यूपी बोर्ड तक पहुंचा कोरोना का कहर, अब टीचर्स ऐसे चेक करेंगे परीक्षा की कापियां

लखनऊ: जानलेवा कोरोना का कहर चीन से निकल कर दुनिया भर में अपना पैर पसार चुका है। देश में लगातार कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों को देखते हुए अब सरकार ने भी इसे आपदा घोषित कर दिया है। इस बीच खबर आ रही है कि यूपी बोर्ड की 10वीं-12वीं परीक्षा की कॉपियों के लिए 16 मार्च से शुरू हो रहे मूल्यांकन पर भी कोरोना को लेकर सतर्कता बरती जाएगी। यूपी बोर्ड की सचिव नीना श्रीवास्तव ने सभी जिला विद्यालय निरीक्षकों और सभी 275 केंद्रों के प्रधानाचार्यों को शनिवार को सावधानी बरतने का निर्देश दिया है।

जांच करने वाले शिक्षकों के लिए हेल्पलाइन भी हुआ जारी-

उन्होंने कहा कि मूल्यांकन के दौरान कक्ष में दो परीक्षकों को न्यूनतम एक मीटर की दूरी पर बैठाने की व्यवस्था की जाए। केंद्र पर स्वच्छ पेयजल की हमेशा व्यवस्था रहे और शौचालयों की नियमित साफ-सफाई की व्यवस्था की जाए। मूल्यांकन केंद्रों पर परीक्षकों-शिक्षणेत्तर कर्मचारी जिन फर्नीचर की उपयोग कर रहे हैं उनकी नियमित सफाई कराई जाए। दरवाजे, खिड़की एवं उनके हैंडिल्स की भी सफाई हो। शिक्षकों-कर्मचारियों के हाथ धोने के लिए साबुन-सेनेटाइजर के इंतजाम करें।

ये भी पढ़ें: दिग्गज हस्तियों की जान को खतरा, इस महामारी ने इनको भी नहीं छोड़ा

मूल्यांकन के दौरान किसी भी कर्मचारी आदि में कोरोना से पीड़ित होने के लक्षण जैसे खांसी, जुखाम, बुखार, सांस फूलने आदि के लक्षण दिखते हैं तो हेल्पलाइन नंबर 18001805145 पर कॉल कर उपचार की सुविधा तत्काल सुनिश्चित कराई जाए। साथ ही ऐसे परीक्षक और शिक्षणेत्तर कर्मचारी को मूल्यांकन कार्य से अलग ही रखा जाए।

 शिक्षकों ने की कॉपियों के मूल्यांकन को स्थगित करने की मांग-

वहीँ शिक्षकों ने 16 मार्च से शुरू हो रहे मूल्यांकन को स्थगित करने की मांग की है। शिक्षकों का कहना है कि केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से 13 मार्च को जारी एडवाइजरी को देखते हुए मूल्यांकन को स्थगित किया जाना अत्यंत आवश्यक है। मूल्यांकन कार्य यदि एक या 2 सप्ताह बाद शुरू किया जाएगा, तो किसी प्रकार की समस्या नहीं आने वाली है। लेकिन इसके लिए प्रदेश के तकरीबन डेढ़ लाख शिक्षकों को जोखिम में नहीं डाला जा सकता है। मूल्यांकन केंद्रों पर वैसे भी न तो साफ-सफाई की व्यवस्था रहती है, न ही शुद्ध पेयजल की।

ये भी पढ़ें: कमलनाथ के विधायक तैयार, फ्लोर टेस्ट को लेकर कांग्रेस की थमी सांसें

बता दें कि शिक्षक विधायक ने शनिवार को बोर्ड सचिव से इस संबंध में बात की। जिस पर सचिव ने कहा यह शासन स्तर से ही संभव है। माध्यमिक शिक्षक संघ ठकुराई गुट के प्रदेश महामंत्री ने प्रदेश सरकार से मांग की है कि मूल्यांकन को कम से कम एक सप्ताह के लिए स्थगित किया जाए।

देश में बढ़ी कोरोना के मरीजों की संख्या-

गौरतलब है कि देश में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिसे लेकर सरकार द्वारा भी एहतियात बरतने की हिदायत दी जा रही है। साथ ही अफवाहों से भी बचने की लगातर सलाह दी जा रही है। बता दें की देश में अब तक कोरोना के 80 मरीज पाएं गये हैं। वहीँ अब तक दो लोग के मौत की पुष्टि हुई है।

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस: ऐसे होगा अंतिम संस्कार, सरकार ने बनाए ये नियम