लड़की से छेड़छाड़: शिकायत पर पुलिस ने दिया ऐसा जवाब, दंग रह गई पीड़िता

जनपद के थाना बागवाला क्षेत्र के ग्राम मानिकपुर में एक किशोरी से गांव के गुंडों ने छेड़छाड़ की और जबरन घर से उठा ले गए। जिसके बाद लड़की के परिजन…

Published by Ashiki Patel Published: July 8, 2020 | 7:20 pm
Modified: July 8, 2020 | 7:22 pm

एटा: जनपद के थाना बागवाला क्षेत्र के ग्राम मानिकपुर में एक किशोरी से गांव के गुंडों ने छेड़छाड़ की और जबरन घर से उठा ले गए। जिसके बाद लड़की के परिजन थाना बागवाला न्याय मांगने पहुंचे। लेकिन न्याय नहीं मिला। परिजनों का आरोप है कि कोतवाल ने उल्टा लड़की को गुंडों को सौंपने को बोल दिया। परिजनों के अनुसार पुलिस का कहना है कि हम गुंडों का हम कुछ नहीं कर सकते। अब इस मामले पर वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने जांच के आदेश दे दिए हैं।

ये भी पढ़ें: पाकिस्तान ने भारत पर बोला हमला, दो भारतीयों को मारा, सेना ने दिया मुंहतोड़ जवाब

कोतवाल बोले लड़की को गुंडों को सौंप दो

थाना बागवाला पुलिस द्वारा कार्यवाही न करने और गुंडों को बचाने को लेकर पीड़ित महिला सुनीता देवी आज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एटा सुनील कुमार सिंह से मिलने उनके कार्यालय पहुंची और थानाध्यक्ष द्वारा पीड़िता की शिकायत पर कोई कारवाई न करने और पुत्री को गुंडों को सौंप देने की शिकायत की।

पीड़ित की मां ने वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कार्यालय पर मीडिया को बताया कि मेरी पुत्री के साथ 14 जून को गांव के ही कुछ गुंडों ने छेड़छाड़ की और उसे अगवा कर बलात्कार करने की भी कोशिश की। इसकी शिकायत करने जब मैं थानाध्यक्ष विपिन त्यागी के पास गई तो उन्होंने कार्रवाई से इनकार करते हुए कह दिया कि अपनी पुत्री को गुंडों को सौंप दो। मैं कुछ नहीं कर सकता।

ये भी पढ़ें: छा गए भोजपुरिया: पवन सिंह और मोनालिसा ने दिखाया जलवा, मचाया तहलका

पीड़ित की मां ने बताया कि 14 जून को हमारी नावालिग पुत्री अपने बाग से लकड़ी लेने शाम 6 बजे गयी थी। तभी उसे गांव की एक महिला शशी पत्नी शेर सिंह व तीन अन्य गुंडा प्रवृति के लोगों ने घेर लिया और अश्लील हरकतें की और अगवा कर ले जाने लगे।

लड़की के शोर मचाने पर आसपास के लोग वहां पहुंच गए। जिसके बाद ये लोग वहां से भाग गए। महिला के पति ने घटना की तहरीर उसी समय थाना बागवाला पर दी और थाना पुलिस ने शेर सिंह को तुरंत गिरफ्तार कर लिया और थाने ले आए किंतु बाद में शेर सिंह को पुलिस ने राजनीतिक दबाव या निजी स्वार्थ के चलते छोड़ दिया और प्रार्थी की रिपोर्ट दर्ज नहीं की। उसके द्वारा पूर्व में भी कई लड़कियों को बातों में फंसा कर इधर-उधर भेजा जा चुका है।

रिपोर्ट: सुनील मिश्रा

ये भी पढ़ें: बिहार: पटना में 10 जुलाई से 16 जुलाई तक लॉकडाउन लागू करने का फैसला