CM योगी आदित्यनाथ के आदेशों का पालन नहीं कर रहा जिला प्रशासन

यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी डीएम को आदेश दिए हैं कि बाहर से गांव व कस्बों को पहुंचे लोगों को अलग ठहराया जाए। उनके लिए भोजन की व्यवस्था सरकारी महकमे से की जाए।

CM योगी आदित्यनाथ के आदेशों का पालन नहीं कर रहा जिला प्रशासन

अजय मिश्रा

कन्नौज। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने सभी डीएम को आदेश दिए हैं कि बाहर से गांव व कस्बों को पहुंचे लोगों को अलग ठहराया जाए। उनके लिए भोजन की व्यवस्था सरकारी महकमे से की जाए। लेकिन यह दावा सिर्फ हवा-हवाई ही है। जमीनी हकीकत देखी तो दावों की पोल खुल गई। न तो भोजन की व्यवस्था सचिव व प्रधान करा रहे हैं और न ही परिजनों को रोका जा रहा है। अपने होने की वजह से भोजन व नाश्ता घरवाले ही करा रहे हैं।

ये भी पढ़ें…कोरोना से जंग: अजीम प्रेमजी का विप्रो ग्रुप खुद ऐसे खर्च करेगा 1125 करोड़

पैदल चलने के बाद पुलिस ने ठेले पर बिठाया

ब्लॉक सदर कन्नौज इलाके के प्राथमिक स्कूल गुखरू में दो लोगों को ठहराया गया है। स्कूल दरवाजे के बाहर बाहर खड़ी एक महिला अंदर ठहरे लोगों को बुला रही थी। अंदर से एक युवक आता है और दरवाजा खोलता है।

महिला ने बताया कि यह लोग उसके घर के ही हैं। रिश्ते में बेटा व देवर है। पूछने पर बताया कि वह घर से यहां भोजन लेकर आई थी, अब बर्तन लेने के लिए आई हैं। सचिव या किसी ने भोजन के लिए सुविधा नहीं दी। ठहरे युवक ने अपना नाम शिवम बताया। साथ में चाचा का नाम आनंद बताया।

आनंद ने बताया कि वह जिला अस्पताल में जांच कराने के बाद ही यहां आए हैं। राजस्थान में काम करते थे। उदयपुर से पैदल भरतपुर तक आए। उसके बाद 70 हजार रुपए में स्लीपर बस हुई। उसने सभी लोगों को आगरा छोड़ दिया।

वहां से पैदल चलने के बाद पुलिस ने ठेले पर बिठाया, उसने भी बेबर में छोड़ दिया। वहां से पैदल ही यहां तक आए हैं। इसके अलावा अन्य कई सरकारी स्कूलों और पंचायत घरों में लोगों को पनाह दी गई है, लेकिन भोजन आदि की दिक्कत हो रही है।

ये भी पढ़ें…बचा लो मोदी सरकार: यहां भारतीय छात्रों ने लगाई गुहार, जाने पूरा मामला

क्या कहते हैं प्रधान

ग्राम प्रधान पूरनलाल ने बताया कि स्कूल में दो ही लोग रुके हैं जो सोमवार की रात को आए। महिला व बच्चे भी थे, लेकिन बाहरी। रात काटने के बाद वह सुबह होते ही निकल गए। भोजन की व्यवस्था के बारे में कहा कि रात को ही तो आए हैं।

सीएमओ बोले

सीएमओ डॉ. कृष्ण स्वरूप ने बताया कि बाहर से आये हुए लोगों को अब अलग अलग रोका गया है। 14 दिन तक यहां रहना होगा। दिक्कत होने पर डॉक्टरों की टीम सम्बंधित स्कूल, कॉलेज या पंचायत घरों में पहुंचेगी।