कानपुर कांड: विकास दुबे से क्या है जय बाजपेई का कनेक्शन, लखनऊ उठा ले गई STF

उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के मामले में पुलिस ने जांच तेज कर दी है। पुलिस ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए घेराबंदी कर रही है। 4 दिन बीत जाने के बाद भी विकास दुबे पुलिस के हाथ नहीं आया है।

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के कानपुर में आठ पुलिस कर्मियों की हत्या के मामले में पुलिस ने जांच तेज कर दी है। पुलिस ने कुख्यात अपराधी विकास दुबे को गिरफ्तार करने के लिए घेराबंदी कर रही है। 4 दिन बीत जाने के बाद भी विकास दुबे पुलिस के हाथ नहीं आया है। एसटीएफ विकास के करीबियों को पकड़कर पूछताछ कर रही है।

अब इस बीच एसटीएफ ने एक शख्स को पकड़ा है जो विकास दुबे का बेहद करीबी है। एसटीएफ ने जिसे पकड़ा है वह विकास को चलने के लिए लग्जरी गाड़िया दिलाता था।

रविवार को विजय नगर में तीन लावारिस लग्जरी कारे मिलीं इन गाड़ियों से कुख्यात अपराधी विकास दुबे और उसके गुर्गों को जिला पार कराने की आशंका है। इन कार मालिक जय बाजपेई विकास दुबे का बेहद करीबी माना जाता है। 24 घंटे पूछताछ करने के बाद एसटीएफ उसे लेकर लखनऊ लेकर आई है।

यह भी पढ़ें…कानपुर एनकाउंटर: रातों-रात पुलिसकर्मियों का तबादला, इसलिए उठाया ये बड़ा कदम

एनकाउंटर में शामिल होने और बदमाशों के फरार होने में मदद करने का सुबूत मिलता है तो कार मालिक बाजेपई पर कार्रवाई तय है। विजय नगर चौराहे के पास शनिवार रात बगैर नंबर प्लेट की एक ऑडी, एक वेरना और एक फॅार्च्यूनर कार छोड़कर कुछ लोग भाग गए थे।

यह भी पढ़ें…विकास दुबे कांड: CM योगी ने अफसरों की बुलाई आपात बैठक, दिए ये सख्त निर्देश

जय बाजपेई से पूछताछ

रविवार सुबह स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी थी। पुलिस ने मौके से एक युवक को पकड़ लिया था। पुलिस को जानकारी मिली कि ब्रह्मनगर निवासी कारोबारी जय बाजपेई की कारें हैं। पुलिस ने जय बाजपेई से पूछताछ शुरू कर दी। उसके बाद एसटीएफ की टीम ने उसको हिरासत में लेकर जानकारी हासिल करनी शुरू कीं। सोमवार को टीम उसको लेकर लखनऊ रवाना हो गई।

यह भी पढ़ें…कानपुर कांड में बड़ा खुलासा, विकास दुबे ने यहां फेंके लूटे हथियार, जांच में जुटी पुलिस

पुलिस को है ये शक

विकास दुबे का बेहद करीबी जय बाजपेई प्रॉपर्टी के अलावा बीसी का भी काम करता है। पुलिस सूत्रों ने बताया है कि विकास कई मामले में जय का इस्तेमाल करता रहा है। पुलिस ने जय और उसके कई करीबियों की सीडीआर निकाली जिससे कई अहम सबूत पुलिस को मिले हैं। पुलिस और एसटीएफ की पूछताछ में इस तरह से कारें क्यों खड़ी की, इसका जवाब जय बाजपेई नहीं दे पा रहा है। पुलिस का शक गहरा गया है।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।