पति-पत्नी ने उठाया ये खौफनाक कदम, हर कोई रह गया दंग

घटनास्थल से पुलिस को एक डायरी पर कुछ लिखा प्राप्त हुआ है। इसमें क्या लिखा है पुलिस किसी को नहीं बता रही। पुलिस डायरी को सील कर जांच के नाम पर अपने साथ ले गई है।

suicide

suicide

एटा: जनपद के थाना कोतवाली नगर क्षेत्र के मौहल्ला अवन्ती बाई नगर में बीती रात को इंजीनियर पति और उसकी पत्नी ने संदिग्ध परिस्थितियों में गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

ग्राम प्रधान सुशील लोधी व पडोसियों की सूचना पर पहुंची पुलिस ने घर का दरवाजा तोड़ कर मृतकों के शवों को कब्जे में लेकर जांच प्रारंभ कर दी गई। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सुनील कुमार सिंह व जिलाधिकारी सुखलाल भारती ने घटना स्थल का निरीक्षण कर घटना का शीघ्र खुलासा करने के उद्देश्य से फाॅरेन्सिक टीम व थाना पुलिस को कार्यवाही के निर्देश दिए हैं।

अभी-अभी कांपा पाकिस्तान: सेना ने तबाह किए पोस्ट, सैनिकों को उतारा मौत के घाट

किराये के मकान में रहते थे

प्रभारी निरीक्षक अशोक कुमार ने बताया कि हमे सूचना मिली कि रात्रि में अवन्ती बाई नगर मौहल्ले में राजेश कुमार राजपूत के मकान में दो लोगों के शव पड़े है। सूचना पर पहुंची पुलिस और प्रधान सहित मौहल्ले के लोगों ने घर का दरवाजा तोड़ शवों को कब्जे में ले लिया है। मृतक 30 वर्षीय धीरेन्द्र कुमार वशिष्ठ पुत्र सत्यप्रकाश तिवारी निवासी इब्राहिम पुर नगरिया थाना रिजोर व उसकी पत्नी 28 वर्षीय गंगोत्री बीते 8 दिन पूर्व राजेश कुमार के मकान में किराये पर आये थे और मकान में दूसरी मंजिल में यह लोग ही रहते थे। नीचे का मकान खाली था। पति पत्नी ने गोली मारकर अत्महत्या क्यो की अभी जांच की जा रही है।

मृतिका के भाई विनय तिवारी ने बताया कि बीती शाय में अपनी बहन बहनोई से मिल कर गया कोई लड़ाई झगड़ा नहीं था स्थिति सामान्य थी अब दोनों के गोली लगी है इस घटना का कोई कारण समझ में नहीं आ रहा है। आखिर उन्होंने इतनी बड़ी घटना को अंजाम क्यों दिया।।

पुलिस को मिली डायरी

घटनास्थल से पुलिस को एक डायरी पर कुछ लिखा प्राप्त हुआ है। इसमें क्या लिखा है पुलिस किसी को नहीं बता रही। पुलिस डायरी को सील कर जांच के नाम पर अपने साथ ले गई है। सवाल यही है कि क्या कहीं इस डायरी में ही तो मौत का राज नहीं छुपा है।

उक्त घटना के बाद धीरेंद्र जिस जवाहर तापीय परियोजना में नौकरी करता था। वहां का एक अलग इतिहास है, जिसमें अब तक हो रहे बड़े घोटालों का राज छुपाने के उद्देश्य माफियाओं ने दर्जनों निर्दोष लोगों को मौत के घाट उतार कर अपने खिलाफ जाने वाले सबूतों को नष्ट किया जा चुका है।

कहीं उसी किसी राजका राजदार तो नहीं था धीरेंद्र यह हत्या है या आत्महत्या इसकी जांच किया जाना अति आवश्यक है पुलिस ने दोनों मृतकों के शवों को पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

रिपोर्टर- सुनील मिश्रा , एटा

रो देंगे आप: सुशांत की बहन ने लिखा भावुक पोस्ट, फैंस के आंखों में आए आंसू