Top

होलिका दहन नहीं होता यहां, वजह है बेहद खास, जानें फिर कैसे मनाई जाती है Holi

महाभारत कालीन स्वंयम्भू शिवलिंग स्थापित हैं और होलिका दहन की अग्नि से भोलेनाथ के पांव झुलस जाते हैं। ग्रामीणों का कहना है महाभारत काल से इस गांव में होलिका दहन नहीं किया जाता है।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 28 March 2021 1:23 PM GMT

होलिका दहन नहीं होता यहां, वजह है बेहद खास, जानें फिर कैसे मनाई जाती है Holi
X
होलिका दहन नहीं होता यहां, वजह है बेहद खास, जानें फिर कैसे मनाई जाती है Holi
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

सहारनपुर : रंगों के त्योहार होली को मनाने की तैयारियां जोरों पर चल रही हैं। जगह-जगह होलिका बनाकर उसका पूजन किया जा रहा है। वहीं सहारनपुर जनपद के बरसी गांव में होली पर्व को लेकर अनोखी परम्परा चली आ रही है। जिला मुख्यालय से लगभग 40 किमी दूर बरसी गांव में होलिका दहन नहीं किया जाता है। हालांकि ग्रामीण और गांव के युवा रंग और गुलाल लगाकर होली जरूर खेलते हैं।

महाभारत काल से इस गांव में होलिका दहन नहीं किया जाता

मान्यता है कि इस गांव में महाभारत कालीन स्वंयम्भू शिवलिंग स्थापित हैं और होलिका दहन की अग्नि से भोलेनाथ के पांव झुलस जाते हैं। ग्रामीणों का कहना है महाभारत काल से इस गांव में होलिका दहन नहीं किया जाता है, जबकि रीति रिवाज के मुताबिक गांव की शादीशुदा लडकियां पड़ोस के गांव में होली पूजन करके अपना त्योहार मनाती हैं।

होलिका पूजन करने से घर में सुख शांति एवं समृध्दि आती

होली को मनाने की तैयारियां देश भर में जोरों पर चल रही हैं। लोग रंगों की खरीददारी कर रहे हैं और मिठाइयां व पकवान बनाए जा रहे हैं। मान्यता है कि होलिका पूजन करने से घर में सुख शांति एवं समृध्दि आती है। होलिका दहन करके बुराई का अंत किया जाता है, लेकिन होली दिवाली समेत सभी त्योहारों को मनाने की शहरों एवं गांवों में अलग-अलग परंपराएं होती हैं। ऐसी ही अनोखी परंपरा सहारनपुर के बरसी गांव में देखने को मिलती है, जहां रंगो के त्योहार होली को रंग गुलाल के साथ तो धूमधाम से मनाया जाता है, लेकिन होलिका पूजन और दहन नहीं किया जाता है।

[video width="640" height="352" mp4="https://newstrack.com/wp-content/uploads/2021/03/saharanpur-video-1.mp4"][/video]

ये भी पढ़े...बांग्लादेश में भड़की हिंसाः पीएम मोदी के दौरे के बाद हिंदू मंदिरों पर हमला, 10 की मौत

महाभारत कालीन सिद्धपीठ शिव मंदिर

बरसी गांव में पहुंचकर इस अनोखी परम्परा की पड़ताल की तो इसके पीछे महाभारत काल से चली आ रही वजह सामने आई। ग्रामीणों ने बताया कि गांव बरसी में महाभारत कालीन सिद्धपीठ शिव मंदिर है, जहां स्वंम्भू शिवलिंग स्थापित है। बताया जाता है कि इस मंदिर को कौरवों ने बनवाया था, लेकिन कुरुक्षेत्र के युद्ध में जाते समय पांडव पुत्र भीम ने इसके मुख्य द्वार में गदा फंसाकर पूर्व से पश्चिम में घुमा दिया था। जिसके चलते यह देश का एक मात्र पश्चिममुखी शिव मंदिर माना जाता है. बताया ये भी जाता है कि कुरुक्षेत्र जाते समय भगवान कृष्ण भी इस गांव में रुके थे, तो उन्होंने इस गांव को बृज जैसा बताया था, तभी से इस गांव का नाम बरसी पड़ गया।

जानें क्यों नहीं मनाते इस गांव में होलिका दहन

ग्रामीणों के मुताबिक बरसी गांव में न तो लकड़ी की होली बनाई जाती है और न ही होली का पूजन किया जाता है। ग्रामीणों का कहना है कि स्वंयम्भू शिवलिंग होने के कारण भगवान शिव बरसी गांव में आते हैं। होलिका की अग्नि से भोले बाबा के पैर झुलस जाते हैं इसलिए बरसी गांव में न तो होली का पूजन किया जाता है और न ही होली जलाई जाती है। महाभारत काल से आज तक इस गांव में होली नहीं गई है. ग्रामीण आगे भी इस परंपरा को कायम रखने की बात करते हैं, जबकि गांव की शादीशुदा लड़कियां अपनी ससुराल के रीति रिवाज के मुताबिक पड़ोसी गांवो में जाकर होली पूजन कर अपना त्योहार मनाती हैं।

रिपोर्ट : नीना जैन

ये भी पढ़े...सोनभद्र: टेशू के फूल से महिलाओं को मिला रोजगार, कर रहीं ऐसा फायदेमंद काम

दोस्तों देश दुनिया की और को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story