भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं मगर उनके अधिकारी दिखा रहे ठेंगा: बाराबंकी DM

यह दृश्य बाराबंकी की जिला योजना बैठक का है जहाँ बाराबंकी और अयोध्या के सांसद के साथ जिले के सभी जनप्रतिनिधि जिलाधिकारी और अन्य बड़े अधिकारियों के साथ मौजूद थे ।

Published by Roshni Khan Published: October 27, 2020 | 3:43 pm
Modified: October 27, 2020 | 5:36 pm
barabanki-matter

भ्रष्टाचार बर्दाश्त नहीं मगर उनके अधिकारी दिखा रहे ठेंगा: बाराबंकी DM (Photo by social media)

बाराबंकी: बाराबंकी के जिलाधिकारी डॉक्टर आदर्श सिंह ने आते ही अधिकारियों को चेतावनी दी थी कि जिले में भ्रष्टाचार को वह बर्दास्त नही करेंगे और उनके नाम पर वसूली अक्षम्य होगी मगर जिलाधिकारी के रहते ही उनके अपने ही अधिकारी इससे बाज नही आ रहे । आज यह बात जिला योजना की बैठक में जनप्रतिनिधियों के सामने साफ हो गयी । सांसद और विधायकों की मौजूदगी में जिले के एक ब्लाक प्रमुख ने यह आरोप लगा कर सनसनी मचा दी ।

ये भी पढ़ें:आतंकियों पर बड़ा एक्शन: ये 18 आतंकी करार, मुंबई बम धमाके के आरोपी भी शामिल

यह दृश्य बाराबंकी की जिला योजना बैठक का है

यह दृश्य बाराबंकी की जिला योजना बैठक का है जहाँ बाराबंकी और अयोध्या के सांसद के साथ जिले के सभी जनप्रतिनिधि जिलाधिकारी और अन्य बड़े अधिकारियों के साथ मौजूद थे । यह जिलाधिकारी वही है जो जिले में आते ही सभी अधिकारियों की बैठक बुलाकर उन्हें भ्रष्टाचार और उनके नाम पर किसी प्रकार की धनवसूली से दूर रहने की चेतावनी देकर चर्चा में आ गए थे । आज जब वही जिलाधिकारी बैठक ले रहे थे तो जिले की निन्दूरा विकासखंड के ब्लाक प्रमुख विजय शुक्ला ने गरीबो को मिलने वाले आवास में धांधली और भ्रष्टाचार के आरोप जड़ कर सनसनी फैला दी।

barabanki-matter
barabanki-matter (Photo by social media)

ब्लाक प्रमुख विजय शुक्ल ने कहा कि जो एससी के लोग है वह कहीं जाकर अपनी बात कह भी नही सकते उनका आवास जो दूसरों को दे दिया गया वह उन्हें कब मिलेगा। ब्लाक प्रमुख के आरोप के बाद पूरा सदन जैसे बचाव की मुद्रा की आ गया और कार्यवाई होने की बात करने लगा।

ये भी पढ़ें:झांसी मंडल पर चलेगा सतर्कता जागरूकता अभियान

barabanki-matter
barabanki-matter (Photo by social media)

बैठक के बाद बाराबंकी के भाजपा सांसद उपेन्द्र सिंह रावत ने कहा

बैठक के बाद बाराबंकी के भाजपा सांसद उपेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि निन्दूरा ब्लाक से 5 गलत नाम सामने आए थे जाँच में एक नाम सही पाया गया और 4 नामो से रिकवरी की कार्यवाही हो रही है और जिन लोगों की वजह से ऐसा हुआ है उन पर विभागीय कार्यवाही भी हो रही है । जिलाधिकारी इस मामले में सख्त है और रामनगर के मामले में उन्होंने ही एफआईआर करवाई है ।

सरफराज वारसी

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App