राम जन्म भूमि ट्रस्ट को लेकर बढ़ा विवाद, भारी सुरक्षा बल तैनात

सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या राम जन्म भूमि पर सुप्रीम फैसले के बाद इस मामले में नया मोड़ आया है। बता दें कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास पर टिप्पणी को लेकर मणिराम दास छावनी के संत आज भड़क उठे।

अयोध्या: सुप्रीम कोर्ट के अयोध्या राम जन्म भूमि पर सुप्रीम फैसले के बाद इस मामले में नया मोड़ आया है। बता दें कि अयोध्या में श्री राम जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास पर टिप्पणी को लेकर मणिराम दास छावनी के संत आज भड़क उठे।

बताया जा रहा है कि सैकड़ों की संख्या में संतों ने परमहंस दास के तपस्वी छावनी आश्रम पर धाबा बोल दिया। मामला बिगड़ता देख परमहंस ने खुद को तपस्वी छावनी के कमरे में सुरक्षित बंद कर दिया।

यह भी पढ़ें. रामलला कमाते हैं दिन के ₹1000, सरकार बढ़ा सकती है सैलरी

भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात…

घटना की सूचना मिलने के बाद भारी संख्या में सुरक्षा बल तैनात कर दिए गए हैं। परमहंस पर मणिराम दास छावनी के संतों ने महंत नृत्य गोपालदास के बारे में अभद्र भाषा का आरोप लगाया है।
ज्ञात हो कि इसी वजह से संत नाराज हैं। जानकारी के मुताबिक महंत नृत्य गोपालदास के बारे में अभद्र भाषा का आरोप लगा रहे हैं।

यह भी पढ़ें.  10 करोड़ की होगी मौत! भारत-पाकिस्तान में अगर हुआ ऐसा, बहुत घातक होंगे अंजाम

मौके पर एडीएम सिटी रेजिडेंट मजिस्ट्रेट एसपी सिटी और सीओ अयोध्या समेत कई बड़े अधिकारी वहां पहुंचे हुए हैं। न्यास अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास के शिष्य सैकड़ों की संख्या में मौजूद हैं।

यह है पूरा मामला…

अयोध्या राम मंदिर बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 9 नवंबर को ऐतिहासिक फैसला दिया है।

यह भी पढ़ें. दुनिया का पहला केस! मच्छर से नहीं इससे हुआ डेंगू 

कोर्ट ने विवादित भूमि का मालिकाना हक राम जन्मभूमि न्यास को दिया है, वहीं मुस्लिमों को मस्जिद बनाने के लिए अयोध्या में किसी और जगह 5 एकड़ वैकल्पिक जमीन दी जाएगी।
इसके साथ ही कोर्ट ने केंद्र सरकार को 3 महीने में ट्रस्ट बनाने को कहा है, कोर्ट ने निर्मोही अखाड़ा और वक्फ बोर्ड की याचिका खारिज कर दी है।