Top

कानपुर देहात: जिला न्यायालय में सरदार वल्लभ भाई पटेल की मनाई गई जयंती

जनपद न्यायाधीश द्वारा उपस्थित अधिकारीगण को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलवाते हुये कहा गया कि सरदार पटेल द्वारा 562 रियासतों का एकीकरण विश्व इतिहास का एक आश्चर्य था।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 31 Oct 2020 12:52 PM GMT

कानपुर देहात: जिला न्यायालय में सरदार वल्लभ भाई पटेल की मनाई गई जयंती
X
कानपुर देहात: जिला न्यायालय में सरदार वल्लभ भाई पटेल की मनाई गई जयंती (Photo by social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर देहात: यूपी राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देशानुसार तथा जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण , कानपुर देहात यशवंत कुमार मिश्रा के आदेश के अनुपालन में लौह पुरूष सरदार बालभभाई पटेल की जन्म जयन्ती पर जनपद न्यायालय माती के केन्द्रीय सभागार में राष्ट्रीय एकता दिवस का आयोजन , कोविड- 19 के दिशा निर्देशों के अन्तर्गत पूर्ण उत्साह व उमंग के साथ , सरदार पटेल की प्रतिमा पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित करते हुये किया गया।

ये भी पढ़ें:विकास दुबे को अरेस्ट कराने वाले महाकाल मंदिर के दो कर्मचारी अब भागे-भागे फिर रहे

जनपद न्यायाधीश द्वारा उपस्थित अधिकारीगण को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलवाते हुये कहा

जनपद न्यायाधीश द्वारा उपस्थित अधिकारीगण को राष्ट्रीय एकता दिवस की शपथ दिलवाते हुये कहा गया कि सरदार पटेल द्वारा 562 रियासतों का एकीकरण विश्व इतिहास का एक आश्चर्य था। इसी एकीकरण के लिये उन्हे लौह पुरूष की उपाधि मिली थी। उनके द्वारा सरदार पटेल के आदर्शों को अपने कार्य स्थल पर भी अपनाने हेतु सभी को प्रेरित किया गया। कार्यक्रम का संचालन सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण सोनाली पूनिया द्वारा किया गया।

kanpur-dehat-program kanpur-dehat-program (Photo by social media)

दिनांक 31.10.2020 को ही सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण , सोनाली पूनिया द्वारा, जिला कारागार , कानपुर देहात का विडियो कांफ्रेन्सिंग के माध्यम से निरीक्षण किया गया तथा उपस्थित उपजेलर राजेश राय को जिला कारागार में निरुद्ध महिला बंदियों के साथ रह रहे उनके बच्चो के प्रमाण पत्र बनवाने हेतु भी निर्देशित किया गया तथा बंदियों को जानकारी देते हुये बताया गया कि जिन बंदियों के पास उनके प्रकरण में पैरवी हेतु अधिवक्ता नही है वह अपने प्रार्थना पत्र अधीक्षक जिला कारागार के माध्यम से जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के कार्यालय को प्रेषित कर दे।

ये भी पढ़ें:बिगड़ती गई नवजात जुड़वां की हालतः हंगामें के बाद हरकत में स्वास्थ्य विभाग

जहां उन्हे निःशुल्क नामिका अधिवक्ता उपलब्ध करा दिये जायेंगे। साथ ही दिनांक 31.10.2020 को आयोजित ई-लोक अदालत में कुल 6 लम्बित वादो में से 4 वादो का निस्तारण अपर अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट साक्षी गर्ग द्वारा किया गया।

मनोज सिंह

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Newstrack

Newstrack

Next Story