×

देवरिया पुलिस के भ्रष्टाचार की खुली पोल, वर्दी को किया शर्मसार, 4 हुए सस्पेंड

देवरिया जिले में पुलिस के भ्रष्टाचार के बड़े मामले का खुलासा हुआ है। पशुओं से लदे वाहन को मेहरौना पुलिस चौकी पर तैनात सिपाहियों द्वारा छोड़े जाने के मामले में देवरिया एसपी ने बड़ी कार्रवाई की है।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 21 Feb 2021 2:53 PM GMT

देवरिया पुलिस के भ्रष्टाचार की खुली पोल, वर्दी को किया शर्मसार, 4 हुए सस्पेंड
X
पुलिस में बढ़ता भ्रष्टाचार, पशु तस्करों को पार कराया बिहार बॉर्डर, हुए निलंबित
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • koo

गोरखपुर: देवरिया जिले में पुलिस के भ्रष्टाचार के बड़े मामले का खुलासा हुआ है। पशुओं से लदे वाहन को मेहरौना पुलिस चौकी पर तैनात सिपाहियों द्वारा छोड़े जाने के मामले में देवरिया एसपी ने बड़ी कार्रवाई की है। तस्करों पर मेहरबानी के आरोपी चार पुलिसकर्मियों को जहां निलंबित कर दिया गया है, वहीं चौकी इंचार्ज को लाइन हाजिर किया गया है। मेहरौना चेकपोस्ट से पशु तस्करों को छोड़ने का वीडियो वायरल होने के बाद हुई जांच के बाद एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र ने यह कार्रवाई की है।

गाड़ी बिहार सीमा में आते ही पुलिस ने पकड़

लार थाना के मेहरौना पुलिस चौकी से होकर प्रतिदिन सैकड़ो की संख्या में वाहन यूपी और बिहार आते जाते हैं। आरोप है कि पशु तस्कर तस्करी के लिए इसी रास्ते का उपयोग करते हैं। पिछले दिनों एक वाहन पर तस्कर पशुओं को लाद कर मेहरौना पुलिस चौकी पहुंचे। वहां चौकी पर तैनात पुलिस कर्मियों ने तस्कर के दबाव में आकर गाड़ी को छोड़ दिया। तस्करों की गाड़ी जैसे ही बिहार की सीमा में पहुंची, सीवान जिले के गुठनी थाने की पुलिस ने पकड़ लिया। यह पुलिस चौकी हमेशा विवादों में रही है। एसपी डॉ.श्रीपति मिश्र का कहना है कि मेहरौना चौकी पर तैनात चार पुलिस कर्मियों को निलंबित करने के साथ ही चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर कर दिया गया है। पशु तस्करों से मिली भगत व लापरवाही पर यह कार्रवाई की गई है।

जांच में मिलीभगत की पुष्टि

मेहरौना चौकी पर तस्करों के साथ साठ-गाठ का वीडियो किसी ने बनाकर वायरल कर दिया। इसकी जानकारी एसपी डॉ. श्रीपति मिश्र को हुई तो उन्होंने लार के थानेदार टीजे सिंह को जांच सौंपी। टीजे सिंह ने जांच में मामला सही पाया और इसकी रिपोर्ट पुलिस अधीक्षक को दी। एसपी ने इसे गंभीरता से लेते हुए पुलिस चौकी पर तैनात कांस्टेबल अजीत कुमार, शैलेष कुमार, बबलू गिरि और हेडकांस्टेबल सचिदानन्द सिंह को निलंबित कर दिया। हेड कांस्टेबल सचिदानन्द सिंह डायल 112 में तैनात है। चौकी इंचार्ज अमरनाथ सोनकर को भी लाइन हाजिर कर दिया गया है।

ये भी पढ़ें : अम्बेडकरनगर: पुलिस मुठभेड़ में शातिर चोर घायल, एक साथी हुआ फरार

लॉकडाउन में वसूली करते पकड़ा गया था पीआरडी जवान

भ्रष्टाचार के चलते लॉकडाउन में एक दरोगा समेत 8 पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गए थे। 12 मई 2020 की रात एक ट्रक पर सवार होकर सादी वर्दी में सीओ पहुंचे तो पुलिसकर्मी रुपए वसूलते पाए गए। उस समय चौकी पर तैनात पुलिसकर्मियों के इशारे पर पीआरडी का जवान रुपया वसूलते पकड़ा गया था। इस मामले में एसपी के निर्देश पर मुकदमा भी दर्ज हुआ था।

रिर्पोट-पूर्णिमा श्रीवास्तव

ये भी पढ़ें : औरैया: पत्रकार बन युवकों ने मांगी रंगदारी, अब पुलिस कर रही तलाश

Monika

Monika

Next Story