कोरोना से जंग: आरएसएस ने खोला दत्तोपंत ठेंगड़ी अंत्योदय आईसोलेशन सेंटर

देश में कोरोना महामारी के मद्देनजर किए गए लॉकडॉउन के बाद जन सामान्य को विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। विशेषकर चिकित्सा, आवास, भोजन की कठिनाई गरीब, बेसहारा, मजदूर वर्ग और झुग्गी बस्तियों में रहने वाले परिवारों के लिए उत्पन्न हो गई है।

लखनऊ: देश में कोरोना महामारी के मद्देनजर किए गए लॉकडॉउन के बाद जन सामान्य को विभिन्न प्रकार की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। विशेषकर चिकित्सा, आवास, भोजन की कठिनाई गरीब, बेसहारा, मजदूर वर्ग और झुग्गी बस्तियों में रहने वाले परिवारों के लिए उत्पन्न हो गई है।

देश के विभिन्न हिस्सों से इस वर्ग की समस्याओं के समाधान में विद्या भारती ने अपने स्तर से ऐसे लोगों की सेवा और उनकी देखभाल के लिए भारत सरकार, राज्य सरकार, लखनऊ जिला प्रशासन को सहयोग के लिए सहमति दी है।

विद्या भारती (विश्व के सबसे बड़ा शैक्षिक संगठन) ने इस दिशा में पहल करते हुए लखनऊ स्थित निराला नगर में एक सेंटर की स्थापना भी की है। ‘दत्तोपंत ठेंगड़ी अंत्योदय आईसोलेशन सेंटर’ में लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. नरेन्द्र अग्रवाल की अनुमति मिलने के बाद कोरोना संदिग्ध रोगियों के लिए प्राथमिक स्तर पर 15 बेड का प्राथमिक चिकित्सा केंद्र बनाया गया है।

इस बार आम की पैदावार और आपूर्ति पर भी पड़ेगी कोरोना की मार,जानिए कैसे

10 बेड आईसोलेशन वार्ड के तौर पर तैयार

विद्या भारती के राष्ट्रीय सह संगठन मंत्री यतीन्द्र शर्मा जी के मुताबिक 10 बेड आईसोलेशन वार्ड के तौर पर माधव सभागार में लगाए गए हैं और 5 बेड विशेष आईसोलेशन कक्ष के तौर पर अलग अलग कमरों में लगाए गए हैं।

आवश्यकता पड़ने पर कुल 50 बेड की व्यवस्था तत्काल की जा सकती है, भविष्य में परिस्थितिनुसार सरस्वती कुन्ज परिसर के ही सरस्वती विद्या मन्दिर में भी इसका विस्तार किया जाएगा। जरूरतमंदों की सेवा में विद्या भारती के कार्यकर्ता सदैव तत्पर हैं।

विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश के क्षेत्रीय संगठन मंत्री हेम चन्द्र जी ने बताया कि विद्या भारती ने यह केन्द्र स्वदेशी जागरण मंच, भारतीय मजदूर संघ और भारतीय किसान संघ जैसे जमीनी संगठनों के संस्थापक स्व. दत्तोपंत ठेंगडी के जन्म शताब्दी वर्ष को समर्पित किया है। सेंटर पर मूलभूत सुविधाओं की व्यवस्था विद्या भारती प्रबन्धन के द्वारा की जा रही है।

जबकि चिकित्सकीय सुविधाएं मुख्य चिकित्सा अधिकारी के माध्यम से स्वास्थ्य विभाग किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी के द्वारा किया जाएगा। विद्या भारती उक्त केन्द्र पर विशेषकर गरीब, बेसहारा, मजदूर वर्ग, दैनिक कार्य करने वालों के साथ घरेलू कामकाज और झुग्गी बस्ती में निवास करने वालों को चिकित्सकीय मदद के साथ खाद्य सुविधाएं उपलब्ध करवएगी।

इस कंपनी का दावा- बना रही कोरोना का टीका, सितंबर में करेगी मनुष्य पर परीक्षण

जरूरतमंदों के लिए भोजन और नियमित सेवाओं में सहयोग

इस केन्द्र पर वैदिक सेवा न्यास के अध्यक्ष आचार्य श्यामलेश तिवारी अपनी टीम के साथ वैदिक परम्पराओं के अनुरूप शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य सहित जरूरतमंदों के लिए भोजन और नियमित सेवाओं में सहयोग कर रहे हैं। वहीं अन्य प्रकार के सहयोग और जरूरतमंदों के लिए राशन वितरण की व्यवस्था में विभिन्न सहयोगी संगठनों के साथ यूनाइट फाउण्डेशन योगदान कर रहा है।

इस केन्द्र के व्यवस्थापक और विद्या भारती के बालिका शिक्षा प्रमुख उमाशंकर मिश्र जी ने बताया कि विद्या भारती देशभर में लगभग 25,000 औपचारिक विद्यालय और अनौपचारिक केन्द्रों के माध्यम से शिक्षण गतिविधियों में पूर्णरूपेण समर्पित हैं।

विद्या भारती पूर्वी उत्तर प्रदेश में कुल 1101 विद्यालय संचालित हैं। जिनमें 35 लाख से अधिक विद्यार्थी अध्ययन करते हैं, विद्यालयों में डेढ़ लाख से अधिक शिक्षक आचार्य और अन्य स्टाफ उपलब्ध है। आवश्यकता पड़ने पर विद्या भारती, भारत सरकार और उत्तर प्रदेश सरकार के साथ मिलकर अपने सभी विद्यालयों में ऐसे केन्द्र संचालित करने के लिए तैयार है।

ये भी पढ़ें…कोरोना: वित्त मंत्रालय का बड़ा फैसला, जरूरी सामान की आपुर्ति के लिए उठाया ये कदम

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App