कोरोना संकट के बीच दांव पर इनकी जान: पहुंचे प्रवासी श्रमिकों के घर, ये है वजह

उत्तर प्रदेश के प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 73 जनपदों में 2332 कोरोना के मामले एक्टिव हैं।

श्रीधर अग्निहोत्री 

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में स्थापित 5862 क्रय केन्द्रों के माध्यम से लगभग 259.14 लाख कुन्तल गेहूँ की खरीद की जा चुकी है। साथ ही श्रमिक भरण-पोषण योजना के तहत निर्माण कार्यों से जुड़े, नगरीय एवं ग्रामीण क्षेत्र के लगभग 32.77 लाख श्रमिकों एवं निराश्रित व्यक्तियों को भी एक-एक हजार रूपए के रूप में कुल 327.67 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है।

इन राज्यों से आए यूपी में हजारों की तादाद में प्रवासी श्रमिकों

अपर मुख्या सचिव गृह अवनीश कुमार अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में गुजरात से 397 ट्रेन से 5,65,333 लोग, महाराष्ट्र से 213 ट्रेन से 2,77,534 लोग, पंजाब से 171 ट्रेन से 1,95,129 प्रवासी श्रमिकों को लेकर प्रदेश में आ चुकी हैं।

लाॅकडाउन का उल्लंघन करने वालों से वसूला गया लाखों में जुर्माना

अवस्थी ने बताया कि लाॅक डाउन अवधि में पुलिस विभाग द्वारा की गयी कार्यवाही में फेस मास्क न लगाने वाले 5,298 लोगों का चालान करते हुए 4,98,750 जुर्माना वसूला गया है। उन्होंने बताया कि हाॅट स्पाॅट क्षेत्र में लाॅक डाउन का उल्लंघन करने वाले 38,472 लोगों पर कार्रवाई करते हुए 24,59,650 का जुर्माना वसूल किया गया। इसके अतिरिक्त दोपहिया वाहनों पर एक से अधिक सवारी बैठाने वाले 18244 लोगों से 14,90,725 रू0 का जुर्माना वसूल किया गया। उन्होंने बताया कि प्रदेश के 873 हाॅटस्पाॅट क्षेत्र के 485 थानान्तर्गत 7,80,293 मकान चिन्हित किये गये। इनमें 43,44,982 लोगों को चिन्हित किया गया है।

ये भी पढ़ेंः राज्यपाल से मिले शिवसेना नेता संजय राउत, दिया ये बड़ा बयान

यूपी के 73 जिलों में 2332 कोरोना के मामले एक्टिव

प्रमुख सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया कि प्रदेश के 73 जनपदों में 2332 कोरोना के मामले एक्टिव हैं। उन्होंने बताया कि अब तक 3335 मरीज पूरी तरह से उपचारित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि कल 836 पूल टेस्ट किये गये, जिसमें 143 पूल पाॅजीटिव पाये गये। उन्होंने बताया कि आरोग्य सेतु अलर्ट जनरेट होने पर लोगों को कन्ट्रोल रूम से काॅल किया जा रहा है। अब तक कुल 30,994 लोगों को फोन कर उनके स्वास्थ्य के बारे में जानकारी ली गयी है।

आशा वर्कर्स, निगरानी समिति घर-घर जाकर कर रहे प्रवासी श्रमिकों से संपर्क

उन्होंने बताया कि आशा वर्कर्स द्वारा प्रवासी श्रमिकों के घर पर जाकर सम्पर्क कर उनके लक्षणों का परीक्षण कर रही हैं,श्रमिकों का सैम्पल इकट्ठा कर जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि आशा वर्कर्स द्वारा अब तक 7,44,821 प्रवासी कामगारों/श्रमिकों से उनके घर पर जाकर सम्पर्क किया गया। उन्होंने बताया कि ग्राम एवं मोहल्ला निगरानी समितियों के द्वारा निगरानी का कार्य सक्रियता से किया जा रहा है। अब तक 89,131 निगरानी समिति के माध्यम से 70,85,368 घरों में रह रहे 3,54,83,704 लोगों से सम्पर्क किया गया है।

ये भी पढ़ेंः अब कोई नहीं रहेगा प्यासा, DM बोले- ”जल जीवन मिशन” के तहत हर घर पहुंचेगा पानी

सरकारी और 2500 से अधिक निजी अस्पताल दे रहे इमरजेन्सी सेवाएं

उन्होंने बताया कि प्रदेश में सरकारी अस्पतालों द्वारा इमरजेन्सी सेवाएं दी जा रही हैं लेकिन 2500 से अधिक निजी चिकित्सालयों में इमरजेन्सी सेवाएं प्रारम्भ हो गई हैं। उन्होंने बताया कि टीकाकरण का कार्य निरन्तर किया जा रहा है। कोविड वाॅलण्टियर्स के रूप में एनएसएस, एनसीसी, नेहरू युवक मंगल दल के युवक/युवतियों को जोड़ा जा रहा है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।