×

ईद मुबारक: कोरोना ने नहीं मिलने दिया गले, इस बार ऐसे मनाई गई ईद-उल-फितर

ईद के त्यौहार को सादगी से मनाई जाने के लिए पूरे जिले में प्रशासन अलर्ट रहा। किसी भी तरह का धारा 144 का उलंघन नही हुआ। पुलिस के अधिकारियों द्वारा रात भर गस्त की गई। पुलिस प्रशासन ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि ईद का त्यौहार अपने घरों में मनाए।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 25 May 2020 7:39 AM GMT

ईद मुबारक: कोरोना ने नहीं मिलने दिया गले, इस बार ऐसे मनाई गई ईद-उल-फितर
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

औरैया: पहले जब ईद की नमाज अता हो जाती थी उसके बाद सभी भाई बुजुर्ग एवं बच्चे एक दूसरे को गले मिलकर बधाइयां देते थे। मगर इस बार नजारा कुछ और ही देखने को मिला। जिसमें लोग गले मिलकर तो बधाई देते हुए नहीं दिखाई दिए वरन सलाम के माध्यम से एक दूसरे को बधाई देने का नजारा दिखाई दिया।

सादगी के साथ मनाया गई ईद

बताते चलें कि कभी ईद का त्यौहार ईदगाह में हजारों लोग एक साथ मनाया करते थे। नमाज भी हजारों की संख्या में ईदगाह में एकत्रित होकर अदा किया करते थे लेकिन अबकी बार सभी लोगों ने ईद का त्यौहार अपने घरों में सादगी के साथ मनाया और देश को कोरोना जैसी महामारी से बचाव के लिए इबादत की।

ईद के त्यौहार को सादगी से मनाई जाने के लिए पूरे जिले में प्रशासन अलर्ट रहा। किसी भी तरह का धारा 144 का उलंघन नही हुआ। पुलिस के अधिकारियों द्वारा रात भर गस्त की गई। पुलिस प्रशासन ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि ईद का त्यौहार अपने घरों में मनाए। किसी भी तरह का कोई भी सोशल डिस्टेंस का उलंघन न हो।

ये भी देखें: फ्लाइट में 5 साल का बच्चा: नन्हें कदमों से अकेले पहुंचा मां के पास

इबादत के माध्यम से इस महामारी को जड़ से समाप्त कर देंगे

अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ सपा के जिलाध्यक्ष अब्दुल सत्तार ने मुस्लिम भाइयों से अपील करते हुए कहा कि वह लोग सरकार के बताए गए नियमों का पालन करें। जिससे कि पूरा देश कोरोना संक्रमण की लड़ाई में जीत हासिल कर सके। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा जो भी गाइडलाइन जारी की गई है उसी के अनुसार नियमों का पालन करें। उन्होंने कहा कि यह संक्रमण अब हमारे हिंदुस्तान को ज्यादा दिनों तक परेशान नहीं कर सकता है क्योंकि हिंदुस्तान के लोग इबादत के माध्यम से इस महामारी को जड़ से समाप्त कर देंगे। इसी क्रम में सभी मुश्लिम भाइयों ने अपने घरों में ईद की नमाज अदा कर अमन-चैन को लेकर दुआ की।

घरों पर रहकर ही ईद की नमाज अदा की

इस संबंध में अपर पुलिस अधीक्षक कमलेश दीक्षित ने कहा कि जनपद औरैया हिंदू मुस्लिम एकता का प्रतीक माना जाता है और इस बार ईद पर भी यही नजारा देखने को मिला। उन्होंने कहा कि पुलिस प्रशासन द्वारा जो अपील मुस्लिम भाइयों से की गई थी उन्होंने उसका पूर्णतया पालन किया और अपने घरों पर रहकर ही ईद की नमाज अदा की। उन्होंने बताया कि जिला प्रशासन पूरी तरह से सभी ईदगाह पर नजर बनाए रखे हुए हैं। मगर कहीं पर भी उन्हें धारा 144 का उल्लंघन होते हुए नहीं दिखाई दिया।

ये भी देखें: भारत को खतरा: हमे बचना होगा इस देश से, नए-नए पैंतरे अपना रहा

रिपोर्टर- प्रवेश चतुर्वेदी, औरैया

SK Gautam

SK Gautam

Next Story