Top

बिकरू कांड: नहीं बचेंगे विकास दुबे की मदद करने वाले पुलिसकर्मी, तय होगा दंड

एसआइटी ने इंस्पेक्टर रैंक से लेकर सिपाही तक के 37 पुलिसकर्मियों को दोषी माना था। और अब कानपुर डीआइजी ने वृहद दंड व लघु दंड पाए 12 पुलिस कर्मियों को नोटिस जारी किया है।

Roshni Khan

Roshni KhanBy Roshni Khan

Published on 21 Jan 2021 8:33 AM GMT

बिकरू कांड: नहीं बचेंगे विकास दुबे की मदद करने वाले पुलिसकर्मी, तय होगा दंड
X
बिकरू कांड: नहीं बचेंगे विकास दुबे की मदद करने वाले पुलिसकर्मी, तय होगा दंड (PC: social media)
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: उत्तर प्रदेश के कानपुर में थाना चौबेपुर के अंतर्गत 2 व 3 जुलाई की मध्यरात्रि हुए बिकरू कांड में अपराधी विकास दुबे के सहयोग करने वालों पर भी अब कार्रवाई की तलवार लटक रही है जिसके चलते एसआइटी की जांच के दौरान दोषी मिले पुलिसकर्मियों को नोटिस जारी होने का सिलसिला शुरू हो गया है।

ये भी पढ़ें:ज़िले के बंगरा में हुई अनोखी बैल गाड़ी दौड़, स्पा नेता पुष्पेंद्र यादव ने किया शुभारंभ

एसआइटी ने इंस्पेक्टर रैंक से लेकर सिपाही तक के 37 पुलिसकर्मियों को दोषी माना था। और अब कानपुर डीआइजी ने वृहद दंड व लघु दंड पाए 12 पुलिस कर्मियों को नोटिस जारी किया है। और नोटिस में एक निश्चित समय के अंदर आरोपित पुलिसकर्मियों को यह बताने को कहा गया है कि उन्होंने अपराधी विकास दुबे की मदद क्यों की और क्यों उसके जुर्मों पर पर्दा डाले रहे। नियमानुसार जवाब आने के बाद ही तय होगा कि कौन कितना दोषी है और उसे क्या दंड दिया जाए।

कौन-कौन थे दोषी पुलिसकर्मी -

एसआईटी जांच के दौरान धारा 14(2) लघु दंड के तहत एसआई दीवान सिंह,इंस्पेक्टर बजरिया राममूर्ति यादव, सिपाही विकास कुमार ,हेड कांस्टेबल चौबेपुर लायक सिंह, और कुंवर पाल सिंह तो वहीं धारा 14(1) बड़ा दंड के तहत एसआई चौबेपुर केके शर्मा व पूर्व एसओ चौबेपुर विनय तिवारी, (दोनों ही जेल में है) ,एसआई अजहर इशरत, कुंवर पाल सिंह, विश्वनाथ मिश्रा, रिक्रूट आरक्षी राजीव कुमार,सिपाही चौबेपुर अभिषेक कुमार, को आरोपित बनाया गया था।

ये भी पढ़ें:सबसे सस्ता Delhi NCR का ये बाजार, 20 रुपये से होम डेकोर का सामान

क्या बोले डीआईजी

डीआइजी कानपुर डॉ. प्रीतिन्दर सिंह ने बताया कि एसआईटी की जांच में पाया गया दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ नोटिस जारी की गई है और सभी को जल्द से जल्द नोटिस का जवाब देना होगा।

रिपोर्ट- अवनीश कुमार

दोस्तों देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story