, इनकी मंशा को कतई कामयाब नहीं होने देना है। उन्होंने कहा कि जो लोग अराजकता फैलाने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें चिन्हित कर उनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करें।

कार्रवाई का दायरा अराजकता फैलाने वालों तक नहीं, बल्कि उनको संरक्षण देने वालों तक होना चाहिए। जड़ तक पहुंचेगे तो समस्या का समाधान हो जाएगा।

ये भी देंखे:राहुल गांधी की बढ़ी मुश्किलें, इस मामले में कोर्ट में होंगे पेश

कुंभ मेले से की कांवड़ यात्रा की तुलना

मुख्यमंत्री ने कहा कि अधिकारी कुंभ से सीख लें। अगर इतना बड़ा आयोजन इतनी सफलता से हो सकता है तो कांवड़ यात्रा का आयोजन भी इसी तरह किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके बाद छठ तक त्यौहारों का एक लम्बा सिलसिला चलने वाला है।

उन्होंने कांवड़ यात्रा की व्यवस्था के बारे में निर्देश दिया कि सभी जिलाधिकारी प्रमुख शिवालयों की साफ-सफाई के साथ जरूरत के अनुसार वहां बिजली, पानी, सुरक्षा खासकर महिलाओं की और अन्य बुनियादी सुविधाओं की व्यवस्था समय रहते सुनिश्चि करा लें। जरूरत हो तो स्थानीय स्तर पर स्वंयसेवी संगठनों की भी मदद लें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले वर्ष की तरह इस बार भी कांवड़ियों की सुरक्षा की निगरानी हेलीकॉप्टर से की जाएगी और कांवड़ यात्रियों पर पुष्प वर्षा की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि यह भी सुनिश्चित करा लें की शिवालयों के पास मांस और शराब की दुकान नहीं होनी चाहिए।

ये भी देंखे:थोड़ी देर में आएगा आर्थिक सर्वे, इन सेक्टर्स पर फोकस की उम्मीद

प्लास्टिक, थर्माकोल का प्रयोग नहीं होना चाहिए। कांवड़ मार्ग पर स्वच्छता का भी खास ख्याल रखने और डस्टबिन रखवाने के निर्देश मुख्यमंत्री ने दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांवड़ यात्रा के दौरान बकरीद पड़ने के कारण इसकी संवेदनशीलता बढ़ जाती है। लिहाजा यह सुनिश्चित कराएं की कहीं पर अलग से कोई परम्परा न शुरू हो। प्रतिबंधित श्रेणी का कोई जानवर नहीं कटने पाएगा। सार्वजनिक क्षेत्रों में भी जानवर नहीं काटे जाएंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि संवेदनशील जगहों पर सीसीटीव कैमरा लगवाएंए जर्जर तार और पोलों को ठीक कर लें।

अधिकारी करें जेलों का निरीक्षण

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलाधिकारी और एसएसपी जेलों का नियमित निरीक्षण करें। आईजी, डीआई और कमिश्नर भी जेलों का औचक निरीक्षण करें। जिलों में एसपी प्रतिदिन एक थाने का निरीक्षण करें। अगर प्रभावी ढंग से ऐसा हो जाता है तो अपराधों पर अपने आप अंकुश लग जाएगा। उन्होंने कहा कि डीएम और कप्तान 7 दिनों के अंदर भ्रष्ट अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सूची बनाकर शासन को भेजें।

ये भी देंखे:मुंबई: शिवडी कोर्ट पहुंचे राहुल गांधी

मुख्यमंत्री ने कहा कि डीएम पौधारोपण अभियान की अगुवाई खुद करें। साथ ही यह सुनिश्चित करें कि मानसून के इस सीजन में हर गरीब खासकर जो लोग प्रधानमंत्री आवास योजना से लाभान्वित हुए हैं, उनके घरों के सामने दो पौधे जरूर लगवाएं। जिले में ऐसे स्थानों को चिन्हित करें जहां एक साथ पांच लाख पौधे लगाए जा सकें। उन्होंने इस अभियान को जनआंदोलन बनाने पर जोर दिया।