Top

कानपुर: जिस गांव में जाने से डरती थी पुलिस, अब वहां बनेगी पुलिस चौकी

उत्तर प्रदेश के थाना चौबेपुर के अंतर्गत पड़ने वाले गांव बिकरू में लंबे इंतजार के बाद अब पुलिस प्रशासन जागा है और पंचायत चुनाव से पहले इस गांव में भी पुलिस चौकी को स्थापित करने की कार्य योजना बनाई जा रही है।

Monika

MonikaBy Monika

Published on 17 Feb 2021 1:39 PM GMT

कानपुर: जिस गांव में जाने से डरती थी पुलिस, अब वहां बनेगी पुलिस चौकी
X
कानपुर: जिस गांव में जाने से डरती थी पुलिस, अब बनेगी वहां पर पुलिस चौकी
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • Facebook
  • Twitter
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print

कानपुर: उत्तर प्रदेश के थाना चौबेपुर के अंतर्गत पड़ने वाले गांव बिकरू में लंबे इंतजार के बाद अब पुलिस प्रशासन जागा है और पंचायत चुनाव से पहले इस गांव में भी पुलिस चौकी को स्थापित करने की कार्य योजना बनाई जा रही है।सूत्रों की माने तो अपराधी विकास दुबे के राजनैतिक पकड़ और दबंगई के चलते इस गांव में चौकी बनाने को लेकर पुलिस प्रशासन के द्वारा कभी कोई कदम उठाया ही नहीं गया लेकिन एसआईटी के सुझाव और अपराधी विकास दुबे के अंत के बाद गांव में चौकी बनाए जाने की रूपरेखा बनानी शुरू कर दी गई है।

विकास की दहशत के चलते कभी नहीं बनी चौकी

थाना चौबेपुर के अंतर्गत पड़ने वाला गांव बिकरू में अपराधी विकास दुबे की दहशत के चलते जल्दी-जल्दी गांव में पुलिस प्रवेश भी नहीं करती थी तो चौकी का निर्माण बहुत दूर की बात थी।ग्रामीणों की माने तो घनी आबादी वाले इस गांव को बहुत पहले ही चौकी मिल जानी चाहिए थी लेकिन विकास की दहशत व राजनैतिक पकड़ के चलते कभी भी पुलिस प्रशासन ने इस ओर ध्यान नहीं दिया जिसका नतीजा यह हुआ की गांव के अंदर होने वाले छोटे-मोटे विवाद विकास दुबे ही निपटाता था और अगर कोई भूल से भी थाने चला गया तो वह अपराधी विकास के क्रोध का शिकार हो जाता था जिसके चलते कभी ग्रामीणों ने भी लिखित तौर पर गांव में चौकी की मांग कभी नहीं करी।

एसआईटी ने भी खड़े किए थे सवाल

सूत्रों की माने तो बिकरू कांड के बाद जांच कर रही एसआईटी ने भी अपनी रिपोर्ट में चौकी ना बनाए जाने पर सवाल खड़े किए थे और सुझाव दिया था कि सुरक्षा की दृष्टि से घनी आबादी वाले इस गांव में चौकी का निर्माण कार्य कराया जाना चाहिए एसआईटी के इस सुझाव के बाद आनन-फानन में पुलिस प्रशासन ने गांव में एक दारोगा और करीब एक दर्जन सिपाहियों की तैनाती की गई थी लेकिन कांड के 8 महीने बीत जाने के बाद भी चौकी के लिए भूमि की मांग नहीं करी गई थी लेकिन अब पंचायत चुनाव से पहले पुलिस प्रशासन ने जिला प्रशासन से चौकी के लिए भूमि की मांग की गई है।

ये भी पढ़ें : 19 फरवरी को मथुरा दौरे पर जाएंगी प्रियंका गांधी, जानिए पूरा कार्यक्रम

क्या बोले डीआईजी

बिकरू गांव में चौकी बनाए जाने को लेकर डीआइजी डॉ.प्रीतिंदर सिंह ने बताया कि जिला प्रशासन को पत्र लिखकर भूमि आवंटित करने के लिए कहा गया है भूमि आवंटित होते ही चौकी का निर्माण शुरू कराया जाएगा।

रिपोर्ट - अवनीश कुमार

ये भी पढ़ें : मथुरा: खोई जमीन तलाश रही RLD, जयंत चौधरी बोले- कृषि कानून वापस ले सरकार

Monika

Monika

Next Story