Top

विकास दुबे को अरेस्ट कराने वाले महाकाल मंदिर के दो कर्मचारी अब भागे-भागे फिर रहे

पुलिस ऐसा क्यों कर रही है, इस प्रश्न के जवाब में एक कर्मचारी ने बताया कि विकास दुबे से पहले भदोही के एक विधायक भी वांछित चल रहे थे। वह भी महाकाल दर्शन करने आए थे।

Newstrack

NewstrackBy Newstrack

Published on 31 Oct 2020 12:45 PM GMT

विकास दुबे को अरेस्ट कराने वाले महाकाल मंदिर के दो कर्मचारी अब भागे-भागे फिर रहे
X
उसने ये भी बताया कि इस बार उसे अंतिम मौका देकर छोड़ा गया है। वर्तमान में भी दोनों कर्मचारी मंदिर में काम कर रहे हैं लेकिन उनकी व्यथा बरकरार है।
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

लखनऊ: यूपी के दुर्दांत अपराधी विकास दुबे को उज्जैन के महाकाल मन्दिर से अरेस्ट कराने वाले कर्मचारी बड़ी मुसीबत में फंस गये हैं। पुलिस ने तो पहले इनाम देने का वादा किया था लेकिन अब उन्हें मंदिर से बाहर करने का नोटिस थमा दिया गया।

कर्मचारियों का आरोप है कि मंदिर प्रशासन चाहता है कि कुख्यात अपराधी मंदिर में आए तो आंख-कान बंद कर लिए जाएं। नाम न छापने की शर्त पर एक कर्मचारी ने बताया कि बहादुरी के इनाम में मंदिर प्रशासन को पुलिस द्वारा नोटिस जारी किया।

इसमें लिखा गया था कि मंदिर के दो कर्मचारियों की गतिविधियां संदिग्ध है। इस पूरे मामले में वह लोग कुछ छिपा रहे हैं। इसलिए उन्हें मंदिर से बाहर कर दिया जाए। उन्हें यह नोटिस क्यों दिया गया।

Ujjain Mahakal उज्जैन का महाकाल मंदिर(फोटो:सोशल मीडिया)

ये भी पढ़ें…मुस्लिम कट्टरता पर बटी दुनिया, इमरान का गंदा खेल, महातिर का बयान खतरे की घंटी

पुलिस ने इसलिए उठाया ऐसा कदम

पुलिस ऐसा क्यों कर रही है, इस प्रश्न के जवाब में उसने बताया कि विकास दुबे से पहले भदोही के एक विधायक भी वांछित चल रहे थे। वह भी महाकाल दर्शन करने आए थे।

उनके बारे में उसके एक दोस्त ने उसे जानकारी दी थी तो उसने उन्हें भी पकड़वाया था। इस कारण मेरी गतिविधि संदिग्ध मान ली गई। उसने आरोप लगाया कि मंदिर प्रशासन और पुलिस चाहती है कि किसी शातिर को देखो तो आंख बंद कर लो, कुछ न कहो।

ये भी पढ़ें…JDU और RJD के लिए दूसरा चरण अहम, इन दो बड़े नेताओं की तय होगी किस्मत

इनाम की रकम के बारें में आज तक नहीं चला पता

उसने ये भी बताया कि इस बार उसे अंतिम मौका देकर छोड़ा गया है। वर्तमान में भी दोनों कर्मचारी मंदिर में काम कर रहे हैं लेकिन उनकी व्यथा बरकरार है। उनका कहना है कि उन्होंने ही सबसे पहले विकास को मंदिर के अंदर देखा था और पुलिस को उसके बारें में सूचना दी थी।

उसके बाद पुलिस ने वहां पहुंचकर विकास दुबे को अरेस्ट कर लिया था। विकास दुबे के ऊपर इनाम था। आज तक उसके बारें में भी कुछ भी अता पता नहीं चला।

भी पढ़ें…मौसम विभाग का अलर्ट: इन राज्यों में होगी बारिश और बर्फबारी, ठंड ने तोड़ा रिकॉर्ड

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें

न्यूजट्रैक के नए ऐप से खुद को रक्खें लेटेस्ट खबरों से अपडेटेड । हमारा ऐप एंड्राइड प्लेस्टोर से डाउनलोड करने के लिए क्लिक करें - Newstrack App

Newstrack

Newstrack

Next Story