अपराधियों को नहीं डर! सिर्फ इसलिए ग्राम प्रधान ने कर दिया कत्ल, 5 गिरफ्तार

बबीना थाने की पुलिस ने पांच दिन पहले हुए कत्ल का पर्दाफाश किया है। इस मामले में प्रधान समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। मृतक द्वारा प्रधान से उधार के…

झांसी: बबीना थाने की पुलिस ने पांच दिन पहले हुए कत्ल का पर्दाफाश किया है। इस मामले में प्रधान समेत पांच लोगों को गिरफ्तार कर लिया। मृतक द्वारा प्रधान से उधार के रुप में चार लाख रुपया लिया गया था। वापस न करने पर प्रधान ने अपने साथियों समेत घटना को अंजाम दे दिया। इस मामले में नामजद निर्दोष जेल जाने से बच गए हैं। गिरफ्तार किए गए आरोपियों को अदालत में पेश किया। वहां से उनको जेल भेजा गया।

ये भी पढ़ें: कोरोना का तांडव, देश में 8 लाख ज्यादा हुए संक्रमित, इन राज्यों में लगा लॉकडाउन

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक डी प्रदीप कुमार, पुलिस अधीक्षक नगर राहुल श्रीवास्तव, सीओ सदर हिमांशु गौरव के निर्देश पर बबीना थाना प्रभारी और एसओजी टीम 3/4 जुलाई को बबीना थाना क्षेत्र के सुकुवां ढुकुवां के पास हुई हत्या के आरोपियों की तलाश में लगी हुई थी। सूचना मिली कि हत्या करने वाले आरोपी चार पहिया वाहन में सवार होकर भागने की फिराक में है।

इस सूचना पर गई टीम ने घिसौली के पास चार पहिया गाड़ी समेत पांच लोगों को पकड़ लिया। बबीना थाना लाकर गहराई से पूछताछ की गई। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने रेलवे कर्मचारी मजबूत सिंह की हत्या करने की बात स्वीकार की है।

ये भी पढ़ें: विकास दुबे की पत्नी लेगी बदला! अंतिम संस्कार के बाद बोलीं- ‘सबका हिसाब करूंगी’

इसलिए रची थी हत्या की साजिश

ललितपुर के थाना बार के ग्राम प्रधान शंकर सिंह उर्फ महादेव ने पुलिस को बताया है कि मृतक रेल कर्मचारी मजबूत सिंह ने उससे चार लाख रुपया उधार लिया था। पैसा मांगने पर मृतक गाली गलौज एवं धमकी दे रहा था। साथ ही पैसा देने से मना कर रहा था। इसी बात पर उसने अपने साथियों के साथ मजबूत सिंह को सबक सिखाने की योजना बनाई थी। पुलिस के मुताबिक मजबूत सिंह जो रेलवे कर्मचारी था जो अपने बच्चे की स्कूल की फीस की एक रसीद बनवानी थी जिसको उसे अपने विभाग में देना था।

रसीद बनवाने के लिए उसने प्रधान शंकर सिंह उर्फ महादेव से चर्चा की थी। इसी बहाने शंकर व प्रमोद ने जेल चौराहे पर एक जुलाई को मजबूत सिंह को रसीदें देने कबहाने बुलाया। वहीं पर योजना के मुताबिक रसीद पर मोहर लगवाई गई थी। मोहन लगवाने के बहाने मजबूत सिंह अपनी बुलेरो गाड़ी से ललितपुर ले गए और ललितपुर से इधर-उधर घुमाते रहे।

ये भी पढ़ें: महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 7862 नए केस, 226 लोगों की मौत

ऐसे किया था मजबूत सिंह का मर्डर

पुलिस के मुताबिक 3/4 जुलाई की रात सुकुवां ढुकुवां रोड घिसौली की तरफ जाने वाले कच्चे रास्ते पर बुलेरो गाड़ी क्रमांक (यूपी94यू-8760) में अंगौछा से ही गला दबाकर हत्या कर दी और घटना को एक्सीडेंट का रुप देने के लिए लाश को सुकुवां ढुकुवां रोड पर फेंक दिया और लाश के पास एक मोटर साइकिल खड़ी कर दी ताकि पुलिस भ्रमित हो जाए। वहीं, उक्त घटना में मृतक की पत्नी श्रीमती मालती देवी निवासी ग्राम हसारकला पूराकला ललितपुर ने प्रेमनगर थाना क्षेत्र के नगरा कालोनी निवासी संदीप कुमार रजक के खिलाफ नामजद रिपोर्ट दर्ज कराई थी।

ये भी पढ़ें: J-K: राजौरी में पाकिस्तान की ओर से फायरिंग, भारतीय सेना दे रही मुंहतोड़ जवाब

इनकों किया गिरफ्तार

ललितपुर के थाना बार के ग्राम बम्होरी निवासी शंकर सिंह उर्फ महादेव (प्रधान), प्रमोद सिंह लोधी निवासी भागनगर सेमरा थाना बार, राजकुमार राजपूत निवासी ग्राम अंबावाय सीपरी बाजार झाँसी, अभिषेक ठाकुर निवासी पाल कालोनी ग्वालियर रोड झाँसी व पंकज सिंह ठाकुर निवासी सूतीमिल पाल कॉलोनी सीपरी बाजार को गिरफ्तार कर लिया। इनके पास से मृतक के मोटर साइकिल सीडी 100 व हत्या में प्रयुक्त की गई बुलेरो क्रमांक (यूपी94यू-8760) बरामद की गई है।

इस टीम को मिली सफलता

एसओजी प्रभारी शैलेन्द्र सिंह, बबीना थाना प्रभारी निरीक्षक हरिश्याम सिंह, सर्विलांस प्रभारी जितेन्द्र सिंह तक्खर, भेल चौकी प्रभारी अजमेर सिंह भदौरिया, हेड कांस्टेबल सुधीर कुमार सिंह, एसओजी टीम के सदस्य कांस्टेबल योगेन्द्र सिंह चौहान, कांस्टेबल दुर्गेश सिंह, पदम गोस्वामी, शैलेन्द्र सिंह, प्रदीप सेंगर, कांस्टेबल छत्रपाल सिंह, संजय सिंह, अजय कुमार व चालक रघुराज सिंह शामिल रहे हैं।

रिपोर्ट: बी.के. कुशवाहा

ये भी पढ़ें: अब झांसी में बेकाबू हुआ कोरोना, 4 दिन में आए इतने मरीज