×

होगा आरक्षण: इस विभाग के ठेकों को लेकर आई बड़ी खबर, हुआ ये ऐलान

उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि लोक निर्माण विभाग, सेतु निगम व राजकीय निर्माण निगम में 40 लाख तक के ठेकों में पिछड़े वर्ग अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के ठेकेदारों को आरक्षण दिए जाने का प्राविधान जल्द से जल्द किया जायेगा।

Roshni Khan
Updated on: 13 Jun 2020 1:47 PM GMT
होगा आरक्षण: इस विभाग के ठेकों को लेकर आई बड़ी खबर, हुआ ये ऐलान
X
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo
  • Whatsapp
  • Telegram
  • Linkedin
  • Print
  • koo

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने कहा है कि लोक निर्माण विभाग, सेतु निगम व राजकीय निर्माण निगम में 40 लाख तक के ठेकों में पिछड़े वर्ग अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के ठेकेदारों को आरक्षण दिए जाने का प्राविधान जल्द से जल्द किया जायेगा। इस संबंध में उन्होंने सभी संबंधित उच्च अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वह जल्दी से जल्दी इसका प्रस्ताव बनाकर प्रस्तुत करें, इसमें किसी भी तरह की लापरवाही या शिथिलता बर्दाश्त नहीं होगी।

ये भी पढ़ें:शादी की पहली रात: पति ने पत्नी के साथ किया ऐसा काम, जानेंगे तो कांप जायेगी रूह

उन्होंने कहा कि उनकी मंशा है कि ठेकेदारी में सभी वर्गों के लोगों को उचित प्रतिनिधित्व मिले। उन्होंने कहा कि आरक्षण के प्रावधान करने से जहां आरक्षित वर्ग के लोगों को काम करने का भरपूर अवसर मिलेगा। वही ठेका में और अधिक प्रतिस्पर्धा भी पैदा होगी, जिससे कम लागत में अच्छे से अच्छे काम हो सकेंगे।

उन्होंने कहा कि उनकी मंशा है कि सभी कार्यदाई संस्थाओं एवं/विभागों में ठेकों मे आरक्षण की व्यवस्था हो जाए तो, ज्यादा अच्छा रहेगा। केशव प्रसाद मौर्य ने बताया कि अनुसूचित जाति के ठेकेदारों को 21प्रतिशत, अनुसूचित जाति जनजाति के ठेकेदारों को 2 प्रतिशत, पिछडे़ वर्ग के ठेकेदारों को 27 प्रतिशत तथा सामान्य वर्ग के गरीब ठेकेदारों को 10 प्रतिशत आरक्षण का प्राविधान किया जाएगा।

ये भी पढ़ें:बढ़ेगा अपना यूपी: 995 करोड़ की लागत से कराए जाएंगे 274 विकास कार्य

केशव प्रसाद मौर्य ने कहा कि यही नहीं, बी-टेक व डिप्लोमाधारी बेरोजगार सिविल इंजीनियरों को भी 10 लाख तक के ठेकों में भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए प्रोत्साहित किया जाएगा और उन्हें भी काम देने का प्रावधान किया जाएगा। उन्होंने कहा कि बेरोजगार सिविल इन्जीनियर्स को इसके लिए बैंकों से लिंकेज करा कर ऋण दिलाने की भी कार्यवाही की जाएगी। बेरोजगार युवा इंजीनियरों को ठेकेदारी में प्रतिभागिता से जहां उनकी ऊर्जा का भरपूर उपयोग हो सकेगा, वहीं वह आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर होने मे सक्षम हो सकेंगे।

देश दुनिया की और खबरों को तेजी से जानने के लिए बनें रहें न्यूजट्रैक के साथ। हमें फेसबुक पर फॉलों करने के लिए @newstrack और ट्विटर पर फॉलो करने के लिए @newstrackmedia पर क्लिक करें।

Roshni Khan

Roshni Khan

Next Story