इस कंपनी का दावा- बना रही कोरोना का टीका, सितंबर में करेगी मनुष्य पर परीक्षण

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस के कहर से जूझ रही है। अब जॉनसन एंड जॉनसन ने कहा है कि उसने कोरोना वायरस के इलाज के लिए संभावित टीके की पहचान की है

पूरी दुनिया इस समय कोरोना वायरस के कहर से जूझ रही है। भारत में भी ये जानलेवा वायरस लगातार अपना प्रकोप फैला रहा है। लेकिन दुनिया के किसी देश के पास इसका को निश्चित उपचार नहीं है। ऐसे में अब जॉनसन एंड जॉनसन ने कहा है कि उसने कोरोना वायरस के इलाज के लिए संभावित टीके की पहचान की है जिसका सितंबर माह में मनुष्यों पर परीक्षण किया जाएगा।

अगले साल तक हो सकता है उपलब्ध

ये भी पढ़ें-  कोरोना से भारी नुकसान के बाद भी इन देशों की अर्थव्यवस्था पर नहीं पड़ेगा ज्यादा असर

जॉनसन एंड जॉनसन की ओर से कहा गया कि उन्होंने इस वायरस से निपटने के लिए संभावित टीके की पहचान कर ली है। यह अगले साल के शुरुआती महीनों में आपात इस्तेमाल के लिए उपलब्ध भी हो सकता है। कंपनी ने सोमवार को एक बयान में बताया कि फार्मास्यूटिकल कंपनी ने अमेरिकी सरकार के बायोमेडिकल एडवांस्ड रिसर्च एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किया है, जो इस प्रयास में एक अरब डॉलर का निवेश करेगा।

जनवरी में शुरू किया था काम

जॉनसन एंड जॉनसन ने जनवरी में एडी26 सार्स-सीओवी-2 पर जनवरी में काम करना शुरू किया था, जिसपर अब भी जांच चल रही है। इस टीके के लिए ईबोला के संभावित टीके को विकसित करने वाली प्रौद्योगिकी का ही इस्तेमाल किया जा रहा है।

ये भी पढ़ें-  अब सैलरी में कटौती: इन राज्यों ने लिया बड़ा फैसला, पढ़ें पूरी खबर

कंपनी के मुख्य विज्ञानी अधिकारी पॉल स्टोफेल्स ने कहा कि हमारे पास कई संभावित टीके थे, जिनका परीक्षण हमने जानवरों पर किया था। और उनमें से हमें सर्वश्रेष्ठ को चुनना था, इसमें 12 हफ्ते लग गए 15 जनवरी से लेकर आज तक का वक्त।

अभी तक नहीं बना पी कोई कम्पनी

कंपनी के मुख्य अधिकारी ने कहा कि हमें यह भी आंकना था कि कौन से संभावित टीके में सुधार किया जा सकता है। ताकि एक तरफ यह सुनिश्चित हो सके कि यह काम करे और दूसरी तरफ इसका ज्यादा से ज्यादा लाभ लिया जा सके।

ये भी पढ़ें-  कोरोना संदिग्धों को गजब की टेक्नोलॉजी से पकड़ रहा आंध्र प्रदेश

हालांकि आज तक कोरोना वायरस परिवार से संबंधित किसी भी वायरस के लिए सफल मानवीय टीका नहीं बन सका है, लेकिन स्टोफेल्स को भरोसा है कि वे इस उपलब्धि को हासिल कर लेंगे।

पूरी दुनिया में जारी कोरोना का कहर

ये भी पढ़ें- अवध शिल्पग्राम में लोगों की जांच करते हुए डॉक्टर व पुलिसकर्मी, देखें तस्वीरें

वहीं अगर कोरोना वायरस के प्रकोप की बात करें तो इस वायरस से पूरी दुनिया में अब तक 7 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं। जिनकी संख्या अब 764,866 हो चुकी है। वहीं 30 हजार से ज्यादा मौतें पूरी दुनिया में इस वायरस से हो चुकीं हैं। वहीं अगर बात करें भारत की तो, देश में इस वायरस से संक्रमित होने वों की संख्या 1300 के पार हो गयी है। वहीं इस वायरस से अभी तक 32 लोगों की जान जा चुकी है।