Top

SDM पर भड़के BJP MLA, मंत्री के दरबार पहुंचा मामला, वजह जानकर हो जाएंगे दंग

सियासतदानों और नौकरशाहों के बीच वैसे तो गजब की जुगलबंदी देखने को मिलती है लेकिन कई बार इनके बीच तनातनी और गर्मागर्मी की भी खबरें सामने आ ही जाती हैं। ऐसे ही ईगो के टकराव का एक ताज़ातरीन मामला रामनगर पालिका परिषद कार्यालय देखने को मिला जहां कैंट से बीजेपी सौरभ श्रीवास्तव एसडीएम सदर प्रमोद पांडेय के व्यवहार से बुरी तरह नाराज हो गए।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 1 Nov 2020 2:22 PM GMT

SDM पर भड़के BJP MLA, मंत्री के दरबार पहुंचा मामला, वजह जानकर हो जाएंगे दंग
X
एसडीएम ने नहीं दी बैठने के लिए कुर्सी तो भड़क गए बीजेपी विधायक, मंत्री के दरबार में पहुंचा पूरा मामला
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

वाराणसी: सियासतदानों और नौकरशाहों के बीच वैसे तो गजब की जुगलबंदी देखने को मिलती है लेकिन कई बार इनके बीच तनातनी और गर्मागर्मी की भी खबरें सामने आ ही जाती हैं। ऐसे ही ईगो के टकराव का एक ताज़ातरीन मामला रामनगर पालिका परिषद कार्यालय देखने को मिला जहां कैंट से बीजेपी सौरभ श्रीवास्तव एसडीएम सदर प्रमोद पांडेय के व्यवहार से बुरी तरह नाराज हो गए। विधायक जी की नाराजगी इस कदर बढ़ी कि वो एक सेकेंड भी ऑफिस में नहीं रूके और बाहर निकलकर रामनगर किले के पास पहुंच गए। उन्होंने तत्काल नगर विकास मंत्री आशुतोष टंडन को मामले की जानकारी दी और पालिका कार्यालय में ईओ के नियुक्ति की मांग की।

खतरे की आशंका को देखते हुए एसडीएम ने किया मान मनौवल

उधर विधायक को मनाने के लिए एसडीएम जी हुजूरी में लगे रहें लेकिन नाराज विधायक ने अपने कार्यालय में आकर मिलने की बात कही। इस प्रकरण की चर्चा पूरे दिन नगर में होती रही। रामनगर पालिका में अधिशासी अधिकारी की नियुक्ति न होने के कारण एसडीएम सदर ही कार्यभार संभाले हुए हैं। रविवार को विधायक का कार्यालय सहित अन्य जगहों पर निरीक्षण होने का कार्यक्रम तय था। सबसे पहले विधायक वारीगड़ही स्थित एक विद्यालय में जनसुनवाई कार्यक्रम आयोजित था।

ये भी पढ़ें… करोड़पति भिखारन का धमाल: निकली 5 मकानों की मालकिन, देखते ही रह गए लोग

जहां सुल्तानपुर गांव से एक दर्जन से ज्यादा ग्रामीण सूखे व गीले कचरे का पृथक निस्तारण आसानी से करने के लिए बन रहे मैटरियल रिकवरी फैसिलिटी प्लांट की शिकायत की। ग्रामीणों की शिकायत थी कि आबादी के बीच में प्लांट बनने से परेशानी होगी। इस पर जन सुनवाई के बाद विधायक प्रस्तावित एमआरएफ प्लांट का निरीक्षण करने मौके पर पहुंचे।और प्रस्तावित प्लांट कार्य को रूकवा दिया। फिर विधायक नगर पालिका कार्यालय में पहुंचे। यहां एक कुर्सी पर एसडीएम व दो अन्य लोग दूसरी कुर्सी पर बैठे हुए थे। विधायक को देखने के बावजूद न तो एसडीएम ने कुर्सी मंगवाई और न ही किसी और ने। इस व्यवहार से विधायक नाराज हुए और वहां से चले गए।

एसडीएम का बर्ताव ठीक नहीं: बीजेपी विधायक

विधायक सौरभ श्रीवास्तव ने कहा कि जब अधिकारी जनप्रतिनिधियों से ही सही से बर्ताव नहीं कर रहे हैं तो आम जनता का क्या करेंगे। पूर्व में ही एसडीएम सदर के खिलाफ कुछ लोगों ने शिकायत की थी लेकिन उन्होंने स्वयं भी एसडीएम के रवैये को देख लिया। पार्टी के ऊपर के लोगों को मामले की जानकारी दे दी गई है।कहा कि बसपा तथि सपा सरकार में भी किसी अधिकारी ने ऐसा बर्ताव नहीं किया था।

ये भी पढ़ें…पत्थर-लाठियों से हमला: मिर्जापुर से बनाई खौफनाक योजना, निकिता केस में बवाल

दुर्व्यवहार करने की बात गलत है:एसडीएम

वहीं एसडीएम सदर प्रमोद पाण्डेय का कहना था कि विधायक के आते ही कुर्सी मंगवाई गई लेकिन कुछ लोगों के बहकावे में आने से वे नाराज हो गए। दुर्व्यवहार करने की बात गलत है। फिलहाल पूरा मामला मंत्री आशुतोष टंडन के पास पहुंच गया है। अब वो इस मामले में क्या फैसला लेते हैं इसका पता आने वाले कुछ दिनों में चल जाएगा।

आशुतोष सिंह

ये भी पढ़ें…देश में दौड़ा खतरा: दूसरी लहर से दहशत में आया देश, लोग कर रहे पलायन

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Monika

Monika

Next Story