अनोखी अपील: गणपति बप्पा पंडाल में हेलमेट और सीटबेल्ट

गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर चारों तरफ गणपति की धूम मची हुई है । पूरे देश में गणेश पंडाल सजे हुए हैं । कानपुर के बर्रा जे सेक्टर में गणपतिबप्पा की एक अनोखी आरती उतारी गई, जिससे समाज को एक अलग मैसेज देने का काम रही है । हाथो में विभिन्न स्लोगन की लिखी हुई तख्तियां लेकर ढोल नगाड़ो और शंख के साथ हेलमेट लगाकर आरती की गई ।

Published by SK Gautam Published: September 9, 2019 | 6:09 pm
Modified: September 9, 2019 | 6:12 pm

कानपुर: एक तरफ नए ट्राफिक नियमों को लेकर सोशल मीडिया पर जंग छिड़ी हुई है । वहीं गणेश पंडाल पर बड़ी संख्या में लोग हेलमेट लगाकर गणपति की आरती कर रहे हैं । ढोल मंजीरे के साथ गणपति बप्पा की आरती कर रहे हैं इसके साथ ही लोगों से अपील कर रहे हैं  कि हेलमेट लगाकर और सीट बेल्ट लगाकर चलें । खुद भी सुरक्षित रहें  और अपने परिवार का भविष्य भी सुरक्षित रखें ।

 

ये भी देखें : सावधान लुंगी-बनियान वालों! अगर पहनकर किया ये काम, तो भरना पड़ेगा भारी चालान

गणपति पंडाल में हेलमेट लगाकर हुई आरती

गणेश चतुर्थी के पावन पर्व पर चारों तरफ गणपति की धूम मची हुई है । पूरे देश में गणेश पंडाल सजे हुए हैं । कानपुर के बर्रा जे सेक्टर में गणपति बप्पा की एक अनोखी आरती उतारी गई, जिससे समाज को एक अलग मैसेज देने का काम रही है । हाथो में विभिन्न स्लोगन की लिखी हुई तख्तियां लेकर ढोल नगाड़ो और शंख के साथ हेलमेट लगाकर आरती की गई ।

सुरेश त्रिपाठी के मुताबिक आज सभी ने हेलमेट लगाकर गणेश भगवान की आरती की है । एक मैसेज देने का काम किया गया है कि सभी लोग हेलमेट और सीट बेल्ट लगाकर चलें । ट्राफिक नियमों का पालन करें जिससे सभी लोग सुरक्षित रहें ।

चालान की धनराशि थोड़ा संसोधन करने की आवश्यकता है-

वैभव मिश्रा के मुताबिक सरकार ने जो नियम लागू किए हैं उसका सभी लोग पालन करें । आप अपनी सुरक्षा करेंगे तो आप के पीछे आप के परिवार के सदस्यों का भविष्य भी सुरक्षित रहेगा । लेकिन सरकार ने चालान में जो धनराशि निर्धारित की है उसमें थोड़ा संसोधन करने की आवश्यकता है । जनता यातायात नियमों का पालन करेगी ।

ये भी देखें : एक्ट्रेस को गंभीर बीमारी: जिसको चला पता वो रह गया दंग

उन्होंने कहा कि सात से आठ हजार रुपए कमाने वाला शख्स 10 हजार रुपए का चलान कहां से भर पाएगा । हमारी सरकार से अपील है कि इस दिशा में संसोधन करने की जरूत है ।