Top

खुशखबरी: किसान करा सकेंगे पंजीकरण, इस दिन से खुलेंगे जनसुविधा केंद्र

लॉकडाउन की वजह से जनसुविधा केंद्र व कॉमन सर्विस सेंटर यानि सीएससी बंद चल रहे थे, सिर्फ मिनी बैंक ब्रांच वाले ही खुले हैं, लेकिन इन दिनों भीड़ चल रही है। लोग पेंशन, जनधन योजना के खातों व श्रमिकों को दी गई योजनाओं का पैसा निकालने के लिए पहुंच रहे हैं। अब किसानों की दिक्कतें दूर हो जाएंगी।

SK Gautam

SK GautamBy SK Gautam

Published on 18 April 2020 1:38 PM GMT

खुशखबरी: किसान करा सकेंगे पंजीकरण, इस दिन से खुलेंगे जनसुविधा केंद्र
X
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कन्नौज: उत्तर प्रदेश में सरकारी केंद्रों पर गेहूं बिक्री करने से पहले किसानों का रजिस्ट्रेशन होना जरूरी है। लॉकडाउन की वजह से बंद चल रहे जनसुविधा केंद्रों की वजह से किसान काफी परेशान थे। इस समस्या का समाधान हो गया है। गांव के ही केंद्र खोलने की अनुमति मिल गई है। 20 अप्रैल से पूरे उत्तर प्रदेश में लाभ मिलने लगेगा।

किसानों को गेहूं की बिक्री की लगी चिंता

यूपी में 15 अप्रैल से 15 जून तक किसानों से सरकारी केंद्रों पर गेहूं खरीदने का समय निर्धारित है। किसानों की सबसे बड़ी समस्या थी कि उनका पंजीकरण ही नहीं हो पा रहा है, तो वह गेहूं की बिक्री कैसे करेंगे। कारण, लॉकडाउन के चलते तकरीनब सब बंद चल रहा है। बात अगर सिर्फ कन्नौज की हो तो यहां 39 सरकारी खरीद केंद्र खोले गए हैं।

पहले जिला स्तर पर ही अधिकारियों ने गेहूं खरीद केंद्र के निकट के दो जनसुविधा केंद्र खोलने की मौखिक अनुमति दी थी, लेकिन अब शासनादेश जारी हो गया है। 20 अप्रैल से पूरे प्रदेश के जनसुविधा केंद्र और सीएससी खोले जाएंगे। यहां किसानों को पंजीकरण की सुविधा मिलेगी।

ये भी देखें: अभी-अभी सेना पर हमला: आतंकियों ने चलाई दनादन गोलियाँ, 2 जवान शहीद

लॉकडाउन की वजह से जनसुविधा केंद्र व कॉमन सर्विस सेंटर यानि सीएससी बंद चल रहे थे, सिर्फ मिनी बैंक ब्रांच वाले ही खुले हैं, लेकिन इन दिनों भीड़ चल रही है। लोग पेंशन, जनधन योजना के खातों व श्रमिकों को दी गई योजनाओं का पैसा निकालने के लिए पहुंच रहे हैं। अब किसानों की दिक्कतें दूर हो जाएंगी। उनको रजिस्ट्रेशन के लिए भटकना नहीं पड़ेगा। पंजीकृत कम्प्यूटर सेंटर खोलने का शासनादेश आ गया है।

क्या कहते हैं ई-डिस्ट्रिक मैनेजर

ई-डिस्ट्रिक मैनेजर बृजेश यादव ने बताया कि कन्नौज के ग्रामीण इलाकों में 405 जनसुविधा केंद्र चल रहे हैं। करीब 70 केंद्र शहरी क्षेत्र में होंगे। जो जनसुविधा केंद्र चले हैं ज्यादातर वही लोग सीएससी की फ्रेंचाइजी भी लिए हैं। यह भारत सरकार के अधीन है। सरकारी सेवाओं का लाभ जनसुविधा केंद्रों पर मिलता है, इसमें आय, जाति, निवास, पेंशन व खतौनी आदि सुविधाएं मिलती हैं। सीएससी पर रेल, एयर प्लेन, टिकट बुकिंग, बिजली बिल, एलआईसी किस्तव श्रम पंजीकरण आदि होते हैं।

क्या कहते हैं जिलाधिकारी

जिलाधिकारी राकेश कुमार मिश्र ने बताया कि जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों के जो जनसुविधा केंद्र रजिस्टर्ड हैं, 20 अप्रैल से वही खोले जाएंगे। दो दिन पहले मुख्य सचिव का जो आदेश आया था कि 20 तारीख से किन विभागों व सेवाओं की छूट मिलेगी, उसी में जिक्र है।

ये भी देखें: गला रेतकर महिला की हत्या: सोते समय वारदात को अंजाम, मचा हड़कंप

इनकी भी सुनो

जिला खाद्य विपणन अधिकारी समरेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि 15 से 17 अप्रैल तक जनपद के कुल नौ केंद्रों पर नौ किसानों ने 370 कुंतल गेहूं बिक्री किया है। आगे बिक्री की रफ्तार बढ़ेगी, खेतों में अभी कटाई भी चल रही है। जनपद में 39 खरीद केंद्र खोले गए हैं, जो हर रोज सुबह नौ से शाम छह बजे तक खोले जाएंगे। कुछेक केंद्रों पर ही पंजीकरण करने के लिए सुविधा भी शुरू हो गई है।

कन्नौज में गेहूं की फसल के बारे में जानकारी

-78750 हेक्टेयर जमीन में गेहूं की फसल हुई है।

-2.60 लाख किसान कृषि कार्य में लगे हैं।

-80 फीसदी किसान गेहूं की फसल करते हैं।

-35-40 कुंतल गेहूं एक हेक्टेयर में निकलता है।

-20-25 फीसदी गेहूं की अब तक कटाई हो चुकी है।

-4500 किसानों ने पिछले साल गेहूं बिक्री किया था।

-32894.61 मीट्रिक टन गेहूं की खरीद हुई थी।

-44000 मीट्रिक टन गेहूं खरीदने का लक्ष्य इस बार भी है।

-1985 रुपए कुंतल गेहूं खरीद का सरकारी रेट है।

-8 कंपनियों के 39 केंद्रों पर गेहूं खरीद की सुविधा है।

SK Gautam

SK Gautam

Next Story