बड़ी लापरवाही: शव ले जाने के लिए देने पड़े पैसे, CMO बोले नहीं लगता कोई चार्ज

प्रदेश सरकार द्वारा मृतकों के शव उनके घरों तक फ्री पहुंचाने के लिए सभी जनपदों में निशुल्क शव वाहन उपलब्ध कराने से आम जन मानस ने काफी राहत महसूस की तथा सरकार के इस प्रयास की प्रसंसा भी की गई।

Published by Shreya Published: May 21, 2020 | 5:26 pm
Modified: May 21, 2020 | 5:40 pm

एटा: प्रदेश सरकार द्वारा मृतकों के शव उनके घरों तक फ्री पहुंचाने के लिए सभी जनपदों में निशुल्क शव वाहन उपलब्ध कराने से आम जन मानस ने काफी राहत महसूस की तथा सरकार के इस प्रयास की प्रसंसा भी की गई। किंतु आज जिलाचिकित्सालय एटा में एक 60 वर्षीय वृद्ध की मौत के बाद शव पोस्टमार्टम के लिये लाया गया।

शव वाहन ले जाने के लिए देने पड़े पैसे

पोस्टमार्टम के बाद परिजनों ने शव को शव वाहन से घर तक भेजने को मुख्य चिकित्सा अधीक्षक राजेश अग्रवाल से कहा गया तो उन्होंने शव वाहन ले जाने के लिए 5 लीटर डीजल के रूपये लेने के बाद ही वाहन भेजा गया। जबकि सरकार द्रारा शव वाहन मुफ़्त में भेजने की व्यवस्था की गयी है। जनपद के थाना बागवाला क्षेत्र के ग्राम नगला मई के समीप बने स्पीड ब्रेकर पर तीन दिन पूर्व आयशर केंटर ने 60 वर्षीय वृद्ध पहुंचीं लाल  को शौच से वापस लौटते समय टक्कर मार कर घायल कर  कैंटर चालक मय वाहन के फरार हो गया।

यह भी पढ़ें: अभी-अभी आतंकी हमला: दहल उठा कश्मीर, चली ताबड़-तोड़ गोलियां

घटना के बाद परिजनों ने उसे उपचार के लिए जिला चिकित्सालय लाया गया जहां से डाक्टर ने उसे अलीगढ़ रैफर कर दिया गया। अलीगढ़ ले जाते समय ही रास्ते में मौत हो गई। घटना की सूचना पर पुलिस ने मृतक के शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा है।

परिजनों ने मुख्य चिकित्साधिकारी से की शिकायत

घटना के तीसरे दिन आज मृतक के शव का पोस्टमार्टम कराया गया। उसके बाद मृतक के परिजनों ने मुख्य चिकित्सा अधीक्षक राजेश अग्रवाल से मृतक का शव घर ले जाने के लिए शव वाहन मांगा तो उन्होंने शव वाहन ले जाने के लिए डीजल के रूपये देने की बात कही। साथ ही कहा कि बिना डीजल के पैसे दिए हम वाहन नहीं भेजेंगे। इस पर मृतक के परिजनों ने मुख्य चिकित्साधिकारी अजय अग्रवाल से फोन पर शव ले जाने के पैसे मांगने की शिकायत की तो उन्होंने बताया कि शव वाहन से शव ले जाने का कोई पैसा नहीं लगता है। उसके बाद पीड़ित ने सी एम एस  से बात कराई गयी उसके बाद भी वृद्ध के शव को उसके गांव नगला मई ले जाने के रूपये देने के बाद ही शव जा सका।

यह भी पढ़ें: Eid al-Fitr: पहले किसने मनाया था ये त्यौहार और कैसे हुई इसकी शुरुआत, यहां जानें

पोस्टमार्टम गृह पर पोस्टमार्टम कराने आई मृतक के नाती रजनीश ने बताया की हमारे बाबा की एक्सीडेंट के दौरान मौत हो गई थी। उनका आज पोस्टमार्टम हुआ है। पोस्टमार्टम के बाद हमने जिला चिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक राजेश अग्रवाल से शव वाहन से सब भेजे जाने का आग्रह किया तो उन्होंने कहा कि शव वाहन पैसे लेकर जाता है।

शव ले जाने की पैसे देने पड़ेंगे तो हमने सीएमएस द्वारा फ्री जाने वाले वाहन की रुपए मांगने की शिकायत मुख्य चिकित्सा अधिकारी देखी तो उन्होंने बताया कि शव वाहन से सब दे जाने के कोई पैसे नहीं लगते। उसके बाद भी मुख्य चिकित्सा अधीक्षक ने शव वाहन नहीं भेजा हम से पैसे लेने के बाद ही वाहन भेजा है।

केवल इन्हीं शवों को ले जाया जाता है फ्री

मुख्य चिकित्सा अधिकारी अजय अग्रवाल ने बताया की शव वाहन की सुविधा मुफ्त है। शव पहुंचाने का कोई चार्ज नहीं लगता। मुख्य चिकित्सा अधीक्षक राजेश अग्रवाल ने वार्ता करने पर बताया कि जिला चिकित्सालय में उपचार के दौरान हुई मौत वाले शव को ही फ्री पहुंचाया जाता है। शेष के शव ले जाने पर रुपए लगते हैं। साथ ही उन्होंने बताया अगर किसी व्यक्ति की रास्ते में मौत हो जाती है तो उसे हमारी 112 नंबर की गाड़ी लाती है।

यह भी पढ़ें: तय हुआ फ्लाइट्स का किराया, 25 मई से शुरू हो रहा संचालन

आपको बताते चलें कि प्रदेश सरकार द्रारा प्रत्येक जिले को  तीन तीन शव वाहन उपलब्ध कराये गये हैं। जिनका प्रयोग पोस्ट मार्टम ग्रह पर पर होने वाले किसी भी शव को उनके घरों तक पहुंचाने की मुफ्त व्यवस्था है। जिन शवों को लेकर जाने का खर्च सरकार द्रारा जनहित में किया जाता है। चाहे पोस्टमार्टम के लिए आने वाले व्यक्ति. की मौत का कारण कोई भी हो शव वाहन उसके शव को निशुल्क घर ले जायेगा।

वहीं शव के साथ आये दलवीर सिंह व मृतक के परिजनों ने  जिलाधिकारी से जिलाचिकित्सालय के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक राजेश अग्रवाल के शव वाहन से शव भेजे जाने  के अवैध रूपये वसूल किये जाने की उच्च स्तरीय जांच कर कार्यवाही की मांग की है।

रिपोर्ट- सुनील मिश्रा

यह भी पढ़ें: अभी-अभी आतंकी हमला: दहल उठा कश्मीर, चली ताबड़-तोड़ गोलियां

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।