Top

बाराबंकी में बाढ़ की दस्तकः दहशत में लोग, गांव छोड़ करने लगे पलायन

उत्तर प्रदेश से सटे जिले बाराबंकी में इस बार बाढ़ ने फिर से दस्तक दी है और इस भयानक बाढ़ से जिले के लगभग 34 गाँव प्रभावित भी हो गए है।

Shivani

ShivaniBy Shivani

Published on 7 July 2020 6:47 PM GMT

बाराबंकी में बाढ़ की दस्तकः दहशत में लोग, गांव छोड़ करने लगे पलायन
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

बाराबंकी: उत्तर प्रदेश से सटे जिले बाराबंकी में इस बार बाढ़ ने फिर से दस्तक दी है और इस बाढ़ से लगभग 34 गाँव प्रभावित भी हो गए है। इस बाढ़ की दहशत मात्र से ग्रामीण गाँव छोड़ कर सुरक्षित स्थानों की और पलायन करते दिखाई दे रहे है। बाढ़ भारी बारिश और नेपाल द्वारा पानी छोड़े जाने के बाद आयी है और इसका प्रत्यक्ष प्रमाण सरयू नदी का 60 सेन्टीमीटर खतरे के निशान से ऊपर बहना है। नदी का यह पानी हर घण्टे 3 सेंटीमीटर की रफ़्तार से बढ़ भी रहा है।

भारी बारिश और नेपाल द्वारा पानी छोड़े जाने से बाराबंकी में बाढ़

बाराबंकी के सिरौलीगौसपुर के सनावा गाँव में तबाही मची है। यहाँ से लोग पलायन कर रहे हैं क्योंकि गाँव में बाढ़ ने दस्तक दे दी है। बाराबंकी से होकर गुजरने वाली सरयू ( पूर्व में घाघरा ) नदी इस बार समय से पहले ही अपना रौद्र रूप दिखा रही है। इसका कारण लगातार हो रही मूसलाधार बारिश और नेपाल राष्ट्र द्वारा ढाई लाख क्यूसेक का पानी छोड़े जाना है।

जलमग्न फसलें, गाँवों में भरा पानी

सरयू का पानी कई गाँवों के अन्दर प्रवेश कर चुका है और कई गाँवों की फसलें तबाह कर चुका है। ग्रामीणों में दहशत का माहौल है और वह अनहोनी के डर से अपने घरों को छोड़कर सुरक्षित स्थान की और पलायन करते दिखाई दे रहे हैं। अब तक यह पानी लगभग 34 गाँवों को प्रभावित कर चुका है।

ये भी पढ़ेंः कानपुर कांड: अब चौबेपुर थाने पर गिरी गाज, सभी पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई

बाढ़ से 34 गांव के लोग प्रभावित

पलायन करते बुजुर्ग महिला ग्रामीण ने बताया कि हम सामान लेकर बन्धे पर जा रहे हैं क्योंकि गाँव में पानी आ गया हैं। ग्रामीणों ने बताया कि सरकार का इंतज़ाम हो रहा है लेकिन गाँव में पानी आने के कारण हमें पलायन करना पड़ रहा है।

ग्रामीणों का सुरक्षित स्थान की और पलायन

बाढ़ के बारे में सिरौलीगौस पुर के उपजिलाधिकारी प्रतिपाल सिंह चौहान ने बताया कि सनावा गाँव में आबादी सुरक्षित है लेकिन कृषि क्षेत्र तक पानी जरूर पहुँचा है। इसके अलावा कहारनपुरवा में भी पानी पहुँच गया है। वहां के लोगों को पहले ही हमने विद्यालय में शिफ्ट करा दिया था। अब ऊपर बन्धे पर शिफ्ट करा रहे हैं।

ये भी पढ़ेंः अखिलेश यादव ने रिक्शा चालकों पर किया बड़ा एलान, ऐसे मदद करेगी सपा

बाढ़ से निपटने की तैयारी की उपजिलाधिकारी ने दी जानकारी

बाढ़ से निपटने की तैयारी के बारे में उपजिलाधिकारी ने बताया कि हमारी कई बाढ़ की चौकियां है जो काम में लगी हुयी हैं। हमने 200 नावों की भी व्यवस्था कर रखी है। जहाँ जरुरत होती है वहां उसे भेजा जाता हैं । चौकियों पर बाढ़ से निपटने के लिए हर जरुरी सामान की व्यवस्था कर दी गयी है। टीमों को अलर्ट कर दिया गया है। राशन की किट भी उपलब्ध कराई जा रही है। इसके अलावा आश्रय स्थल भी बना रहें हैं,जो आबादी प्रभावित होगी उसे आश्रय स्थल पर रखा जायेगा।

रिपोर्टर: शरफराज वारसी, बाराबंकी

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Shivani

Shivani

Next Story