कमलेश तिवारी हत्याकांड: पुलिस कि दस टीमें आपरेशन सर्च में जुटीं

उधर, घटना के बाद पुलिस की टीम आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाल रही है, जिसमें 25 कैमरों से पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे हैं। एसएसपी का कहना है कि मिले फुटेज के आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है। बता दें कि, कमलेश तिवारी की हत्या के बाद देर रात उनके शव को पुलिस सीतापुर के उनके मूल निवास महमूदाबाद लेकर चली गयी, जहां शनिवार देर शाम उनके शव का अंतिम संस्कार हुआ।

सर्विलांस के जरिए हत्यारों तक पहुंचने की कोशिश

लखनऊ। नाका में हुए हिन्दू समाज पार्टी के अध्यक्ष कमलेश तिवारी की हत्या करने वाले फरार आरोपियों की तलाश के लिए पुलिस ने 10 टीमें गठित की हैं। इसमें तीन टीमें जनपद के बाहर हत्यारोपियों की तलाश में दबिश दे रही है। वहीं, घटना स्थल के आस-पास मौजूद करीब 25 सीसीटीवी फुटेज को पुलिस ने खंगाला है, जिससे अहम सुराग हाथ लगे हैं।

इस कांग्रेसी नेता का बड़ा बयान- कमलेश तिवारी के बाद हो सकती है मेरी हत्या

एसएसपी कलानिधी नैथानी का कहना है कि, फरार हत्यारोपियों को जल्द गिरफ्तार कर लिया जायेगा। एसएसपी ने बताया कि, हत्याकांड को अंजाम देने वाले फरार आरोपियों की तलाश जारी है। इसके लिए 10 टीमें गठित की गई हैं, जिसमें से तीन टीमें जनपद से बाहर काम कर रहीं हैं, जबकि सात टीमें जनपद के अंदर ही हत्यारों की तलाश में जुटी हैं। वहीं, गुजरात कनेक्शन मिलने के बाद वहां पर एसपी क्राइम, सीओ हजरतगंज और सीओ गाजीपुर के नेतृत्व में बाहर भेजी गयी हैं।

25 कैमरों से मिले अहम सुराग

उधर, घटना के बाद पुलिस की टीम आस-पास लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगाल रही है, जिसमें 25 कैमरों से पुलिस को अहम सुराग हाथ लगे हैं। एसएसपी का कहना है कि मिले फुटेज के आधार पर आगे की कार्रवाई की जा रही है। बता दें कि, कमलेश तिवारी की हत्या के बाद देर रात उनके शव को पुलिस सीतापुर के उनके मूल निवास महमूदाबाद लेकर चली गयी, जहां शनिवार देर शाम उनके शव का अंतिम संस्कार हुआ।

कमलेश तिवारी हत्याकांड: कातिलों का सिर काटने वाले को ये शिवसैनिक देगा 1 करोड़

हत्याकांड में लखनऊ पुलिस ने गुजरात एटीएस की मदद से वहां पर तीन आरोपियों को हिरासत में लिया है। डीजीपी ओपी सिंह ने दावा किया कि हत्याकांड में इन तीनों आरोपियों का भी हाथ है, जिनसे पूछताछ की जा रही है। वहीं, वारदात को अंजाम देने वाले आरोपी अभी तक पुलिस के हत्थे नहीं चढ़े हैं। पुलिस का दावा है कि उनके बारे में भी अहम सुराग हाथ लग चुके हैं, जिन्हें जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जायेगा।

घर के बाहर बढ़ाई गई सुरक्षा व्यवस्था

वारदात के बाद लखनऊ पुलिस ने कमलेश तिवारी के घर के बाहर की सुरक्षा को बढ़ा दिया है। लखनऊ पुलिस का कहना है कि घटना के बाद पीएसी बल को सर्तक करके पूरे मामले पर नजर है। इसके साथ ही कमलेश तिवारी के घर के बाहर एक हेड कांस्टेबल और तीन सिपाही की तैनाती कर दी गयी है। इसके साथ ही स्थानीय पुलिस भी वहां पर सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेगी।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट में घाव के निशान

कमलेश तिवारी की हत्या बेरहमी से की गयी थी। पोस्टमार्ट में उनके शरीर पर करीब 16 से ज्यादा घाव मिले हैं। हत्यारों ने बेरहमी से उनके चेहरे, सीने, गर्दन समेत शरीर के कई हिस्सों पर चाकू से ताबड़तोड़ वार किये थे, जिसके कारण उनके चेहरे के बांयी मांसपेशी पर गहरा घाव था। इसके साथ ही हत्यारों ने उनके सीने के दोनों तरफ ताबड़तोड़ चाकू से वार किया था।

कमलेश तिवारी के परिवार को मिली सुरक्षा

प्रदेश सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके परिजनों की सुरक्षा 24 घंटे 4 गनर करेंगे, साथ ही पुलिस की गारद भी लगायी जाएगी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने कमलेश तिवारी की हत्या के बाद उनके परिवार की सुरक्षा के 24 घंटे ४ गनर के तैनाती का आदेश जारी कर दिया है, जो निःशुल्क है। उनके परिजनों के घर की सुरक्षा के लिए पुलिस लाइन से 1 हेड कांस्टेबल व 3 कांस्टेबल भी घर पर तैनात करने के भी आदेश जारी किये गए है। साथ ही सुरक्षा के लिहाज से स्थानीय थाने की पुलिस सहित पीएसी का गारद भी लगाए जाने का आदेश देर शाम को जारी कर दिया गया है।

उल्लेखनीय है कि राजधानी के नाका थाना क्षेत्र के खुर्शीद बाग कॉलोनी में हिंदू समाज पार्टी के नेता और हिंदू महासभा के पूर्व नेता कमलेश तिवारी को भगवा पहनकर हाथ में मिठाई का डिब्बा लिये आये बदमाशों ने दिनदहाड़े गोली मारकर घायल कर दिया, फिर चाकुओं से कई वार कर उन्हे मौत के घाट उतार दिया और फरार हो गये। गोलियों की आवाज सुनते ही क्षेत्र में अफरा- तफरी का माहौल बन गया। पुलिस को सूचना के बाद उन्हें तत्काल ट्रॉमा सेंटर ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने उन्हे मृत घोषित कर दिया। शनिवार को प्रदेश के डीजीपी ने खुलासा करते हुए कहा कि इस मामले से जुड़े गुजरात से सूरत से टी संदिग्धों को पकड़ा गया है, जल्द ही हत्या में शामिल अभियुक्तों को गिरफ्तार कर लिया जायेगा।