×

मांगों को लेकर हड़ताल पर रहे अधिवक्ता, अदालत में नहीं हुआ कोई काम

बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के आहवान पर सोमवार को हाईकोर्ट के अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहे। तमाम मांगों को लेकर की गई प्रदेश व्यापी हड़ताल की वजह से सोमवार को न्यायिक कार्य नहीं हो सका।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumarBy Dharmendra kumar

Published on 29 July 2019 4:29 PM GMT

मांगों को लेकर हड़ताल पर रहे अधिवक्ता, अदालत में नहीं हुआ कोई काम
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

प्रयागराज: बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के आहवान पर सोमवार को हाईकोर्ट के अधिवक्ता न्यायिक कार्य से विरत रहे। तमाम मांगों को लेकर की गई प्रदेश व्यापी हड़ताल की वजह से सोमवार को न्यायिक कार्य नहीं हो सका। आज कई न्यायालयों में सुबह न्यायिक शुरू हुआ तो अधिवक्ताओं ने कोर्ट रूम पहुंचकर न्यायिक कार्य बंद करने का अनुरोध न्यायमूर्तियों से किया।

हाईकोर्ट बार के अध्यक्ष राकेश पांडेय एवं महासचिव जेबी सिंह की अगुवाई में सैकड़ों की संख्या में अधिवक्ता हाईकोर्ट के तमाम द्वार पर खड़े रहे। अध्यक्ष राकेश पाण्डे ने कहा कि प्रदेश में अधिवक्ताओं के साथ अप्रिय घटनाओं एवं अधिवक्ताओं की मांगें पूर्ण न होने के कारण आज अधिवक्ता हड़ताल पर रहे।

यह भी पढ़ें…उन्नाव रेप केस-हत्या : भाजपा विधायक समेत 10 पर बड़ी कार्रवाई

महासचिव जेबी सिंह ने कहा कि अधिवक्ताओं के ऊपर आये दिन हमले, जान से मारने की धमकी एवं सुरक्षा को लेकर आज सांकेतिक रूप से न्यायित कार्य से विरत रहे। उन्होंने कहा कि अधिवक्ताओं के वेलफेयर फंड की धनराशि अविलम्ब जारी करने की मांग करते हुए हाईकोर्ट बार गंभीर है। इस मौके पर अखिलेश कुमार मिश्र, वीरेन्द्र नाथ उपाध्याय, अजीत यादव, सौरभ तिवारी, प्रियदर्शी त्रिपाठी, आशुतोष पाण्डेय, सर्वेश दुबे, नीलम शुक्ला, आंचल ओझा, अजय कुमार मिश्र, उदयशंकर तिवारी, शिवांगी भार्गव आदि रहे।

यह भी पढ़ें…उन्नाव रेप पीड़िता सड़क हादसा/साजिश: यहां जानें इससे जुड़े 5 तथ्य

हाईकोर्ट बार के साथ ही लॉयर्स वेलफेयर एसोसिएशन उत्तर प्रदेश के पदाधिकारी भी न्यायिक कार्य से विरत रहे। बार कौंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष हरिशंकर सिंह और बार के अध्यक्ष राकेश पांडेय के नेतृत्व हाईकोर्ट में सभी अधिवक्ता एकत्र हुए। लॉयर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अधिवक्ताओं ने हड़ताल का समर्थन किया। लॉयर्स वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अशोक कुमार सिंह और महासचिव मनीष द्विवेदी ने अधिवक्ताओं की हत्या, पीड़ित परिवार को मुआवजा न देना व अधिवक्ता समाज को सुरक्षा प्रदान न करने के विरोध में एक स्वर से नारेबाजी करते हुए विरोध प्रदर्शन किया। इस मौके पर अधिवक्ता अशोक कुमार सिंह कलहंस, मनीष द्विवेदी, कमल देव पांडेय, विजय कुमार राय, मान सिंह वर्मा, पंकज शर्मा, संजय शुक्ल आदि रहे।

एडवोकेट्स एसोसिएशन ऑफ इण्डिया के तत्वावधान में एडवोकेट अजीत भाष्कर के नेतृत्व में एसोसिएशन के सदस्यों ने जुलूस निकाला। सदस्यों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को संबोधित एक ज्ञापन जिलाधिकारी कार्यालय पर सौंपा। श्री भाष्कर ने कहा कि अधिवक्ता न्यायालय का अधिकारी होता है, जिसके द्वारा जनता को न्याय मिल पाना सुलभ हो पाता है। यदि प्रदेश में अधिवक्ता समाज ही सुरक्षित नहीं है तो आम जनता सुरक्षित कैसे रह सकती है। पूरे प्रदेश में खुलेआम हत्याएं हो रही हैं। अधिवक्ता समाज ने एडवोकेट प्रोटेक्शन की मांग की है।

यह भी पढ़ें…उन्नाव रेप और विधायक: जानिए इस मामले की पूरी हकीकत

इस अवसर पर रूपेन्द्र नाथ सिंह, संतोष यादव, सी पी निगम, अखिलेश मौर्या, उषा सिंह, जफर अहमद, विष्णु भगवान, वीरेन्द्र कुमार, विनय रावत, प्रेम चन्द्र पटेल, रतन चन्द्र वर्मा, कृपाशंकर यादव, अली अहमद, मो.अनस, एस.पी.शेखर आदि उपस्थित रहे। राष्ट्रीय जन समर्थन पार्टी अधिवक्ता सभा के बैनर तले जिलाध्यक्ष एडवोकेट चन्द्र प्रकाश निगम की अध्यक्षता में एक बैठक आयोजित कर उ.प्र. बार कौंसिल द्वारा घोषित प्रदेशव्यापी हड़ताल का समर्थन किया गया। इस अवसर पर जिलाध्यक्ष चन्द्रपकाश निगम, सौरभ सिंह, सुरेश बहादुर, श्याम पाल, सुधीर भारती, विनोद मौर्या, बाल मुकुन्द कुशवाहा, राजकुमार कुशवाहा, मुकेश यादव, जगदीश प्रसाद पटेल, दीबा सलाम आदि उपस्थित रहे।

Dharmendra kumar

Dharmendra kumar

Next Story