कोटेदार ने गरीबों के राशन पर डाला डाका, प्रशासन ने की कड़ी कार्रवाई

तहसील मड़िहान क्षेत्र के खण्डवर मझारी गांव के कोटेदार द्वारा गरीबों के राशन घोटाला का एक मामला प्रकाश में आया है। एसडीएम मड़िहान विमल कुमार दुबे ने मामले को गंभीरता से लेते हुये जांच हेतु आपूर्ति निरीक्षक विनोद तिवारी को भेजा था।

मीरजापुर: तहसील मड़िहान क्षेत्र के खण्डवर मझारी गांव के कोटेदार द्वारा गरीबों के राशन घोटाला का एक मामला प्रकाश में आया है। एसडीएम मड़िहान विमल कुमार दुबे ने मामले को गंभीरता से लेते हुये जांच हेतु आपूर्ति निरीक्षक विनोद तिवारी को भेजा था। जांच में मामला सही पाये जाने पर एसडीएम ने कोटे के दुकान को निरस्त करने हेतु डीएम को पत्र भेज दिया।

खण्डवर मझारी गांव का कोटेदार रामफल मौर्या द्वारा वर्षाे से मृतक के नाम पर खाद्यान्न उठाकर डकार जाता था। गांव के कार्डधारकों को भी यूनिट कम करके ही खाद्यान्न वितरण करता था।

यह भी पढ़ें…यूपी का ऐसा अस्पताल: कोरोना से जंग देश का साथ, कर रहा ये सराहनीय काम

बुधवार को गांव के ही मालती पत्नी स्व0 रघुनाथ ने एसडीएम को दूरभाष पर बताया कि कोटेदार द्वारा पात्र गृहस्थी कार्ड के साथ नरेगा मजदूर है। लेकिन कोटेदार ने पैसे लेकर गल्ला दिया। जिसकी सूचना पर मामले को एसडीएम ने संज्ञान में लेकर गुरुवार को गांव में कोटे की जांच करने हेतु आपूर्ति निरीक्षक को भेजा था। जहां जांच के दौरान पता चला कि मृतक के नाम पर भी कोटेदार द्वारा खाद्यान्न सामग्री उठाकर डकार जाता रहा।

यह भी पढ़ें…जमातियों के लिए बुलाये गए आर्मी डॉक्टर, BSF जवान कर रहे निगरानी

राजगढ़ विकास खंड में भी एक मामला ऐसा ही देखने को मिला। जिसमे राजगढ़ विकास खण्ड के कोन गढ़वा में भी कोटेदार अमृत लाल गुप्ता द्वारा ग्रामीणों के अंगूठा लगवाने के बाद खाद्यान्न वितरण नहीं करने का मामला प्रकाश में आया था। जिसकी जांच हेतु खण्ड विकास अधिकारी को सौंपा गया था। जांच में मामला सही मिला था जिसके निरस्तीकरण हेतु एसडीएम ने डीएम को पत्र भेज दिया है। बताया जाता है कि इसके पूर्व भी ग्रामीणों के शिकायत पर कोटे की दुकान निलंबित हो चुकी है।

रिपोर्ट: बिजेंद्र दूबे