Top

नहीं लौटा शिवम: दोस्तों ने ही उतारा मौत के घाट, ऐसे दिया घटना को अंजाम

शिवम 3 नवंबर को प्रेमनगर क्षेत्र में स्थित सांई कोचिंग सेंटर पर ट्यूशन पढ़ने गया था। इसके बाद वह वापस नहीं लौटा था। देरशाम जब शिवम घर नहीं पहुंचा तो परिजनों को चिंता हुई।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 7 Nov 2020 11:20 AM GMT

नहीं लौटा शिवम: दोस्तों ने ही उतारा मौत के घाट, ऐसे दिया घटना को अंजाम
X
नहीं लौटा शिवम: दोस्तों ने ही उतारा मौत के घाट, ऐसे दिया घटना को अंजाम
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

झाँसी: उधार पर दिए पांच हजार रुपयों की खातिर दोस्तों ने ही अपने दोस्त को मौत के घाट उतार दिया। इसके पहले दोस्तों ने शिवम को ट्यूशन से घर लौटते समय अगवा किया गया था। इस मामले में पुलिस ने एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया। जबकि दूसरे आरोपी की तलाश जारी है।

दोस्तों ने ही शिवम को उतारा मौत के घाट

प्रेमनगर थाना क्षेत्र के बिहारीपुरा मोहल्ले में खेमराज अहिरवार परिवार समेत रहता है। उसके दो पुत्र है। इनमें शिवम व अभिषेक है। शिवम 3 नवंबर को प्रेमनगर क्षेत्र में स्थित सांई कोचिंग सेंटर पर ट्यूशन पढ़ने गया था। इसके बाद वह वापस नहीं लौटा था। देरशाम जब शिवम घर नहीं पहुंचा तो परिजनों को चिंता हुई। इसकी सूचना खेमराज की पत्नी श्रीमती गीता ने थाने में दी।

पुलिस ने पहले गुमशुदी दर्ज कर ली थी। बाद में जानकारी मिली तो पुलिस ने अपहरण का मुकदमा दर्ज कर लिया था। उधर, पुलिस शिवम की तलाश में लगी हुई थी। वहीं, प्रेमनगर क्षेत्र में स्थित गढ़िया डैम के बरामद के पास कुछ लोग गए तो वहां पर शिवम का शव पड़ा था। इसकी जानकारी लगते ही मृतक के परिजन वहां पहुंच गए।

friend killed shivam

उधार पर दिए पांच हजार रुपयों को लेकर किया घटना को अंजाम

उन्होंने शव की पहचान की। सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने मृतक के परिजनों से पूछताछ की। बाद में पुलिस ने शिवम के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम को भेज दिया। पुलिस ने गीता की तहरीर पर आदित्य और राहुल के खिलाफ दफा 364,302,201 के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया। उधर, एसएसपी दिनेश कुमार पी के निर्देश पर पुलिस टीम ने छापा मारकर बिहारीपुरा मोहल्ले में रहने वाले राहुल अहिरवार को गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद उससे पूछताछ की। पूछताछ के दौरान उसने साथी के साथ मिलकर शिवम की हत्या करने की बात स्वीकार की। पुलिस ने निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त रुमाल बरामद कर लिया।

ये भी देखें: फिर जली किशोरी: अवैध संबंध को लेकर किया ऐसा, आरोपी युवक गिरफ्तार

पैसों को लेकर कर रहा था बेइज्जत

राहुल अहिरवार ने बताया है कि वह, शिवम और इसी मोहल्ले में रहने वाले आदित्य बाल्मीकि खास दोस्त थे। तीनों मिलकर पढ़ाई भी करते थे। उसने बताया कि शिवम ने आदित्य बाल्मीकि को पांच हजार रुपया उधार पर दिए थे। दो साल से शिवम लगातार आदित्य से पैसा वापस करने की बात कह रहा था। कइयों पर शिवम ने आदित्य को बेईज्जत भी किया था।

इसी बात को लेकर कहासुनी हो जाती थी लेकिन बाद में शांत हो जाते थे। कुछ दिनों पहले आदित्य ने उससे कहा कि शिवम ने उसे पूरी तरह से बेइज्जत किया है। इसका बदला जरुर लेंगे। राहुल ने बताया कि 3 नवंबर को शिवम ट्यूशन पढ़ने गया था। पढ़कर घर लौट रहा था, तभी उसे दोनों ने रोक लिया। इसके बाद मोटर साइकिल पर बैठाकर गढ़िया डैम के गेस्ट हाउस में ले गए थे। वहीं पर दोनों ने शिवम के नीचे लिटाया और रुमाल से गला घोंट दिया था। इसके बाद वह घर आकर रहने लगे थे मगर इसकी जानकारी किसी को नहीं थी।

ये भी देखें: दबंगों की करतूत: डीआईओएस के आवास पर दी धमकी, कानून का कोई डर नहीं

साहब, बेटा की लाश तो मिल गई, कब पकड़े जाएंगे हत्यारे

शिवम की लाश मिलते ही मोहल्ले के लोग इकट्ठा हो गए। दर्जनों महिलाएं वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पहुंची। यहां उन्होंने एसएसपी से मुलाकात की और कहा कि साहब, बेटा की लाश की मिल गई मगर हत्यारे कब पकड़े जाएंगे। यह बात सुनते ही एसएसपी गंभीर हुए और प्रेमनगर थाने की पुलिस को हत्यारोपियों को पकड़ने के फरमान जारी कर दिया। मां गीता का कहना है कि उसके बेटे की हत्या में पुलिस ने लापरवाही की है। अगर पुलिस लापरवाही नहीं बरतती तो उसका बेटा जिंदा मिल जाता।

ये भी देखें: बाराबंकी के अद्भुत दिए अयोध्या में प्रज्वलित करेंगे मुख्यमंत्री- अवनीश अवस्थी

इस टीम को मिली सफलता

प्रेमनगर थाना प्रभारी निरीक्षक निगवेन्द्र प्रताप सिंह, नैनागढ़ चौकी प्रभारी अभिनेन्द्र सिंह, एसआई चंद्रशेखर, हेड कांस्टेबल कृष्णकांत यादव, शिवकरन सिंह, शैलेन्द्र शुक्ला, मनीष कुमार, जसवंत सिंह, राहुल कुमार और हरेन्द्र सिंह शामिल रहे हैं।

रिपोर्ट-बीके कुशवाहा, झाँसी

Newstrack

Newstrack

Next Story