Top

BJP का इंतजार खत्मः ढाई साल बाद राज्य कार्यकारिणी की बैठक, जानें क्या होगा खास

मिली जानकारी के अनुसार बैठक का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेगें जबकि समापन पार्टी अध्यक्ष जय प्रकार नढ्ढा करेगें। इस बैठक से रिक्त पड़े कई मोर्चों के प्रदेश अध्यक्षों प्रभारियों एवं संयोजकों की भी नियुक्ति की जाएगी।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 1 March 2021 5:58 AM GMT

BJP का इंतजार खत्मः ढाई साल बाद राज्य कार्यकारिणी की बैठक, जानें क्या होगा खास
X
BJP का इंतजार खत्मः ढाई साल बाद राज्य कार्यकारिणी की बैठक, जानें क्या होगा खास (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: लम्बे इंतजार के बाद उत्तर प्रदेश राज्य कार्यकारिणी की बैठक होने जा रही है। यह बैठक आगामी 13 और 14 मार्च को लखनऊ में होेने जा रही है। बैठक के दौरान आगामी पंचायत चुनावों के अलावा अगले विधानसभा चुनावों को लेकर भी विचार विमर्श किया जाएगा। पहली बार भाजपा राज्य कार्यकारिणी की बैठक इतने लम्बे अंतराल के बाद हो रही है। इसके पीछे सबसे बड़ा कारण कोरोना काल रहा है। इसके पहले मेरठ में अगस्त 2018 में राज्य कार्यकारिणी की बैठक हुई थी। इस बीच लोकसभा चुनाव की तैयारियों के कारण भी बैठक का आयोजन नहीं हो सका था। पार्टी के संविधान के अनुसार हर तीन से छह महीने के भीतर बैठक का आयोजन करना होता है।

ये भी पढ़ें:सीनियर नैशनल टीम चयन प्रक्रिया में धांधली, महिला खिलाड़ियों ने CM से लगाई गुहार

मिली जानकारी के अनुसार बैठक का उद्घाटन मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेगें जबकि समापन पार्टी अध्यक्ष जय प्रकार नढ्ढा करेगें। इस बैठक से रिक्त पड़े कई मोर्चों के प्रदेश अध्यक्षों प्रभारियों एवं संयोजकों की भी नियुक्ति की जाएगी।

पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वाराणसी में कहा

हाल ही में पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने वाराणसी में कहा कि भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत देशभर में जहां 11 करोड़ टॉयलेट्स बने, वहीं उत्तर प्रदेश में लगभग 2 करोड टॉयलेट्स का निर्माण हुआ। यह केवल इज्जत घर नहीं बल्कि मातृशक्ति के सशक्तिकरण के माध्यम हैं। कांग्रेस ने जन-धन योजना का भी मजाक उड़ाया था लेकिन इंदिरा गांधी ने 1971-72 में बैंकों का राष्ट्रीयकरण करते हुए यह कहा था किससे गरीबों के लिए बैंक के दरवाजे खुलेंगे लेकिन 2014 तक देशभर में केवल पौने तीन करोड़ बैंक अकाउंट ही खुले थे।

ये भी पढ़ें:वैक्सीनेशन 2.0ः जानें रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया, टीके की कीमत से लेकर पूरी डीटेल यहां

देशभर में 50 करोड़ खाताधारक हैं जिसमें से लगभग 41 करोड़ जनधन खाते हैं

आज देशभर में 50 करोड़ खाताधारक हैं जिसमें से लगभग 41 करोड़ जनधन खाते हैं। इन 41 करोड़ जनधन खातों में से 7 करोड़ अकाउंट अकेले उत्तर प्रदेश में खुले हैं। इसी तरह उज्जवला योजना में भी जहां देश के 8 करोड़ से अधिक गरीब परिवारों को गैस कनेक्शन मिले वहीं उत्तर प्रदेश में 1.47 करोड़ गैस कनेक्शन वितरित किए गए। प्रधानमंत्री सौभाग्य योजना के तहत उत्तर प्रदेश के 1.28 करोड़ घरों में बिजली पहुंचाई गई। प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि के तहत अब तक देश के लगभग 9 करोड़ किसानों के अकाउंट में 1.13 लाख करोड़ की राशि पहुंचाई जा चुकी है। जितना काम किसानों के लिए मोदी सरकार ने विगत छः वर्षों में किया, उतना कांग्रेस की सरकारों ने आजादी के 70 सालों में भी नहीं किया।

रिपोर्ट- श्रीधर अग्निहोत्री

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story