Top

फिरोज़ाबाद: पंचायत चुनाव से पहले का हाल, नहीं कराया सही तो पड़ सकता है भारी

उत्तर प्रदेश सरकार पंचायत चुनाव की तैयारी कर रही है, सूत्रों के मुताबिक अप्रैल में पंचायत चुनाव हो सकते हैं, लेकिन इस चुनाव से पहले क्या है पंचायतों की स्थिति उनसे हम आपसे रूबरू करा देते हैं।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 28 Jan 2021 10:49 AM GMT

फिरोज़ाबाद: पंचायत चुनाव से पहले का हाल, नहीं कराया सही तो पड़ सकता है भारी
X
फिरोज़ाबाद: पंचायत चुनाव से पहले का हाल, नहीं कराया सही तो पड़ सकता है भारी (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

फ़िरोज़ाबाद: पंचायत चुनाव से पहले कुछ पंचायतों की हालत है बद से बदत्तर, सड़क है खराब सड़क में गड्ढे, पूरी तरह हे जलभराव, ग्रामीण निकलने के लिए परेशान नहीं हुई अब तक कोई सुनवाई, करीब 5,000 वोटिंग की है पूरा पंचायत क्षेत्र।

ये भी पढ़ें:भारत का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे: खासियतें ऐसी कि हो जाएंगे गदगद, जानें इसके बारे में

उत्तर प्रदेश सरकार पंचायत चुनाव की तैयारी कर रही है

उत्तर प्रदेश सरकार पंचायत चुनाव की तैयारी कर रही है, सूत्रों के मुताबिक अप्रैल में पंचायत चुनाव हो सकते हैं, लेकिन इस चुनाव से पहले क्या है पंचायतों की स्थिति उनसे हम आपसे रूबरू करा देते हैं। हम बात फिरोजाबाद की कुर्रीकूपा पंचायत की कर रहे हैं। जहां गांव नगला गिरधारी का जो मेन रोड है, जोकि 3 गांव के लिए होकर जाता है। वहां की स्थिति बद से बदतर है, 500 मीटर जो सड़क है वह बहुत ज्यादा खराब है सड़क में इतने गड्ढे हैं।

ऐसा लगता है कि गड्ढों में सड़क बनी हुई है, इतनी खराब है कि चारों तरफ काफी तादाद में जलभराव है। जिस से निकलने वाले ग्रामीणों को काफी समस्या का सामना करना पड़ता है। ग्रामीणों का आरोप है कि कई बार गांव की महिलाएं बच्चे पुरुष गंदे पानी में सड़क खराब होने की वजह से गिर चुके हैं। इस पंचायत में नगला गिरधारी में प्राथमिक विद्यालय भी है। यहां तक कि बच्चे पढ़ने नहीं जा पाते और वह जाते हैं, तो उसकी वजह से उन्हें काफी परेशानी होती है।

ये भी पढ़ें:रेलवे ने शुरू की खास सेवा, अब घर से ट्रेन तक पहुंचाया जाएगा सामान

ग्रामीणों का कहना है

ग्रामीणों का कहना है, यह समस्या 3 साल से बराबर बनी हुई है ना तो गांव के प्रधान सुनते है और ना ही कोई अधिकारी, वही यह सड़क पीडब्ल्यूडी विभाग में आती है रही नाली बनवाने की बात तो प्रधान बनवाने तैयार है, लेकिन गांव वाले इसमें सहयोग नहीं करते उसका कहना है कि झगड़ा होने की संभावना रहती है।

रिपोर्ट- बृजेश सिंह राठौर

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story